BREAKING NEWS

चिराग को LJP अध्यक्ष से हटाने के प्रयास तेज, पशुपति कुमार पारस अपने सभी सांसद समर्थको के साथ जाएंगे पटना ◾राम जन्मभूमि घोटाले पर बोले चंपत राय- सारे आरोप भ्रामक, पारदर्शिता के साथ खरीदी गई जमीन ◾देश में पिछले 24 घंटे में 60471 नए कोरोना केस की पुष्टि, 2726 मरीजों ने तोड़ा दम ◾दुनियाभर में कोरोना मामलों का आंकड़ा 17.6 करोड़ से अधिक, अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना ◾TOP - 5 NEWS 15TH JUNE : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾UP में 2022 में होनें वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एक्शन में BJP सरकार, सभी मंत्री उतरेंगे मैदान में◾कोरोना वायरस के नए प्रकार ‘डेल्टा प्लस’ का पता चला, वैज्ञानिकों ने कहा-चिंता की कोई बात नहीं◾गलवान झड़प के 1 साल बाद LAC के पास डटे हुए है चीनी सैनिक, भारत ने मुकाबला करने के लिए की खास तैयारी ◾पशुपति कुमार पारस को लोकसभा में LJP के नेता के रूप में मान्यता दी गई◾राजस्थान : BSP से कांग्रेस में आए विधायकों ने बढ़ाई गहलोत की टेंशन, कहा- मंत्रिमंडल का विस्तार हो तो अच्छा है◾भूमि क्षरण ने दुनिया के दो-तिहाई हिस्से को प्रभावित किया : PM मोदी◾बढ़ती महंगाई पर चिदंबरम का केंद्र पर तंज, कहा- हर रोज ईंधन की कीमतें बढ़ाने वाले PM मोदी का शुक्रिया◾ममता बनर्जी का केंद्र पर कटाक्ष, कहा- सरकार की बेरुखी के चलते देश के किसान कष्ट में हैं ◾खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से आउट ऑफ कंट्रोल हुई खुदरा महंगाई दर, मई में बढ़कर 6.3 फीसदी पर पहुंची◾आगरा : 130 फीट गहरे बोरवेल से सुरक्षित निकाला गया 3 साल का शिवा, 8 घंटे तक चला सेना और NDRF का रेस्क्यू ऑपरेशन◾राजस्थान: गोवंश की तस्करी के शक में भीड़ ने शख्स की पीट-पीटकर की हत्या, दूसरे की हालत भी नाजुक◾राम मंदिर भूमि घोटाले की राहुल गांधी ने की कड़ी निंदा, कहा - श्रीराम के नाम पर धोखा अधर्म है ◾अनलॉक की राह पर बंगाल, जानिए किन चीजों में छूट के साथ ममता सरकार ने 1 जुलाई तक बढ़ाई पाबंदियां◾राम जन्मभूमि घोटाले के आरोपों पर बोले दिनेश शर्मा- बदनाम करने के लिए कोई मौका नही छोड़ता विपक्ष◾अडाणी ग्रुप ने अपने तीन विदेशी फंडों के खातों को जब्त किए जाने की खबर को बताया भ्रामक और गलत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

प्रवर्तन निदेशालय ने ललित मोदी को दिया करारा झटका, करोड़ों की संपत्ति की जब्त

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली एनसीआर स्थित कई रियल एस्टेट कंपनियों की 281.42 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की, जिसमें इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व अध्यक्ष ललित मोदी भी शामिल हैं। यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में की गई है, जो हरियाणा में अवैध रूप से अधिग्रहित की गई जमीन से जुड़ा है। उन पर आरोप है कि धोखाधड़ी वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों और नौकरशाहों की कथित मिलीभगत से हुई है।

खबरों के मुताबिक, कई किसानों और भूस्वामियों के साथ कथित रूप से इस मामले में लगभग 1,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई है, जिसमें हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी आरोपी हैं। ईडी के एक अधिकारी ने यहां कहा कि एजेंसी ने धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत गुरुग्राम भूमि घोटाले के सिलसिले में विभिन्न आरोपी संस्थाओं और उनके सहयोगियों की 281.42 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है। अधिकारी ने कहा कि राजस्थान के बहरोड़ और नीमराणा में 95.09 बीघा कृषि भूमि ललित मोदी से संबंधित है, जिसकी कीमत 13.31 करोड़ रुपये है। अधिकारी ने कहा कि वित्तीय जांच एजेंसी ने डोव इंफ्रास्ट्रक्च र प्राइवेट लिमिटेड के एक प्रोजेक्ट का 54 प्रतिशत कुर्क किया है, जो कि फरीदाबाद में अतुल बंसल या उनकी समूह की कंपनियों से संबंधित है, जिसकी कीमत 108.86 करोड़ रुपये है।

उन्होंने कहा कि सेराटिम लैंड एंड हाउसिंग प्राइवेट के नाम पर बिजनेस बे प्रोजेक्ट का 50 प्रतिशत कुर्क किया गया है, जो कि बंसल या उनकी समूह की कंपनियों से संबंधित था और इसकी कीमत 78.09 करोड़ रुपये आंकी गई है। ईडी ने सीबीआई की प्राथमिकी के आधार पर धन शोधन का मामला दर्ज किया था। यह आरोप लगाया गया है कि शुरू में हरियाणा सरकार ने एक औद्योगिक मॉडल टाउनशिप स्थापित करने के लिए लगभग 912 एकड़ भूमि के अधिग्रहण के लिए भूमि अधिग्रहण अधिनियम के तहत एक अधिसूचना जारी की। आरोप है कि इसके बाद सभी प्लॉट को निजी बिल्डर्स द्वारा जमीन के मालिकों से कथित रूप से कम दामों पर हड़प लिया गया।

बता दें कि 27 अगस्त 2004 को इनेलो सरकार ने गुरुग्राम के मानेसर, लखनौला और नौरंगपुर की 912 एकड़ जमीन पर आईएमटी बनाने के लिए सेक्शन-4 का नोटिस जारी किया था। इसके बाद कांग्रेस सत्ता में आई और तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने आईएमटी रद्द कर 25 अगस्त, 2005 को सार्वजनिक कामों के लिए जमीन अधिग्रहण के लिए सेक्शन-6 का नोटिस जारी कराया। ये मुआवजा 25 लाख रुपये एकड़ तय हुआ। अवॉर्ड के लिए सेक्शन-9 का नोटिस भी जारी हुआ, पर इससे पहले बिल्डर्स ने कथित तौर पर किसानों को अधिग्रहण का डर दिखा 400 एकड़ जमीन औने-पौने दाम पर खरीद ली। वर्ष 2007 में बिल्डर्स की 400 एकड़ जमीन अधिग्रहण से मुक्त कर दी गई, जिससे किसानों को करीब 1500 करोड़ का नुकसान हुआ।