BREAKING NEWS

लखीमपुर खीरी हिंसा मामला : आशीष मिश्रा डेंगू से पीड़ित , अस्पताल में कराया गया भर्ती ◾दिवाली पर कैबिनेट सहयोगियों के साथ पूजा करेंगे CM केजरीवाल◾ कांग्रेस चाहे जिस प्रतिज्ञा का ढोंग करे, जनता उसे सत्ता से बाहर रखने का संकल्प ले चुकी है: BJP ◾चीन की आकांक्षाओं के कारण दक्षिण एशिया की स्थिरता पर ‘सर्वव्यापी खतरा’ :जनरल रावत◾हर दलित बच्चे को उत्तम शिक्षा मिलनी चाहिए, लेकिन 70 सालों में वह पूरा नहीं हुआ: CM केजरीवाल◾ पंजाब में कोई पोस्टिंग गिफ्ट और पैसे के बिना नहीं हुई: सिद्धू की पत्नी ने लगाया आरोप◾यूपी में दलितों के बाद सबसे अधिक नाइंसाफी मुसलमानों के साथ हुई, यादव और दलित से सबक लो: ओवैसी ◾आर्यन के लिए झलका दिग्विजय का दर्द, बोले- शाहरुख के बेटे हैं इसलिए प्रताड़ित किया जा रहा◾ आतंकवाद का खात्मा करने के लिए करें अंतिम वार, कश्मीरियों से बोले शाह- एक बार POK से कर लेना तुलना◾BJP का NCP पर निशाना, कहा- NCB अधिकारियों को कार्रवाई करनी चाहिए ताकि मलिक को परिणाम का पता चले◾योगी ने सुलतानपुर में मेडिकल कॉलेज समेत 126 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया◾सीएम अरविंद केजरीवाल जाएंगे अयोध्या, 26 अक्टूबर को करेंगे रामलला के दर्शन◾ हवाई सेवा शुरू करना दिखावटी कदम, कश्मीर की वास्तविक समस्या का समाधान नहीं : महबूबा◾बांग्लादेश की आर्थिक प्रगति और समृद्धि के लिए भारत हमेशा एक साझेदार के तौर पर प्रतिबद्ध रहेगा: हर्षवर्धन श्रृंगला ◾कानून मंत्री के सामने ही CJI एनवी रमन्ना ने अदालतों की जर्जर इमारतों पर खड़े किये सवाल ◾CJI एनवी रमन्ना ने किरण रिजिजू के सामने, कानून व्यवस्था को लेकर कही ये बात◾प्रियंका का वादा- अगर कांग्रेस सरकार बनी तो नौकरी और बिजली के साथ किसानों का पूरा कर्ज होगा माफ◾यूपी: अयोध्या कैंट के नाम से जाना जाएगा फैजाबाद रेलवे जंक्शन, CM योगी का फैसला◾ T20 World Cup: महा मुकाबले में पाक को चित करने के लिये तैयार हैं भारतीय खिलाडी◾कोविड टीकाकरण आंकड़ों पर लोगों को गुमराह कर रही है मोदी सरकार, देश को बताएं हकीकत : कांग्रेस◾

कुतुब मीनार में 27 मंदिर तोड़कर बनी मस्जिद, मामले में कोर्ट ने 27 अप्रैल तक के लिए टाली सुनवाई

राजधानी दिल्ली में स्थित कुतुब मीनार परिसर में 27 हिंदू और जैन मंदिरों को दोबारा बनाए जाने की मांग वाली याचिका पर दिल्ली की एक अदालत ने सुनवाई को 27 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है। बीते साल 24 दिसंबर को साकेत कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई की थी और इसे 6 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया था। साकेत स्थित सिविल जज नेहा शर्मा की अदालत में दाखिल वाद में कहा गया है कि ‘मुगल बादशाह कुतुबुद्दीन ऐबक ने 27 हिंदू-जैन मंदिरों को तोड़कर वहां मस्जिद बनवा दिया। 

इसके साथ ही इस याचिका में यह भी दावा किया गया है कि तोड़े गए सभी 27 मंदिरों के पत्थर एवं निर्मित फूल पत्तियों, हिंदू धर्म के मुताबिक नक्काशी किए गए पत्थर एवं मंदिर के अन्य सामानों से मस्जिद बनाने का आरोप लगाया। याचिका में कहा गया है कि परिसर में स्थित उस मस्जिद में भगवान विष्णु, गणेश, कमल, स्वास्तिक आदि कई ऐसे चिन्ह मौजूद हैं जो यह साबित करता है कि यह जगह हिंदू मंदिरों की थी और उन्ही मंदिरो को तोड़कर वहां मस्जिद बनाई गई है। 

दिल्ली की अदालत में दाखिल इस याचिका में उस जगह पर देवी-देवताओं को पुनर्स्थापना करने और हिंदू और जैन धर्म के अनुयायियों को पूजा-पाठ करने का अधिकार देने की मांग की है। अदालत में यह मुकदमा भगवान विष्णु और पहले जैन तीर्थंकर ऋषभदेव की ओर से दाखिल किया गया है। अधिवक्ता हरिशंकर जैन ने याचिका में अदालत से केंद्र सरकार और भारतीय पुरात्तव सर्वेक्षण विभाग को एक ट्रस्ट बनाने का आदेश देने की भी मांग की है। 

दाखिल याचिका के मुताबिक मोहम्मद गौरी के गुलाम कुतुबुद्दीन ने दिल्ली आते ही सबसे पहले हिंदुओ के 27 मंदिरों को तोड़ने का आदेश दिया जो ग्रहों की गणना के लिए महरौली में बनाए गए थे। महरौली को पहले मिहरावली कहा जाता था। इसमें यह भी कहा गया है कि जल्दी बाजी में मंदिरों को तोड़कर बची हुई सामग्री से ही कुव्वत उल इस्लाम नाम का मस्जिद सन 1192 में बना दिया गया। कुव्वत उल इस्लाम का मतबल इस्लाम की ताकत। 

याचिका में कहा गया है कि मस्जिद बनाने का मकसद इबादत से ज्यादा स्थानीय हिंदू एवं जैन मंदिरों को तोड़ना था। उस मस्जिद में मुसलमानों ने कभी नमाज नहीं पढ़ी क्योंकि मस्जिद की दीवारों, खंभे, मेहराबों, दीवारों और छत पर जगह-जगह हिंदू देवी देवताओं की मूर्तियां थी। जिन्हें आज भी देखा जा सकता है।