BREAKING NEWS

विश्व में कोरोना वायरस का कहर तेज, पॉजिटिव केस 3 करोड़ 32 लाख के पार ◾उत्तर प्रदेश : हाथरस में सामूहिक बलात्कार पीड़िता की दिल्ली के अस्पताल में इलाज के दौरान मौत◾TOP 5 NEWS 29 SEPTEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾ अमेरिका में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 71 लाख से अधिक, ये प्रांत बुरी तरह प्रभावित ◾J&K के पुंछ में पाकिस्तान ने LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया, सेना ने दिया मुहतोड़ जवाब◾आज का राशिफल (29 सितम्बर 2020)◾MI vs RCB (IPL 2020) : रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की मुंबई इंडियन्स पर सुपर ओवर में रोमांचक जीत◾सुशांत केस: AIIMS ने सीबीआई को सौंपी रिपोर्ट, जांच की रफ्तार होगी तेज◾पत्नी से मारपीट का वीडियो वायरल : पुलिस अधिकारी पदमुक्त, सरकार ने जारी किया 'कारण बताओ नोटिस'◾कोविड-19 को लेकर बोली दिल्ली सरकार - दिल्ली में शुरू हो चुका है कोरोना का डाउनट्रेंड◾शिरोमणि अकाली दल ने किया ऐलान - दिल्ली में बीजेपी गठबंधन के सभी पद छोड़ेगा अकाली दल◾अमित शाह ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ विभिन्न मुद्दों पर स्थिति की समीक्षा की◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम बरकरार, बीते 24 घंटे में 11,921 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 13.51 लाख के पार ◾IPL-13: डिविलियर्स-फिंच का तूफानी अर्धशतक, बेंगलोर ने मुंबई को दिया 202 रनों का लक्ष्य ◾रक्षा मंत्रालय बड़ा फैसला - 2,290 करोड़ रुपये के सैन्य उपकरणों की खरीद को मंजूरी दी ◾प. बंगाल के राज्यपाल की ममता सरकार को चेतावनी - संविधान की रक्षा नहीं हुई तो कार्रवाई होगी◾‘नमामि गंगे’ मिशन के तहत प्रधानमंत्री मोदी उत्तराखंड में छह बड़ी परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾सचिन पायलट का केन्द्र सरकार पर वार - चुनौतीपूर्ण समय में किसानों के साथ किया विश्वासघात◾कोरोना महामारी ने किसी एक स्रोत पर वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला की निर्भरता के जोखिम को उजागर किया : मोदी ◾RCB vs MI: मुंबई इंडियंस ने टॉस जीतकर चुनी गेंदबाजी, आरसीबी को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जेएनयू प्रशासन सख्त, कहा परीक्षाओं में शमि​ल नहीं तो प्रवेश नहीं

नई दिल्ली : जेएनयू प्रशासन ने छात्रों को आगाह किया है कि वे सेमेस्टर परीक्षाओं और अन्य शैक्षिक आकलन को गंभीरता से लें, अन्यथा उन्हें इसके नतीजे भुगतने पड़ेंगे। विश्वविद्यालय की विज्ञप्ति में शैक्षणिक अध्यादेश का हवाला देते हुए कहा गया है कि जो छात्र सेमेस्टर के अंत में होने वाली 12 दिसम्बर से शुरू हो रही परीक्षाओं में शामिल नहीं होंगे उन्हें अगले सेमेस्टर में प्रवेश नहीं मिलेगा। 

वे विश्वविद्यालय के छात्र नहीं रहेंगे। सर्कुलर में आगे कहा गया है कि एमफिल के जिन शोध छात्रों को सेमेस्टर-दो के अंत में सम्मिलित अंक औसत के आधार पर पांच अंक से कम मिलेंगे उनका शोध कार्य स्वत: समाप्त माना जाएगा। जेएनयू प्रशासन से विद्यार्थियों को चेतावनी दी है कि अगर वह जेएनयू के अकादमिक नियमों का पालन नहीं करते हैं तो उनकी छात्रवृत्ति तक खत्म हो जाएगी। 

