BREAKING NEWS

SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾

दिल्ली के जलजमाव वाले क्षेत्रों का ड्रोन से पता लगायें : अदालत

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मानसून के दौरान यातायात जाम की समस्या से निपटने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय ने ड्रोन का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है ताकि अधिकारियों को उन जगहों की पहचान करने में आसानी हो सके जहां जल जमाव हो रहा है। दिल्ली उच्च न्यालाय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति जी एस सिस्तानी एवं न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने एक नियंत्रण कक्ष स्थापित करने की सलाह दी ताकि यातायात जाम और जल जमाव की जानकारी तत्काल दी जा सके और जल्द से जल्द इसके समाधान के लिए उचित कदम उठाया जा सके । 

उच्च न्यायालय की पीठ ने यह भी कहा कि एक तरफ जल जमाव है और दूसरी ओर पानी का जबरदस्त अभाव है । पीठ ने कहा, ‘‘ऐसा हम कहते हैं, ताकि विभाग इस पहलू पर गौर कर सकें और उन स्थलों के पास वर्षा जल संचयन पर विचार कर सके, जहां पानी का जमाव और संग्रह होता है ।’’ अदालत ने कहा कि इससे दो काम होंगे, एक तो यह कि इलाके में जल जमाव की दिक्कत नहीं होगी और दूसरा, इससे भूमिगत जल स्तर को बढ़ाने में सुविधा मिलेगी। 

पीठ ने कहा, ‘‘हमें यह कहने में कोई हिचक नहीं हो रही है कि सभी विभागों को एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए ताकि आने वाले मानसून में लोगों को किसी प्रकार की कठिनाई नहीं हो ।’’ उच्च न्यायालय ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार को 24 जुलाई को होने वाली अगली सुनवाई से पहले स्थिति रिपोर्ट जमा कराने को कहा है । सुनवाई के दौरान, दिल्ली सरकार के अतिरिक्त स्थायी अधिवक्ता गौतम नारायण ने एक स्थिति रिपोर्ट पेश की जिसमें कहा गया कि उन्होंने जल जमाव वाले समस्याग्रस्त क्षेत्रों की पहचान की है और प्रस्तावित दीर्घकालिक और अल्पकालिक उपायों पर प्रकाश डाला गया है। 

हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत गिरने से मृतकों की संख्या 14 हुई , मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किया दौरा

अदालत ने कहा, ‘‘हमें सूचित किया गया है कि अधिकतर स्थानों पर पानी पंप लगा दिए गए है जबकि बाकी स्थानों पर जल्दी ही लगाएं जाएंगे । हमें यह भी बताया गया है कि अतीत में पानी के ये पंप प्रभावी नहीं थे क्योंकि गाद निकालने का काम पूरा नहीं हुआ था । अधिवक्ता ने यह माना कि उन्हें उम्मीद है कि इस साल यह समस्या नहीं होगी क्योंकि नालों से गाद निकालने का काम पहले की कर लिया गया है और जल को नालों में बहाया जाएगा ।’’ 

उच्च न्यायालय ने अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने के लिए भी कहा कि मानसून के मौसम में हर दिन ऑपरेटरों द्वारा पंपों की देख रेख की जाए और जिस समय पानी एकत्र होना शुरू होता है, पंपों को तत्काल इस्तेमाल में लाना चाहिए ताकि जल जमाव न हो और नागरिकों को ट्रैफिक जाम से असुविधा न हो।