BREAKING NEWS

लोकसभा में कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने उठाया चुनावी बॉन्ड का मुद्दा◾साध्वी प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की समिति में मिली जगह, कांग्रेस ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण◾दिल्ली : महाराष्ट्र में शिवसेना संग गठबंधन पर सीडब्ल्यूसी ने लगाई मुहर ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन की प्रकिया 1 दिसंबर से पहले हो जाएगी पूरी : संजय राउत ◾दिल्ली : सोनिया गांधी के आवास पर सीडब्ल्यूसी की बैठक, महाराष्ट्र पर चर्चा की संभावना◾झारखंड विधानसभा चुनाव : पहले चरण में भाजपा के लिए सीटें बचाना हुआ मुश्किल , 'अपने' दे रहे कड़ी टक्कर ◾पेट्रोल, डीजल के दाम में वृद्धि पर लगा ब्रेक, देखें पूरी लिस्ट◾भारत को सौंपे गए तीन और राफेल विमान, पायलट-टेक्नीशियंस का प्रशिक्षण शुरू : सरकार◾भारत को सौंपे गए तीन और राफेल विमान, पायलट-टेक्नीशियंस का प्रशिक्षण शुरू : सरकार◾दिल्ली में निशुल्क यात्रा की योजना लागू होने के बाद से महिला यात्रियों की हिस्सेदारी 10 फीसदी बढ़ी ◾तीसहजारी कांड : दिल्ली पुलिस ने अदालत में दाखिल की प्रगति रिपोर्ट, SIT जांच में मांगा सहयोग◾लोकसभा से चिट फंड संशोधन विधेयक 2019 को मंजूरी◾महाराष्ट्र की राजनीतिक तस्वीर साफ हुई, जल्द बन सकती है शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार ◾मंत्रिमंडल ने 1.2 लाख टन प्याज आयात की मंजूरी दी : सीतारमण◾NC, PDP ने कश्मीर में सामान्य हालात बताने पर केंद्र की आलोचना की◾पृथ्वी-2 मिसाइल का रात के समय सफलतापूर्वक परीक्षण ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर जल्द मिलेगी गुड न्यूज : राउत ◾सकारात्मक चर्चा हुई, जल्द सरकार बनेगी : चव्हाण◾'हिटलर की बहन' वाले बयान पर बेदी का मुख्यमंत्री पर पलटवार◾यशवंत सिन्हा ने 22 से 25 नवंबर तक कश्मीर यात्रा की घोषणा की ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली महिला आयोग की मांग , CM खट्टर, विजय गोयल के खिलाफ दर्ज हो FIR

दिल्ली महिला आयोग ने शनिवार को कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री एम एल खट्टर और राज्यसभा सदस्य विजय गोयल की कथित लैंगिक और अमर्यादित टिप्पणियों के लिए उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए। यहां जारी किए एक बयान में डीसीडब्ल्यू ने कहा कि उनके कृत्यों और टिप्पणियों से न केवल कश्मीरी बेटियों और बहनों की गरिमा को ठेस पहुंची है बल्कि उनकी प्रतिष्ठा को भी नुकसान हुआ है। 

राहुल गांधी बोले- कश्मीरी महिलाओं पर CM खट्टर का बयान RSS के प्रशिक्षण का प्रमाण

डीसीडब्ल्यू ने कहा है कि देशभर की महिलाओं और लड़कियों पर भी इसका असर पड़ा है। बयान में कहा गया है कि उनके बयानों से पहले से ही संवेदनशील कश्मीर के इलाके में हिंसा भड़क सकती है। महिला आयोग ने कहा, ‘‘उच्च संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों द्वारा दिए गए ऐसे बयान पितृसत्तात्मक समाज की धारणा का समर्थन करते हैं और महिलाओं तथा लड़कियों की अहमियत और आवाज को कम करते हैं।’’ 

डीसीडब्ल्यू की टिप्पणी खट्टर के उस बयान पर आयी है जिसमें उन्होंने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि अब हरियाणा के लोग कश्मीर से दुल्हन ला सकेंगे। उनका इशारा संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म कर जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिये जाने की ओर था। खट्टर ने शुक्रवार को फतेहाबाद में एक कार्यक्रम में कहा, 'अगर लड़कियों की तादाद लड़कों से कम हो तो दिक्कतें हो सकती हैं।

अनुच्छेद 370 : CM खट्टर का विवादित बयान, बोले- अब हम भी ला सकते कश्मीरी बहू

हमारे (ओ पी) धनखड़जी ने कहा था कि उन्हें (दुल्हनों को) बिहार से लाना होगा। लेकिन कुछ लोगों ने कहा, कश्मीर खुला है, लिहाजा उन्हें (दुल्हनों को) वहां से लाया जाएगा। लेकिन मजाक से हटकर, सवाल यह है कि अगर अनुपात (लिंग अनुपात) सही रहे तो समाज में संतुलन ठीक रहेगा।' दूसरी ओर, महिला आयोग ने गोयल को उनके दिल्ली आवास के बाहर कथित तौर पर कश्मीरी लड़कियों के लिए होर्डिंग लगाने के लिए फटकार लगाई।

महिला आयोग ने कहा, ‘‘ऐसे समय में जब कई राज्य हाई अलर्ट पर है तो पूरे राज्य की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाली इस तरह की असंवेदनशील और मूर्खतापूर्ण टिप्पणियां हिंसा बढ़ा सकती है।’’ उसने कहा, ‘‘आयोग दोनों मामलों में अधिकार क्षेत्र के मुद्दे पर विचार किए बगैर प्राथमिकी दर्ज करने की पुरजोर अनुशंसा करती है।’’ उसने दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा से 14 सितंबर तक मामले में की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है। अभी गोयल की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है।