BREAKING NEWS

अनिल मेनन बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, बन सकते हैं चांद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय◾PM मोदी ने SP पर साधा निशाना , कहा - लाल टोपी वाले लोग खतरे की घंटी,आतंकवादियों को जेल से छुड़ाने के लिए चाहते हैं सत्ता◾ किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए राकेश टिकैत ने कही ये बात◾DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾

दिल्ली में हर साल 1-15 नवंबर के बीच होता है सबसे ज्यादा प्रदूषण, आज से एंटी डस्ट अभियान शुरू

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) द्वारा पिछले पांच वर्षों में एकत्रित किए गए आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में 1 नवंबर से 15 नवंबर के बीच हवा सबसे ज्यादा प्रदूषित होती है। इसका कारण पराली और पटाखों से निकलने वाला धुआं है, जो दिल्ली को एक स्वास्थ्य आपातकाल में ढकेल देता है। 

ग्रेडड रिस्पांस एक्शन प्लान के अंतर्गत दिल्ली सरकार के पर्यावरण विभाग के विश्लेषण में पाया गया है कि 1 नवंबर से 15 नवंबर के बीच PM 2.5 का स्तर 285 के आसपास होता है। जो भी गंभीर श्रेणी में आता है। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि 1 से 15 नवंबर के बीच राजधानी में प्रदूषण काफी गंभीर स्थिति में होता है। इसका मुख्य कारण है पंजाब और हरियाणा के खेतों से पराली का आया हुआ धुआं। वहीं दिवाली के दौरान पटाखों से स्थिति और ज्यादा खराब हो जाती है। 

एक अधिकारी ने बताया कि इस दौरान प्रदूषण की प्रमुख वजह पंजाब और हरियाणा में बड़ी संख्या पराली जलाना है। 15 अक्टूबर से पराली जलाने की घटनाए बढ़ जाती है। इसका सीधा असर दिल्ली में नवंबर महीने में नजर आता है। अधिकारी ने कहा कि इसके अलावा पिछले चार-पांच सालों में दिवाली या तो अक्टूबर के अंत में या नवंबर के पहले 15 दिनों में मनाई जा रही है। 

हालांकि पिछले साल पटाखों पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध था, लेकिन फिर भी उल्लंघन के मामले सामने आए थे। क्योंकि प्रतिबंध की घोषण अंतिम समय में की गई थी। इसके अलावा लोगों ने गाजियाबाद और गुरुग्राम जाकर भी पटाखे खरीदे। पिछले साल 2020 में दिवाली 14 नवंबर, 2019 में 27 अक्टूबर, 2018 में 7 नवंबर, 2017 में 19 अक्टूबर और 2016 में 30 अक्टूबर को मनाई गई थी। यी सिलसिला इस साल भी जारी रह सकता है क्योंकि दिवाली 4 नवंबर को मनाई जाएगी। 

एंटी डस्ट अभियान की शुरुआत

वहीं दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए आज से एंटी डस्ट अभियान की शुरुआत होगी। इसके अंतर्गत साइट पर निर्माण संबंधी नियमों को लागू करना जरूरी होगा। नियमों का पालन नहीं करने पर एनजीटी के दिशा-निर्देशों के अनुसार 10 हजार रुपए से लेकर 5 लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया जाएगा। इसकी निगरानी के लिए 31 टीमों का गठन किया गया है। 

इसमें दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति की 17 और ग्रीन मार्शल की 14 टीमें शामिल हैं। पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि निर्माण साइटों पर निर्माण संबंधी 14 नियमों को लागू करना जरूरी है। इसके संबंध में सार्वजनिक नोटिस जारी किया जा चुका है। इसी के साथ सीएंडडी वेस्ट के स्वयं ऑडिट और प्रबंधन के लिए ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पहले चरण के अभियान में टीमें मोबाइल वैन के साथ अलग-अलग इलाकों में निगारानी का काम करेंगी।  इसके लिए पूर्वी दिल्ली, उत्तर-पूर्वी, शाहदरा, दक्षिण-पूर्वी, दक्षिण-पश्चिम में डीपीसीसी की एक-एक टीम लगाई गई है।