BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

चुनाव देख केजरीवाल ने हटाई दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल से आपत्तियां : विजेन्द्र

नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने गुरुवार को कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनाव की आहट होते ही केजरीवाल सरकार नेे दिल्ली मेरठ रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) को लेकर ‘यू-टर्न' लेते हुए खुद की लगाई सारी अड़चनों और आपत्तियों को अचानक हटा दिया है। 

सरकार का राजनीतिक द्वेष भरा रवैया इसी तथ्य से झलकता है कि उसने चालू वित्त वर्ष में आरआरटीएस के लिए कोई बजटीय प्रावधान ही नहीं रखा था। लेकिन अब इसके लिए अपने हिस्से का फंड पर्यावरण शुल्क से देने का निर्णय लिया है। यही नहीं अब सराय कालेखां पर अंडरग्राउंड स्टेशन बनाए जाने की बेतुकी जिद भी छोड़ दी है।

विजेन्द्र गुप्ता ने कहा कि पिछले दो वर्षों में सरकार का एक ही उद्देश्य था कि केन्द्र सरकार के प्रोजेक्ट को किसी न किसी तरह टाला जाए। वर्ष 2019-20 के लिए 60 हजार करोड़ रुपए का बजट होते हुए भी सरकार फंड नहीं होने का बहाना कर रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम के लिए तरह-तरह के बहाने बनाकर पैसा जारी करने से इंकार करती रही। मुख्यमंत्री की बेतुकी जिद थी कि सराय कालेखां पर बनने वाले जंक्शन को अंडरग्राउंड बनाया जाए। 

इस पर चार हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त व्यय आता और नया बस अड्डा बनने में देरी होती। दिल्ली सरकार ने पांच वर्ष के दौरान 1138 करोड़ रुपया देना था और इस हिसाब से उसे औसतन 227 करोड़ रुपए प्रतिवर्ष देने बनते थे। वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने हिस्से के 5600 करोड़ रुपये अविलंब जारी कर दिए थे। मुख्यमंत्री ने पर्यावरण और नागरिकों को होने वाली भारी सुविधा को भी दरकिनार कर दिया। उकेन्द्र 50 प्रतिशत पैसा दे रही है। इसमें राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और हरियाणा की सरकारें जुड़ी हैं।