BREAKING NEWS

महागठबंधन में किचकिच, राजधानी में उपेंद्र कुशवाहा, मांझी, सहनी, शरद व प्रशांत किशोर की बैठक◾PM मोदी, सोनिया , आडवाणी और अमित शाह से मिले उद्धव ठाकरे, कहा- किसी को भी NPR और CAA से डरने की जरूरत नहीं◾केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंत्रिसमूह की बैठक की अध्यक्षता की ◾शाहीनबाग : तीसरे दिन भी नहीं निकला हल, लेकिन बातचीत में सुरक्षा को लेकर बनी सहमति◾Trump के भारत दौरे से पहले SJM ने 'नॉनवेज दूध' को लेकर दी चेतावनी◾व्यापार समझौते को अधर में लटकाने के बाद ट्रंप बोले - Modi के पास Facebook पर जनसंख्या लाभ◾दलितों पर अत्याचार के मामले में दलगत राजनीति से ऊपर उठकर कार्रवाई की जानी चाहिए - पासवान◾अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ मुलाकात के लिए अब तक कोई निमंत्रण नहीं : कांग्रेस ◾PM मोदी के बाद सोनिया गांधी से मिले महाराष्ट्र के CM उद्धव ठाकरे◾महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान पशुपतिनाथ मंदिर में दर्शन के लिए काठमांडू पहुंचे 6,000 से ज्यादा संत◾देश में राजनीति के समक्ष 'विश्वसनीयता का संकट' पैदा होने के लिए राजनाथ ने नेताओं को ठहराया जिम्मेदार◾कमलनाथ ने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर Modi सरकार पर साधा निशाना, कहा - सबूत अब तक देश के लोगों को नहीं दिए◾कार और डंपर की टक्कर में पांच लोगों की मौत ◾संजय राउत ने AIMIM पर लगाया आरोप, कहा- भारतीय मुसलमानों के दिमाग में जहर घोलने का काम कर रही है AIMIM◾TOP 20 NEWS 21 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾29 अप्रैल से कर पाएंगे केदारनाथ मंदिर में दर्शन ◾शाहीन बाग : नोएडा-फरीदाबाद रोड कुछ देर खोलने के बाद पुलिस ने फिर लगाई बैरिकेडिंग ◾CM बनने के बाद आज पहली बार दिल्ली आएंगे उद्धव ठाकरे,PM मोदी से करेंगे मुलाकात ◾देशभर में महाशिवरात्रि की धूम, मंदिरों में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब◾राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दिए संकेत, भारत के साथ हो सकता है बेजोड़ व्यापार समझौता◾

AAP के 20 विधायकों के खिलाफ लाभ का पद मामला होने वाला है निष्फल

चुनाव आयोग द्वारा आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों के खिलाफ ‘लाभ का पद’ मामले की चल रही सुनवाई दिल्ली विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद निष्फल होने वाली है। दिल्ली में आठ फरवरी को विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसकी घोषणा छह जनवरी को की गई थी। मतगणना 11 फरवरी को होगी। 

याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया था कि संसदीय सचिव होने के नाते आप विधायकों ने लाभ का पद धारण किया और वे विधायक के तौर पर अयोग्य करार दिए जाने के भागी हैं। आयोग के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया, "चुनाव की घोषणा के बाद, सभी विधायकों की सदस्यता अब वस्तुत: खत्म हो गई है। अयोग्यता का मामला अब निष्फल होने वाला है।" ये बीसों विधायक आगामी चुनाव लड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। 

जनवरी 2018 में इन विधायकों को चुनाव आयेाग की सिफारिश पर अयोग्य करार दिया गया था। लेकिन उसी साल मार्च में दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा फैसले को रद्द कर दिया गया। चुनाव आयोग द्वारा विधायकों के पक्ष को मौखिक रूप से नहीं सुने जाने पर गौर करते हुए उच्च न्यायालय ने कहा कि न्याय के नैसर्गिक सिद्धांत का पालन नहीं किया गया। इसके बाद उच्च न्यायालय ने उन्हें अयोग्य करार देने के फैसले को रद्द कर दिया था। 

उच्च न्यायालय के आदेश के आधार पर चुनाव आयोग ने मामले की नये सिरे से सुनवाई शुरू की। नये सिरे से सुनवाई के दौरान आप विधायकों ने याचिकाकर्ता से जिरह की मांग की जिसे चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया था। चुनाव आयोग ने कहा कि उपलब्ध दस्तावेज पर्याप्त हैं और याचिकाकर्ता से जिरह करने की कोई जरूरत नहीं है। विधायकों ने चुनाव आयोग के आदेश को दिल्ली उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी, जो लंबित है।