BREAKING NEWS

हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

शुष्क दिवस को भी तर रहे गले

श्योपुर : जिलाधीश एवं जिला निर्वाचन अधिकारी सौरभ कुमार सुमन द्वारा विधानसभा निर्वाचन के परिप्रेक्ष्य में मध्यप्रदेश आबकारी अधिनियम 1995 की धारा 24 (1) के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जारी की गई निषेधाज्ञा लोकसभा चुनाव की ही तरह असरहीन बनी रही तथा क्षेत्र भर में शराबियों की मौजूदगी आम दिनों की तरह बनी दिखाई दी। हालांकि प्रावधानों व आदेशों के अनुपालन में देशी-विदेशी मदिरा की दुकानें बदस्तूर बंद पाई गईं लेकिन पहले से कोटा जुटाने वाले सुराप्रेमियों ने घोषित शुष्क-दिवस पर भी अपने गलों को तर बनाए रखा और मस्ती में झूमते हुए मतदान और समर्थन का आनंद उठाया।

माना जा रहा है कि ड्राय-डे के बावजूद शराबियों की सक्रिय मौजूदगी उस समानांतर कारोबार की देन हो सकती है जो विधानसभा क्षेत्र की सीमाओं मे अन्दरखाने लगातार फल-फूल रहा है। उल्लेखनीय है कि जिले के विधानसभा चुनाव को लेकर जिले भर मे 28 नवम्बर को निर्विघ्र मतदान कराने के लिऐ सभी देशी एवं विदेशी मदिरा की दुकानों को 26 नवम्बर को सायं 5.00 बजे से 28 नवम्बर को सायं 5.00 बजे तक बंद रखने के आदेश जारी किए गए थे लेकिन यह आदेश अन्दरखाने चलने वाली दुकानों पर लागू नहीं थे लिहाजा मदिरा लाए जाने और पीने-पिलाने का सिलसिला हमेशा की तरह जारी बना रहा।

ज्ञात रहे कि श्योपुर जिले की सीमा महज 22 से 25 कि.मी. की दूरी पर राजस्थान के कोटा, बारां और सवाई माधोपुर जिलों की सीमाओं से सटी हुई है जहां शराब के ठेके दिन-रात यौवन पर नजर आते हैं और मध्यप्रदेश से कम दामों पर शराब उपलब्ध कराने के लिए जाने जाते हंै। ऐसे में शुष्क दिवस की सार्थकता पर महज विचार-विमर्श ही किया जा सकता है। विचार इस सवाल पर भी संभव हो सकता है कि जिस अवधि में देशी-विदेशी मदिरा की खेप किस रास्ते से और किसके माध्यम से नगरीय क्षेत्र तक पहुंची? फिलहाल, इन सवालों पर जवाब-तलबी प्रशासन और पुलिस के आला अफसरों को करनी है। आगे उनकी मर्जी कि इसे गंभीरता से लें अथवा नजरअंदाज करें।