BREAKING NEWS

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का किया ऐलान◾बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमला : भाजपा नेता दिलीप घोष हसीना पर नरम, ममता पर गरम◾केंद्र को भाजपा में सही सोचने वाले लोगों की सुननी चाहिए: किसान नेताओं ने कहा◾भारत-पाक टी-20 को लेकर 'AAP' ने की मांग, कहा- कश्मीर में नागरिकों की हत्या को देखते हुए रद्द हो मैच ◾लखीमपुर हिंसा मामले में SIT का नया पैंतरा, छह तस्वीरें जारी कर कहा- पहचान बताने वाले को देंगे इनाम◾पाकिस्तान सेना का दावा- भारत की पनडुब्बी को अपने समुद्री क्षेत्र में घुसने से रोका! जारी की वीडियो फुटेज ◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: कृषि मंत्री की वायरल फोटो पर मचा बवाल, तोमर के साथ दिखे निहंग अमनदीप सिंह◾बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमले दोनों देशों के रिश्तों को कमजोर करने की साजिश: CM बिप्लब देब◾बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने गृह मंत्री से कहा-हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ जल्द करे कार्रवाई◾घोषणाओं के बजाय प्रतिज्ञा को तरजीह देगी कांग्रेस, UP की राजनीति महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़ी : सुप्रिया श्रीनेत ◾प्रियंका के महिलाओं को टिकट देने के ऐलान को मायावती ने बताया कांग्रेस की कोरी चुनावी नाटकबाजी◾बंगाल उपचुनाव : BJP उम्मीदवार के साथ धक्का-मुक्की, कहा- प्रचार से रोकने के TMC ने की ऐसी हरकत◾पाकिस्तान की उम्मीदें एक बार फिर होंगी तार-तार! FATF की ग्रे सूची में बने रहने की संभावना◾चुनाव प्रचार के दौरान मछली मारते नजर आए तेजस्वी, RJD ने CM नीतीश पर कसा तंज ◾हिंदी ना आने पर भिड़े कस्टमर और जोमैटो का कर्मचारी, विवाद बढ़ने पर कंपनी को मांगनी पड़ी माफी ◾उत्तराखंड में भारी बारिश से मची तबाही, मरने वालों की संख्या 11 हुई, कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका◾कश्मीर में बढ़ रही हिंसा पर बोले राहुल गांधी-मोदी सरकार सुरक्षा देने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुई◾प्रियंका गांधी ने किया बड़ा ऐलान- यूपी चुनाव में कांग्रेस 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देगी◾'टारगेट किलिंग' से बढ़ते भय के बीच अमित शाह ने PM मोदी से की मुलाकात, आंतरिक सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर की चर्चा ◾सेना प्रमुख नरवणे ने LOC के अग्रिम इलाकों का किया दौरा,घुसपैठ रोधी अभियानों की दी गयी जानकारी◾

DU - दूसरी कट ऑफ में ही फुल हुई 60 फीसदी सीटें, 16 अक्टूबर को जारी होगी तीसरी लिस्ट

दिल्ली विश्वविद्यालय में 100 फीसदी और उसके आसपास कटऑफ रहने के बावजूद कुल 70 हजार सीटों में से करीब 60 फीसदी सीटों पर दाखिले पूरे हो चुके हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय में अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों के लिए दूसरे चरण के दाखिले का अंतिम दिन है। यह दाखिला प्रक्रिया 13 अक्टूबर मध्य रात्रि को समाप्त हो रही है। विश्वविद्यालय अब तक मिले आवेदनों के आधार पर 14 अक्टूबर तक छात्रों के आवेदन को मंजूरी देगा। इन आवेदनों के लिए 15 अक्टूबर तक फीस जमा की जा सकती है। 

कटऑफ में औसतन 0.25 फीसदी से लेकर 3 फीसदी तक गिरावट

दिल्ली विश्वविद्यालय की पहली कट ऑफ लिस्ट में विभिन्न कॉलेजों के कई पाठ्यक्रमों के लिए 100 फीसदी कट ऑफ लिस्ट गई थी। दूसरी कटऑफ लिस्ट में भी कोई खास अंतर नहीं आया है। विभिन्न कॉलेजों में कटऑफ को लेकर औसतन 0.25 फीसदी से लेकर 3 फीसदी तक गिरावट दर्ज की गई है। यहीं नहीं दिल्ली विश्वविद्यालय के कई कॉलेजों में तो दूसरी कट ऑफ लिस्ट में भी 100 फीसदी ही कटऑफ है। बावजूद इसके अभी तक दिल्ली विश्वविद्यालय की सेकंड कट ऑफ लिस्ट के आधार पर 30,000 से अधिक छात्र आवेदन कर चुके हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय को इन आवेदनों के आधार पर 14 अक्टूबर तक योग्य उम्मीदवारों का दाखिला मंजूर करना है। 

37 हजार से अधिक छात्रों को मिला दाखिला 

दिल्ली विश्वविद्यालय की दाखिला समिति का कहना है कि पहली कट ऑफ के बाद 60,904 उम्मीदवारों ने विभिन्न कॉलेजों में आवेदन किया है। पहली कट ऑफ के आधार पर 37 हजार से अधिक छात्रों को दाखिला मिला है। दूसरे चरण की दाखिला प्रक्रिया पूरी होने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय की तीसरी कटऑफ 16 अक्टूबर को जारी की जाएगी। इसके बाद दिल्ली विश्वविद्यालय की स्पेशल कटऑफ 25 अक्टूबर को आएगी। 

असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर नियुक्ति के लिए पीएचडी की डिग्री अनिवार्य

उधर देश के विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर नियुक्ति के लिए 1 जुलाई 2023 से पीएचडी की डिग्री अनिवार्य होगी। तब तक सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति में पीएचडी की अनिवार्यता से राहत प्रदान की गई है। यूजीसी ने मंगलवार शाम यह अहम निर्णय लिया है। इस संदर्भ में नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है। गौरतलब है कि इससे पहले दिल्ली विश्वविद्यालय ने सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति में पीएचडी की अनिवार्यता लागू कर दी थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। 

शिक्षकों के लिए एक बड़ी राहत

दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (डूटा) के अध्यक्ष राजीब रे ने कहा कि यूजीसी ने विश्वविद्यालयों में सहायक प्रोफेसर के रूप में नियुक्ति के लिए पीएचडी के अनिवार्य खंड को जून 2023 तक दो साल के लिए टाल दिया है। विश्वविद्यालय विभागों में कार्यरत एडहॉक शिक्षकों के लिए यह एक बड़ी राहत है। समय पर हस्तक्षेप और अनुपालन के रूप में डूटा की एक बड़ी जीत है। हमने यूजीसी को इस मांग को मानने के लिए मजबूर कर दिया। डूटा ने पहले 14 अगस्त को यूजीसी के सामने इस मुद्दे को उठाया और फिर 15 सितंबर को यूजीसी के अधिकारियों से मुलाकात की थी।