BREAKING NEWS

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को संबोधित करेंगी राष्ट्रपति मुर्मू◾आज का राशिफल (14 अगस्त 2022)◾‘हर घर तिरंगा’ मुहिम को मिली प्रतिक्रिया से बहुत खुश एवं गौरवान्वित हूं : PM मोदी◾उद्धव ने CM शिंदे पर साधा निशाना , कहा - शिवसेना कोई खुले में रखी चीज नहीं कि कोई उसे उठा ले जाए◾Independence Day : देशभक्ति के जोश में डूबी दिल्ली, तिरंगे से जगमगाती प्रतिष्ठित इमारतें◾सावधान ! चीनी मांझे का खतरा बरकरार : कुछ लोगों की जा चुकी है जान , कई लोग घायल◾हर घर तिरंगा अभियान : मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय पर फहराया तिरंगा ◾CM योगी ने वीर जवानों की सराहना की , कहा - देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया◾NGT चीफ और जयराम रमेश ने उपराष्ट्रपति धनखड़ से की मुलाकात ◾विपक्ष के 11 दलों ने ईवीएम, धनबल और मीडिया के ‘दुरुपयोग’ के खिलाफ लड़ने का किया संकल्प◾ पाक : बारूदी सुरंग हमले में एक जवान की मौत, दो घायल◾ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोलीं- लोगों से अपने घरों पर तिरंगा फहराने का आग्रह करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं मोदी ◾J-K News: जम्मू कश्मीर में आतंकियों का कहर! श्रीनगर में ग्रेनेड हमले में CRPF का एक जवान घायल◾जयराम ठाकुर ने कहा- पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग से केंद्र को अवगत कराऊंगा◾ उपराज्यपाल सिन्हा का दावा - आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कील ठोकेगी सरकार◾Delhi: सिसोदिया ने कहा- स्कूलों के छात्र उद्यमिता......... कम उम्र में स्टार्ट-अप स्थापित कर रहे◾16 को होगा महागठबंधन सरकार का शपथ ग्रहण समारोह, कांग्रेस की भागीदारी तय ◾तिरंगा अभियान पर मोदी की मां ने बढ़ चढ़कर लिया भाग, पीएम की मां ने बाटे तिरंगे◾आत्मनिर्भर चाय वाली मोना पटेल की चर्चा देश में होगी और वह ब्रांड बनेगी:चिराग पासवान◾हिमाचल में सामूहिक धर्मांतरण जिहाद-रोधी विधेयक ध्वनिमत से पारित ◾

JNU Violence: अलग-अलग FIR के लिए दायर याचिका को कोर्ट ने किया खारिज

दिल्ली की एक अदालत ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर द्वारा इस साल 5 जनवरी को जेएनयू परिसर में छात्रों और शिक्षकों पर हमले की एक अलग प्राथमिकी दर्ज करने की मांग करने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पवन सिंह राजावत ने बुधवार को आदेश पारित करते हुए कहा कि वह इस बात से संतुष्ट थे कि शिकायतकर्ता द्वारा की गई शिकायत पर एक अलग प्राथमिकी दर्ज करने के लिए किसी निर्देश की आवश्यकता नहीं थी।

हालांकि, अदालत ने अपराध शाखा के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) को एफआईआर की जांच पर स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया, जो इस संबंध में दर्ज की गई है। अदालत ने अपने आदेश में कहा कि शिकायतकर्ता सहित कई व्यक्तियों को लगी चोटें एक हिंसक कृत्य का परिणाम थीं। अदालत जेएनयू की प्रोफेसर सुचित्रा सेन द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें भीड़ के खिलाफ एक अलग प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की गई थी। 

हिंसक घटना के दौरान याचिकाकर्ता को भी गंभीर चोटें आई थीं। बता दें कि दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने जेएनयू हिंसा मामले पर एक स्टेटस रिपोर्ट भी दाखिल की थी जिसमें कहा गया था कि मामले की जांच जारी है और सभी हमलावरों की पहचान करने और समय-सीमा में जांच के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। बता दें कि 5 जनवरी 2020 को साबरमती टी-पॉइंट पर हुई घटना में आवेदक सुचरिता सेन भी घायल हो गई और उन्होंने 6 फरवरी 2020 को पीएस वसंत कुंज (उत्तर) में एक अलग शिकायत दर्ज की। 

इस शिकायत को अपराध शाखा में स्थानांतरित कर दिया गया। जांच के दौरान, 20 फरवरी को सुचरिता सेन का बयान दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 161 के तहत दर्ज किया गया। सुचरिता सेन का एमएलसी दर्ज किया गया। जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइश घोष सहित विश्वविद्यालय के 30 से अधिक छात्र घायल हो गए और एम्स ट्रॉमा सेंटर में ले जाने के बाद एक नकाबपोश भीड़ ने यूनिवर्सिटी में प्रवेश किया इसके बाद छात्रों और प्रोफेसरों पर लाठी और डंडों से हमला कर दिया गया।