BREAKING NEWS

आज का राशिफल (21 सितम्बर 2020)◾शशि थरूर ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना , कहा - सरकार को संकट में 'चेहरा छिपाने' का मौका मिला है◾IPL-13 : रबाडा की घातक गेंदबाजी, दिल्ली कैपिटल ने सुपर ओवर में मारी बाजी◾लोकसभा ने देर रात 40 मिनट में चार विधेयक किये पारित ◾अलकायदा आतंकी साजिश के मुख्य आरोपी मुर्शिद हसन ने दक्षिण, पूर्वी भारत में कई जगहों की यात्रा की : NIA◾भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच छठे दौर की बातचीत कल, पहली बार विदेश मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी होंगे शामिल◾कृषि बिल: राहुल गांधी बोले- सरकार ने कृषि विधेयकों के रूप में किसानों के खिलाफ मौत का फरमान निकाला◾राज्यसभा में विपक्ष के अमर्यादित आचरण पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- सदन में विपक्षी सदस्यों का आचरण शर्मनाक◾ IPL-13: स्टोइनिस की 21 गेंदों में 53 रनों की तूफानी पारी की बदौलत दिल्ली ने पंजाब के सामने 153 रनों का रखा लक्ष्य◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में संक्रमण से 455 और मरीजों की मौत, 20 हजार से अधिक नए मामलें◾रामविलास पासवान ICU में भर्ती, बेटे चिराग ने लिखा भावुक पत्र◾पांच राज्यों में कोरोना के 60 % मामलें सक्रिय, 52 प्रतिशत नए केस : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राज्यसभा में पास हुआ कृषि बिल असंवैधानिक और किसानों के खिलाफ : कांग्रेस◾कोविड-19 : उत्तर प्रदेश में संक्रमण के 5809 नए मामलें की पुष्टि, 94 और मरीजों की मौत◾कृषि विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शनों के चलते दिल्ली की सीमाओं पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात◾राज्यसभा में कृषि बिल पास होने से नाराज विपक्ष उपसभापति के खिलाफ लाया अविश्वास प्रस्ताव◾कृषि बिल पास होने पर बोले PM मोदी-आज का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक◾बिल पास होने पर बोले नड्डा, मोदी सरकार ने पिछले 70 वर्षों के अन्याय से किसानों को कराया मुक्त◾विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा में पास हुए केंद्र सरकार के कृषि बिल◾कृषि बिल को लेकर राज्यसभा में घमासान, TMC सांसद ने स्पीकर के आगे फाड़ी रूल बुक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

BCI ने की वकीलों से हड़ताल खत्म करने की अपील, बहिष्कार करने पर दी कार्रवाई की चेतावनी

नयी दिल्ली : बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने वकीलों से बृहस्पतिवार से अपने काम पर लौटने की अपील करते हुए उन्हें चेतावनी दी है कि यहां सभी छह जिला अदालतों से उनकी अनुपस्थिति को उच्चतम न्यायालय गंभीरता से ले सकता है और हड़ताल जारी रहने पर उनके खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। वहीं, समन्वय समिति ने कहा कि वकील बृहस्पतिवार को भी काम पर नहीं आएंगे। इसने इंडिया गेट पर प्रदर्शन करने और 15 नवंबर को संसद मार्च कर ने का भी संकल्प लिया है। 

जिला अदालतों के वकील बुधवार को भी काम पर नहीं लौटे। वे उन पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं जिन्होंने नवंबर की शुरूआत में हुई झड़प में कथित तौर पर गोली चलाई थी। बीसीआई ने कहा कि 10 दिनों के लिये हड़ताल निलंबित करने के लिये सहमत होने के बावजूद यह देख कर वह दुखी है। 

बीसीआई अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने एक बयान में कहा कि बार नेताओं को बार काउंसिल के उनके संबद्ध कार्यालयों या बार एसोसिएशनों से हटाया जा सकता है और भविष्य में बार चुनाव लड़ने से अयोग्य भी करार दिया जा सकता है। मिश्रा ने कहा, ‘‘हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि दिल्ली में अदालतों से लंबे समय तक वकीलों की अनुपस्थिति को उच्चतम न्यायालय बहुत गंभीरता से लेगा तथा बीसीआई, बार काउंसिल ऑफ दिल्ली, समन्वय समिति तथा दिल्ली के बार एसोसिएशनों को अवमानना कार्यवाही का सामना करना पड़ सकता है। 

इस बीच, बुधवार को ही दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई, जिसमें वकीलों और पुलिस के बीच हुई झड़प के बाद जिला अदालतों में हड़ताल के दौरान वादियों, पुलिसकर्मियों और आम लोगों को कथित तौर पर पीटने वाले वकीलों के खिलाफ कार्रवाई किये जाने का अनुरोध किया गया है। मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने बुधवार को कहा कि वर्तमान में पुलिस और वकीलों के बीच मुद्दों को हल किया जा रहा है। पीठ ने मामले की सुनवाई की तिथि 11 फरवरी, 2020 तय की। 

सामाजिक कार्यकर्ता अजय गौतम द्वारा दाखिल जनहित याचिका (पीआईएल) में आरोप लगाया गया है कि प्रदर्शनकारी वकीलों ने वादियों को अपने मामलों की सुनवाई में शामिल होने के लिए अदालत परिसरों में प्रवेश करने से रोका। हड़ताल के कारण वकील अदालतों में पेश नहीं हो रहे हैं। याचिका में दावा किया गया है कि जिला अदालतों में लगातार हड़ताल से अधीनस्थ अदालतों में न्यायिक कार्यवाही बाधित हो रही है।