BREAKING NEWS

देश में एक दिन की वृद्धि के बाद फिर घटे कोरोना के एक्टिव केस, संक्रमितों का आंकड़ा 59 लाख के पार ◾बॉलीवुड से जुड़े ड्रग केस की जांच के लिए तैयार NCB, दीपिका पादुकोण एजेंसी के सामने हुईं पेश ◾दुनियाभर में कोरोना केस 3 करोड़ 24 लाख के पार, 9 लाख 87 हजार से अधिक की मौत◾पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, भारत ने दिया करारा जवाब ◾ अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर जानिये उनसे जुड़ी ख़ास बातें ◾पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर बोले राहुल- उनके जैसे गंभीर प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है देश ◾ अमेरिका में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 70 लाख के पार ◾ बिहार के 'रोबिनहुड' ने नीतीश की जमकर तारीफ की, NDA में हो सकते हैं शामिल ◾संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोले पोप फ्रांसिस- कोरोना महामारी बदलाव के लिए अवसर है ◾आज का राशिफल (26 सितम्बर 2020)◾बिहार चुनाव में NDA को जीत का अनुमान : सर्वे ◾बिहार विधानसभा चुनाव में NDA ने सेट किया तीन चौथाई बहुमत का टारगेट◾UN में भाषण के दौरान पाक PM इमरान खान ने RSS और कश्मीर का मुद्दा उठाया, भारत ने किया बायकॉट◾CSK vs DC (IPL 2020) : दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को 44 रन से हराया◾UP में विधानसभा उपचुनाव के लिये राजनीतिक दलों ने कसी कमर◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट, संक्रमितों का आंकड़ा 13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 17,794 नए केस◾IPL-13: पृथ्वी शॉ का तूफानी अर्धशतक, दिल्ली ने चेन्नई के सामने रखा 176 रनों का लक्ष्य◾कोविड-19 : हर्षवर्धन ने बोले- देश की स्वास्थ्य सेवा से मृत्यु दर न्यूनतम और ठीक होने की दर अधिकतम रही◾राहुल गांधी ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार पर रत्ती भर भी भरोसा नहीं ◾IPL 2020 CSK vs DC: चेन्नई सुपर किंग्स ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का किया फैसला◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कांग्रेस को अपने सर्वे में मिलीं मात्र दर्जन भर सीटें

नई दिल्ली : कांग्रेस ने दिल्ली में विधानसभा चुनाव को देखते हुए एक सर्वे कराया है, जिसमें कांग्रेस को एक दर्जन के करीब सीटें मिलने का दावा किया गया है। दूसरी तरफ सट्टा बाजार भी कांग्रेस का दिल्ली में खाता खुलने का दावा कर रहा है, सट्टा बाजार 4-5 सीटें दे रहा है। कांग्रेस को अपने सर्वे में दिल्ली विधानसभा सीटों की संख्या 10-12 यानी डबल डिजिट में पहुंच रही है। सर्वे में इतनी सीटें देख कांग्रेसी भले ही बहुत खुश नहीं है लेकिन संतुष्ट जरूर दिख रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि इस सर्वे को देखते हुए कांग्रेसी दावा करने लगे हैं कि अगर ऐसा हो जाता है तो दिल्ली की सत्ता की चाबी उनके हाथ में  होगी। 

क्योंकि आप और भाजपा दोनों ही अपनी जीत का दावा कर रहे हैं, ऐसे में कांग्रेस की ओर से यह कहा जाना कि दस सीटें आने पर उनके हाथ में सत्ता की चाबी होगी, इसका साफ संकेत गठबंधन की ओर जाता है। ​पिछले दिनों यह बात भी उठी थी कि क्या कांग्रेस, आम आदमी पार्टी के साथ विधानसभा चुनावों में गठबंधन करेगी? कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा की ओर से बयान आया था कि कांग्रेस किसी भी कीमत पर आप पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी, लेकिन सर्वे के बाद जिस तरह कहा जा रहा है कि सत्ता की चाबी कांग्रेस के पास होगी, उसको देखते हुए गठबंधन की चर्चा शुरू हो गई है। 

कांग्रेस दावा कर रही है कि दिल्ली में हालात ऐसे हो गए हैं, जिसमें कांग्रेस को सीटें जरूर मिलेंगी। सीएए व एनआरसी के मुद्दे को कांग्रेस ने जिस तरह से हवा दी है, उससे कांग्रेस को लगने लगा है कि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में कांग्रेस की जीत सुनिश्चित है। फिलहाल यह देखने वाली बात है कि मुस्लिम बाहुल्य कितनी विधानसभा सीटें दिल्ली में हैं।

25 सीटों पर होंगे नए चेहरे...

प्रदेश कांग्रेस से खबर आई है कि इस बार दिल्ली की 70 सीटों में से कम से कम 25 सीटों पर नए चेहरों को मौका मिलने वाला है। दावा किया जा रहा है कि दिल्ली के कुछ पूर्व विधायकों के साथ-साथ कांग्रेस ऐसे प्रत्याशियों को भी टिकट देगी, जो पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। 

प्रदेश कांग्रेस में प्रत्याशियों के चयन को लेकर माथापच्ची चल रही है। कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस से टिकट मांगने वालों की कोई कमी नहीं है? इसके लिए जल्द ही स्क्रीनिंग कमेटी के साथ बैठक भी होनी है।

सीएम उम्मीदवार पर कांग्रेस में चुप्पी...

मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम पर कांग्रेस चुप है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस बिना मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतरेगी। इसके पीछे कहा जा रहा है कि कांग्रेस पहले विधानसभा में जीरो सीटों के टैग से मुक्त होना चाहती है। 

दिल्ली में प्रदेश कांग्रेस में पिछले एक महीने के भीतर ऊर्जा का संचार हुआ है। कांग्रेस हर मुद्दे पर भाजपा और आप पार्टी को घेरने में लगी है। दूसरी तरफ रणनीति तैयार करने के लिए वार रूम का निर्माण हो गया है।