ज्ञात हो कि इससे पहले जेएनयू प्रशासन की तरफ से 17 नवंबर, 28 और 29 नवंबर को भी इस मामले में सर्कुलर जारी करते हुए छात्रों को चेताया था। बता दें कि गत एक महीने से भी ज्यादा वक्त हो गया है कि जेएनयू में विद्यार्थी छात्रावास की फीस बढ़ोतरी और नए नियमों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। विद्यार्थी फीस वृद्धि रोल बैक करने की मांग पर अड़े हैं। वहीं जेएनयू प्रशासन का कहना है कि छात्रों के प्रदर्शन के कारण संस्थान में अकादमिक गतिविधियों पर भी असर पड़ रहा है।

क्या कहना है जेएनयू प्रशासन का...

जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रो. प्रमोद कुमार ने कहा कि जिन भी छात्रों ने अकादमिक गतिविधियों एवं नियमों, मानदंडों का पालन नहीं किया तो उन पर कार्रवाई की जाएगी। विवि के शैक्षणिक मानदंडों और अकादमिक कैलेंडर का पालन करना छात्रों के लिए जरूरी है। जिसके अनुसार उन्हें 12 दिसंबर से शुरू होने वाली अंतिम सेमेस्टर परीक्षा में शामिल अनिवार्य रूप से शामिल होना होगा। 

एमफिल-शोध प्रबंध-पीएचडी के छात्रों को अपनी थीसिस संबंधित स्कूलों (विभागों) को मूल्यांकन के लिए अनिवार्य रूप से जमा कराने होंगे। जिसकी अंतिम तिथि 31 दिसंबर है। इन तिथियों को जेएनयू की अकादमिक परिषद (एसी) व कार्यकारी परिषद (ईसी)  ने तय किया है। इसलिए इनमें कोई ढील नहीं दी जाएगी। अकादमिक अध्यादेश के क्लॉज-7 के मुताबिक हर एमफिल करने वाले छात्र को अपना 50 फीसदी पाठ्यक्रम पूरा करना होगा। 

अगर ये छात्र अपने पाठ्यक्रम कार्य को पूरा करते हुए 5 सीजीपीए लाने में असफल रहते हैं तो क्लॉज-8 के अनुसार दूसरे सेमेस्टर के अंत में उनका नाम विश्वविद्यालय की नामांकन सूची से हटा दिया जाएगा। साथ ही जो छात्र एमए, एमएससी पाठ्यक्रम में हैं और अकादमिक अध्यादेश के क्लॉज-9 और 11 का पालन करने में असफल रहते हैं तो उन्हें विश्वविद्यालय की नामांकन सूची से हटा दिया जाएगा।

जेएनयू छात्र संघ का मशाल जुलूस...

वहीं दूसरी ओर जेएनयू छात्र संघ का विवि प्रशासन के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन जारी है। इसी क्रम में मंगलवार को विद्यार्थियों ने गंगा ढाबा से लेकर फ्रीडर स्क्वाइर तक मशाल जुलूस निकाला। रात करीब दस बजे मशाल जुलूस में शामिल हुए विद्यार्थियों का कहना है कि जब तक प्रशासन बढ़ी हुई फीस को वापस नहीं लेता है तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

जेएनयू शिक्षक संघ करेगा भूख हड़ताल...

जेएनयू शिक्षक संघ भी लगातार विद्यार्थियों की मांग के समर्थन में आंदोलन कर रहे हैं। बुधवार को शिक्षक संघ कुलपति को हटाने, एमएचआरडी द्वारा गठित समिति की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने और बढ़ी हुई छात्रावास शुल्क को वापस लेने की मांग को लेकर सुबह दस बजे से एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठेंगे।