BREAKING NEWS

अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री से मुलाकात की ◾ओवैसी बोले- डराइए मत, शाह बोले- अगर डर जेहन में है तो क्या करें ◾मोदी ने असम के मुख्यमंत्री से फोन पर बात की, बाढ़ का हाल पूछा ◾Top 20 News -15 July : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रह सकते है कर्नाटक के बागी विधायक ◾ बिहार में बाढ़ का कहर जारी, 55 प्रखंड के 18 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित ◾उदयपुर में बढ़ा तनाव : उग्र भीड़ ने दो रोडवेज बसें फूंकी, पुलिसकर्मियों पर किया पथराव◾लोकसभा में NIA संशोधन विधेयक 2019 को मिली मंजूरी◾सिद्धू के इस्तीफे पर बोले कैप्टन - यदि वह अपना काम नहीं करना चाहते, तो मैं कुछ नहीं कर सकता◾NIA कानून का इस्तेमाल शुद्ध रूप से आतंकवाद को खत्म करने के लिए ही करेंगे : अमित शाह ◾हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल नियुक्त हुए कलराज मिश्रा, आचार्य देवव्रत को भेजा गया गुजरात ◾ओवैसी को शाह की नसीहत, बोले - सुनने की भी आदत डालिए साहब, इस तरह से नहीं चलेगा◾बीजेपी ने CM कुमारस्वामी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की ◾सूरत रेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की आसाराम की जमानत याचिका◾इलाहाबाद हाई कोर्ट से अगवा हुए युवक-युवती फतेहपुर से बरामद, अपहरणकर्ता गिरफ्तार ◾इलाहाबाद HC का आदेश, BJP विधायक की बेटी साक्षी और अजितेश को मिलेगी सुरक्षा◾बागी कर्नाटक विधायकों ने फिर लिखा पुलिस को पत्र, कहा- कांग्रेसी नेताओं से खतरा ◾हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत ढही , 6 जवान समेत सात लोगों की मौत◾चंद्रयान-2 का काउंटडाउन रोका गया , जल्द ही नई तारीख का होगा ऐलान !◾World Cup 2019 ENG vs NZ : स्टोक्स और ‘बाउंड्री’ के दम पर इंग्लैंड बना विश्व चैंपियन ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली के भ्रष्ट-दागी अफसर होंगे जबरन रिटायर

नई दिल्ली : दिल्ली सरकार में काम करने वाले भ्रष्ट, दागी और निक्कमे अधिकारियों एवं कर्मचारियों की अब खैर नहीं है। सरकार ने इन अधिकारियों और कर्मचारियों को ऐसा सबक सिखाने का निर्णय लिया है जिसे वे ताउम्र नहीं भूलेंगे। दिल्ली सरकार अपने विभागों में काम करने वाले भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों को जबरन रिटायर करेगी। सरकार ने सभी कैबिनेट मंत्रियों को भ्रष्ट अधिकारियों की सूची तैयार करने के निर्देश दिये हैं। विभाग इसके लिए काम शुरु कर देंगे। 

जबरन रिटायरमेंट देने के निर्णय पर उपराज्यपाल की स्वीकृति के बाद दिल्ली सरकार ने भी अपनी मुहर लगा दी है। इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्य सचिव विजय कुमार देव के साथ बैठक की थी। बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने अपने सभी कैबिनेट सदस्यों को अपने-अपने विभागों में ऐसे अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सूची तैयार करने का निर्देश दिया है, जिन्हें भ्रष्टाचार के चलते जबरन सेवानिवृत्त किया जा सके। 

यह सेंट्रल सिविल सर्विसेस (पेंशन) रूल्स, 1972 के फंडामेंटल रूल 56 (जे) के तहत ऐसे अधिकारियों और कर्मचारियों को सेवानिवृत्त करने की केन्द्र सरकार के पहल की तर्ज पर होगा। महज चार दिन पहले बृहस्पतिवार को एलजी ने भी मुख्यसचिव, डीडीए उपाध्यक्ष और पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर एक माह में ऐसे अधिकारियों और कर्मचारियों की रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया था जो भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं दिल्ली सरकार शुरू से ही भ्रष्ट अधिकारियों और भ्रष्टाचार के खिलाफ कठोरता बरतने की नीति पर काम करती रही है। 

अरविंद केजरीवाल ने बतौर मुख्यमंत्री अपनी सरकार के 49 दिनों के पहले कार्यकाल के दौरान ही भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई का आदेश दिया था। वर्तमान कार्यकाल में भी दिल्ली सरकार भ्रष्टाचार और के प्रति 'जीरो टॉलरेंस' की नीति अपना रही है। ऐसे अधिकारी दिल्ली के लोगों के लिए बनाई जाने वाली विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को बर्बाद कर रहे हैं और जनता के हक के पैसों से अपना घर भर रहे हैं।