BREAKING NEWS

दिल्ली सरकार ने जारी किया बुलेटिन ; दिल्ली में बचा है कोविड टीके का आठ दिन का स्टॉक◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 3,586 नए मामले आए सामने , 67 लोगों की हुई मौत◾टीके लेने वाले यात्रियों के लिए ब्रिटेन ने नियमों में छूट दी, भारत-ब्रिटेन मार्ग पर भी कुछ छूट◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 71 साल के हुए ; देश-विदेश के नेताओं ने दीं शुभकामनाएँ◾कोविड टीकाकरण में बना विश्व रिकॉर्ड, एक दिन में लगे सवा दो करोड़ से ज्यादा टीके◾उप्र में पांच साल में बेरोजगारी दर 17 प्रतिशत से घटकर चार-पांच प्रतिशत रह गई : योगी◾जीएसटी काउंसिल बैठक: कई दवाईयां GST मुक्त, पेट्रोल-डीजल पर लिया ये फैसला◾बिना समझौते के बनी तालिबान सरकार, दुनिया सोच-समझकर फैसला ले : PM मोदी◾बंटवारे के समय बरती जाती सावधानियां तो करतापुर साहिब पाकिस्तान में नहीं भारत में होता: राजनाथ सिंह ◾शोएब ने न्यूजीलैंड पर खेल की हत्या करने का लगाया आरोप, बाबर आजम बोले- श्रृंखला रद्द होने से निराश हूं◾प्रियंका की यूपी सरकार से मांग, कहा- मूसलाधार बारिश से नुकसान झेलने वाले किसानों को मिले मुआवजा◾नितिन गडकरी हर महीने यूट्यूब से चार लाख रुपये कमा रहे, बताया कैसे मिल रहा फायदा◾दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 33 नए मामले सामने आए, 56 लोग ठीक हुए और 1 की मौत◾स्मृति ईरानी का कांग्रेस पर तंज, कहा- उन्होंने कभी अमेठी का भला नहीं किया ◾अब्बास नकवी ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा- UP में अपराधियों की हिरासत” बनाम “अपराध की हिफाज़त” बड़ा मुद्दा◾न्यूजीलैंड ने की पाकिस्तान की फजीहत, मैच से ठीक पहले कीवी टीम ने रद्द किया दौरा◾बिहार चुनाव में EVM और DM ने की बेईमानी, UP में रहना होगा सावधान : अखिलेश यादव◾PM मोदी के जन्मदिन को लेकर कांग्रेस का तंज- कौन सी उपलब्धि का मनाया जाए जश्न ◾PM मोदी के जन्मदिन पर मेगा वैक्सीनेशन अभियान, दोपहर तक लगी 1 करोड़ से ज्यादा डोज ◾सचिन वाजे का खुलासा- तबादले के आदेश रुकवाने के लिए देशमुख और अनिल परब को मिले 40 करोड़ रुपए ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

प्रवर्तन निदेशालय ने ललित मोदी को दिया करारा झटका, करोड़ों की संपत्ति की जब्त

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली एनसीआर स्थित कई रियल एस्टेट कंपनियों की 281.42 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की, जिसमें इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व अध्यक्ष ललित मोदी भी शामिल हैं। यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में की गई है, जो हरियाणा में अवैध रूप से अधिग्रहित की गई जमीन से जुड़ा है। उन पर आरोप है कि धोखाधड़ी वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों और नौकरशाहों की कथित मिलीभगत से हुई है।

खबरों के मुताबिक, कई किसानों और भूस्वामियों के साथ कथित रूप से इस मामले में लगभग 1,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई है, जिसमें हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी आरोपी हैं। ईडी के एक अधिकारी ने यहां कहा कि एजेंसी ने धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत गुरुग्राम भूमि घोटाले के सिलसिले में विभिन्न आरोपी संस्थाओं और उनके सहयोगियों की 281.42 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है। अधिकारी ने कहा कि राजस्थान के बहरोड़ और नीमराणा में 95.09 बीघा कृषि भूमि ललित मोदी से संबंधित है, जिसकी कीमत 13.31 करोड़ रुपये है। अधिकारी ने कहा कि वित्तीय जांच एजेंसी ने डोव इंफ्रास्ट्रक्च र प्राइवेट लिमिटेड के एक प्रोजेक्ट का 54 प्रतिशत कुर्क किया है, जो कि फरीदाबाद में अतुल बंसल या उनकी समूह की कंपनियों से संबंधित है, जिसकी कीमत 108.86 करोड़ रुपये है।

उन्होंने कहा कि सेराटिम लैंड एंड हाउसिंग प्राइवेट के नाम पर बिजनेस बे प्रोजेक्ट का 50 प्रतिशत कुर्क किया गया है, जो कि बंसल या उनकी समूह की कंपनियों से संबंधित था और इसकी कीमत 78.09 करोड़ रुपये आंकी गई है। ईडी ने सीबीआई की प्राथमिकी के आधार पर धन शोधन का मामला दर्ज किया था। यह आरोप लगाया गया है कि शुरू में हरियाणा सरकार ने एक औद्योगिक मॉडल टाउनशिप स्थापित करने के लिए लगभग 912 एकड़ भूमि के अधिग्रहण के लिए भूमि अधिग्रहण अधिनियम के तहत एक अधिसूचना जारी की। आरोप है कि इसके बाद सभी प्लॉट को निजी बिल्डर्स द्वारा जमीन के मालिकों से कथित रूप से कम दामों पर हड़प लिया गया।

बता दें कि 27 अगस्त 2004 को इनेलो सरकार ने गुरुग्राम के मानेसर, लखनौला और नौरंगपुर की 912 एकड़ जमीन पर आईएमटी बनाने के लिए सेक्शन-4 का नोटिस जारी किया था। इसके बाद कांग्रेस सत्ता में आई और तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने आईएमटी रद्द कर 25 अगस्त, 2005 को सार्वजनिक कामों के लिए जमीन अधिग्रहण के लिए सेक्शन-6 का नोटिस जारी कराया। ये मुआवजा 25 लाख रुपये एकड़ तय हुआ। अवॉर्ड के लिए सेक्शन-9 का नोटिस भी जारी हुआ, पर इससे पहले बिल्डर्स ने कथित तौर पर किसानों को अधिग्रहण का डर दिखा 400 एकड़ जमीन औने-पौने दाम पर खरीद ली। वर्ष 2007 में बिल्डर्स की 400 एकड़ जमीन अधिग्रहण से मुक्त कर दी गई, जिससे किसानों को करीब 1500 करोड़ का नुकसान हुआ।