BREAKING NEWS

शाहीन बाग में बड़ी संख्या में जुटे प्रदर्शनकारी, लेकिन आपसी मतभेद ज्यादा, प्रदर्शन कम◾PAK में गुतारेस की J&K पर की गई टिप्पणी के बाद भारत ने कहा - जम्मू कश्मीर देश का अभिन्न हिस्सा ◾मतभेदों को सुलझाने के लिए कमलनाथ और सिंधिया इस हफ्ते कर सकते है मुलाकात◾अमेरिका राष्ट्रपति की अहमदाबाद यात्रा से पहले AIMC ने जारी किये ‘नमस्ते ट्रंप’ वाले पोस्टर ◾इस साल राज्यसभा में विपक्षी ताकत होगी कम ◾23 फरवरी से 23 मार्च तक उनका दल चलाएगा देशव्यापी अभियान - गोपाल राय◾पश्चिम बंगाल में निर्माणाधीन पुल का गर्डर ढहने से दो की मौत, सात जख्मी ◾कच्चे तेल पर कोरोना वायरस का असर, और घट सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम◾बाबूलाल मरांडी सोमवार को BJP होंगे शामिल, कई वरिष्ठ भाजपा नेता समारोह में हो सकते हैं उपस्थित◾लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा , ट्रक और वैन में टक्कर के बाद लगी आग , 7 लोग जिंदा जले◾वित्त मंत्रालय ने व्यापार पर कोरोना वायरस के असर के आकलन के लिये मंगलवार को बुलायी बैठक ◾कोरोना वायरस मामले को लेकर भारतीय राजदूत ने कहा - चीन की हरसंभव मदद करेगा भारत◾NIA को मिली बड़ी कामयाबी : सीमा पार कारोबार के जरिए आतंकवाद के वित्तपोषण के मिले सबूत◾दिल्ली CM शपथ ग्रहण समारोह दिखे कई ‘‘लिटिल केजरीवाल’’◾TOP 20 NEWS 16 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में समर्थकों ने कहा : देश की राजनीति में बदलाव का होना चाहिए◾PM मोदी ने काशी महाकाल एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर रवाना, जानिये इस ट्रेन की खासियतें ◾PM मोदी ने वाराणसी में 'काशी एक रूप अनेक' कार्यक्रम का किया शुभारंभ◾CAA को लेकर प्रधानमंत्री का बड़ा बयान, बोले-दबावों के बावजूद हम कायम हैं और रहेंगे◾PM मोदी के काफिले को सपा कार्यकर्ता ने दिखाया काला झंडा◾

मास्टर प्लान : 2041 दिल्ली में होगा जीरो पॉल्यूशन

नई दिल्ली : प्रदूषण से लड़ रही राजधानी 2041 में जीरो पॉल्यूशन सिटी बन सकती है। दिल्लीवासियों की क्वालिटी ऑफ लाइफ सुधारने के लिए तैयार हो रहे मास्टर प्लान दिल्ली 2041 में दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने प्रदूषण को प्राथमिकता दी है। डीडीए द्वारा तैयार किए गए प्लान को इस प्रकार से बनाया गया है कि दिल्ली के स्वरूप के साथ छेड़छाड़ किए बिना 2041 की जरूरतों के आधार पर दिल्ली का विकास किया जा सके। 

उस समय दिल्ली की जनसंख्या काफी बढ़ जाएगी। उक्त जनसंख्या के लिए ज्यादा घर, पानी, बिजली व अन्य की जरूरत होगी। इस संबंध में डीडीए की वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गुरुवार को मास्टर प्लान दिल्ली 2041 को लेकर उपराज्यपाल अनिल बैजल के साथ उच्च स्तरीय बैठक हुई। इस बैठक में डीडीए के तरफ से बताया गया कि मास्टर प्लान के लिए जरूरी सभी डाटा एकत्रित कर लिया गया है। उक्त डाटा का अध्ययन किया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि प्लान को तैयार करते हुए दिल्ली को जीरो पॉल्यूशन सिटी बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। इस कोशिश को पूरा करने के लिए दिल्ली में हरियाली को बढ़ाया जाएगा। साथ ही उस सभी तत्वों को दूर किया जाएगा जिससे दिल्ली में प्रदूषण बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदूषण से दिल्ली की आबोहवा खराब हो चुुकी है। भविष्य में दिल्ली बदली हुई नजर आएगी।

बिजली-पानी पर विशेष जोर 

मास्टर प्लान के विकास के दौरान पानी आपूर्ति, गंदे पानी की निकासी व उसके ट्रीटमेंट और ग्रीन ऊर्जा पर विशेष ध्यान दिया गया है। डीडीए की वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में जो वाटर बॉडी खराब है उसे फिर से जीवित कर आपस में लिंक किया जाएगा। इस प्रयास से दिल्ली को मिल रहे पानी की क्षमता बढ़ेगी। 

इसके अलावा दिल्ली में सीवरेज ट्रीटमेंट को बढ़ावा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यमुना एक्शन प्लान को गंभीरता से लिया जा रहा है। हमारा प्रयास है कि गंदे पानी को ट्रीट कर जरूरत के आधार पर भविष्य में इस्तेमाल किया जाए।

नए तरीके से होगा अनधिकृत कॉलोनियों का विकास

दिल्ली में तेजी से विकसित हुई अनधिकृत कॉलोनियों का विकास डीडीए नए तरीके से करेगी। डीडीए द्वारा तैयार हो रहे मास्टर प्लान में अनधिकृत कॉलोनियों को अलग से जगह दी गई है। अधिकारी ने बताया कि हम देख रहे हैं कि इन कॉलोनियों में कैसे पानी, बिजली, सड़क सहित अन्य सुविधाओं को पहुंचाया जा सकता है। 

इन कॉलोनियों के विकास के दौरान भविष्य की समस्या सहित अन्य को ध्यान में रखा जाएगा। फिलहाल कई ऐसी कॉलोनियां हैं जिनका विकास बिना किसी प्लान के हो गया है। जो भविष्य में संकट खड़ा कर सकता है। डीडीए इन्हें भी सुधारने की दिशा में प्रयास कर रहा है। बता दें कि दिल्ली में 1800 से अधिक अनधिकृत कॉलोनियां हैं जिन्हें पक्का करने की दिशा में प्रयास किया जा रहा है। 

वहीं, डीडीए के साथ हुई बैठक के बाद उपराज्यपाल अनिल बैजल ने ट्वीट कर कहा कि मास्टर प्लान दिल्ली 2041 में परिवर्तनकारी एजेंडा होना चाहिए जिसमें पर्यावरण के प्रति संवेदनशील पुनर्विकास, उच्च गुणवत्ता वाले रहने योग्य वातावरण, टिकाऊ बुनियादी ढांचा शामिल है।