BREAKING NEWS

डॉक्टरों की देशभर में प्रदर्शन, महाराष्ट्र में 40,000 डॉक्टर हड़ताल पर ◾डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कल : सुप्रीम कोर्ट ◾17वीं लोकसभा का पहला सत्र प्रारंभ, PM मोदी सहित नवनिर्वाचित सांसदों ने ली शपथ ◾संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण, संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं : PM मोदी ◾वर्ल्ड कप में भारत की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत, लगा बधाईयों का तांता, अमित शाह ने बताया एक और स्ट्राइक ◾IMA की हड़ताल में शामिल होंगे दिल्ली के अस्पताल, AIIMS ने किया किनारा ◾ममता आज सचिवालय में जूनियर डॉक्टरों से करेंगी बैठक◾विश्व कप 2019 Ind vs Pak : भारत ने पाकिस्तान को डकवर्थ लुइस नियम के तहत 89 रन से रौंदा◾IMA के आह्वान पर सोमवार को दिल्ली के कई अस्पतालों में नहीं होगा काम ◾सभी वर्गों को भरोसे में लेकर करेंगे सबका विकास : PM मोदी◾PM मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ कूटनीतिक और रणनीतिक रिवायत को बदला : जितेन्द्र सिंह◾प्रणव मुखर्जी से मिले नीतीश कुमार◾बिहार में AES की रोकथाम और इलाज के लिए हरसंभाव सहायता देगा केंद्र : हर्षवर्द्धन◾कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को विदेशों से मिला धन, निजी फायदे के लिए उसका किया इस्तेमाल : NIA◾Top 20 News - 16 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक राष्ट्र, एक चुनाव पर बात करने के लिए PM मोदी ने सभी दलों के प्रमुखों को किया आमंत्रित◾प्रदर्शनकारी डॉक्टरों ने कहा, CM जगह तय करें लेकिन बैठक खुले में होनी चाहिए ◾बिहार : मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा पहुंचा 93 ◾नए चेहरों के साथ संसद में आए नई सोच, तभी बनेगा नया भारत : PM मोदी◾धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आए है उद्धव ठाकरे : इकबाल अंसारी◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

जीडीपी बैक सीरीज पर सरकार का स्पष्टीकरण

सरकार ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) बैक सीरीज के डाटा को लेकर राजनीतिक स्तर पर हो रही बयानबाजी और मीडिया में आ रही खबरों के बीच बुधवार को स्पष्टीकरण जारी करते हुये कहा कि अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप आर्थिक आंकड़े को अद्यतन करने के लिए जीडीपी बैक सीरीज डाटा जारी किये गये।

 इस संबंध में जारी स्पष्टीकरण में कहा गया कि किसी भी अर्थव्यवस्था के लिए जीडीपी का अनुमान बहुत जटिल काम है क्योंकि इसमें कई मानक और तौर तरीके शामिल होते है जो अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन का आकलन करते हैं। वैश्विक मानकीकरण और तुलनात्मकता के लिए दुनिया भर के देश संयुक्त राष्ट्र के राष्ट्रीय अकाउंट सिस्टम (एसएनए) का पालन कर रहे हैं।

सरकार ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक के इस संबंध में दिशा निर्देशों का भी उल्लेख किया है। इसमें कहा गया है कि राष्ट्रीय अकाउंट सिस्टम का नया संस्करण 2008 का है जो राष्ट्रीय अकाउंट के लिए सबसे नया अंतरराष्ट्रीय सांख्यिकी मानक है। संयुक्त राष्ट्र सांख्यिकी आयोग (यूएनएससी) ने वर्ष 2009 में इसको अपनाया और वर्ष 1993 में जारी राष्ट्रीय अकाउंट सिस्टम का स्थान लिया है। इसी के आधार पर वैश्विक स्तर पर आर्थिक और विकास के आंकड़ तय किये जा रहे हैं।

इसमें कहा गया है कि एसएनए में आधार वर्ष का भी उल्लेख किया गया है जिसमें नियमित अंतराल पर बदलाव किया जाता है ताकि आर्थिक माहौल, शोध के तौर-तरीके और आर्थिक आंकड़ के लिए उचित तरीके से जुटाये जा सके। उसने कहा कि अर्थव्यवस्था में ढांचागत बदलाव आ रहे हैं।

इसके मद्देजनर जीडीपी, औद्योगिक उत्पादन सूचकांक, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आदि के लिए आधार वर्ष में नियमित अंतरात पर बदलाव करने की जरूरत होती है। सरकार ने कहा कि 30 जनवरी 2015 को जीडीपी के आधार वर्ष को 2004-05 से बदलकर 201।12 किया गया था जो एसएनए 2008 पर आधारित था। सरकार ने वर्ष 2018-19 के लिए जीडीपी के आंकड़ जारी किये जाने की तिथि भी बतायी है और कहा है कि इस संबंध में अंतिम आंकड़ 31 जनवरी 2022 को जारी किया जायेगा।