BREAKING NEWS

कश्मीर से कन्याकुमारी तक लोगों ने कोरोना से लड़ने का लिया संकल्प◾कोविड 19 : कोरोना के खिलाफ एकजुट दिखा भारत, मोदी की अपील पर देशवासियों समेत कई बड़े नेताओं ने जलाए दीये ◾रक्षा प्रमुख अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने दिल्ली में कोविड-19 शिविर का किया दौरा◾उपराज्यपाल ने स्वास्थ्य विभाग को दिए निर्देश, कहा- ऐसे निजी अस्पतालों की करे पहचान जहां हो सके कोविड-19 का इलाज ◾स्वास्थ्य मंत्रालय : देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3,577 तक पहुंची, अब तक 83 लोगों की मौत ◾राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के लॉकडाउन तोड़ने का विडियो निकला फर्जी, झूठे दावे के साथ किया गया था वायरल ◾देश के 274 जिले कोरोना वायरस से प्रभावित, मृतकों की संख्या 79 पहुंची : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾कोरोना संकट के मद्देनजर PM मोदी ने सोनिया, प्रणव सहित अन्य शीर्ष नेताओं से फोन पर की बात◾रिलीफ फ्लाइट से मलेशिया भागने की कोशिश कर रहे तबलीगी जमात के 8 संदिग्ध दिल्ली के IGI एयरपोर्ट पर धरे गए◾PM मोदी ने ट्वीट कर रात 9 बजे 9 मिनट के लिए देशवासियों को लाइट बंद करने की याद दिलाई ◾Coronavirus : दुनियाभर में 12 लाख से अधिक पॉजिटिव केस की पुष्टि, लगभग 65,000 लोगों की अब तक मौत◾कोरोना संदिग्ध ने दिल्ली AIIMS की तीसरी मंजिल से लगाई छलांग, पैरों में हुआ फ्रैक्चर◾जम्मू-कश्मीर में पिछले 24 घंटे में मुठभेड़ में सेना द्वारा मारे गए 9 आतंकवादी, जवाबी कार्यवाही जारी ◾दिल्ली स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट के 2 नर्सिंग स्टाफ कोरोना संक्रमित, अब तक कुल 6 मामले आए सामने◾PM मोदी की अपील पर आज रात 9 बजे 9 मिनट के लिए देश भर की लाइट होंगी बंद◾जमातियों का जमघट : देर रात इंडोनेशियाई की 5 महिला मौलवी सहित मस्जिद में छिपे 15 दबोचे गए◾कोरोना वायरस : देश में संक्रमितों की संख्या 3,300 के पार, 77 लोगों की मौत की पुष्टि ◾अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण मामलों की संख्या 3 लाख के पार हुई, इटली में 15362 लोगों की मौत ◾कोविड-19: दिल्ली में संक्रमण के मामले बढ़कर हुए 445, उनमें से 301 लोग हुए थे निजामुद्दीन के कार्यक्रम में शामिल ◾लॉकडाउन : शहर में फंसे विदेशियों के लिए ट्रांजिट पास जारी करेगी दिल्ली सरकार◾

'संपत्ति हड़पना बहुओं को महंगा पड़ेगा'

दिल्ली के मुकुंदपुर में आठ महीने पहले मनीष की शादी नीरू से हुई। नीरू ने शादी के तुरंत बाद अपने सास-ससुर की संपत्ति में हिस्सा देने की धमकी देनी शुरू कर दी। हिस्सा नहीं मिलने पर दहेज प्रताड़ना और दुष्कर्म के झूठे मामले में फंसाने की धमकी भी दी जाने लगी। यह अपनी तरह का पहला मामला नहीं है, जहां पीड़ित ससुराल पक्ष वाले हैं।

 दिल्ली उच्च न्यायालय ने अपने हाल के फैसले में साफतौर पर कहा है कि सास, ससुर की संपत्ति में बहू का हक नहीं है। यह फैसला मनीष और उसके मां-बाप की तरह उन कई निर्दोष परिवारों के लिए राहत लेकर आया है। इस मुद्दे को और समझाते हुए वकील गीता शर्मा ने आईएएनएस से कहा, 'सास, ससुर की चल या अचल किसी भी तरह की संपत्ति में बहू का कोई हक नहीं है। भले ही वह पैतृक हो या खुद अर्जित की गई हो।

बुजुर्ग दंपति की खुद से अर्जित की गई संपत्ति पर बेटे का हक भी नहीं बनता तो बहू का हक होना तो बहुत दूर की बात है।' बुजुर्ग माता-पिता के कानूनी अधिकारों के बारे में वह कहती हैं, 'कानून से इन्हें कई तरह के अधिकार मिले हुए हैं। संपत्ति या अन्य कारणों से बेटे या बहू के द्वारा प्रताड़ित किया जाना या घर से निकालना अपराध है, अब तक इस तरह के मामलों के लिए सख्त प्रावधान है।' मनीष के पिता ने बहू की प्रताड़ना से तंग आकर दैनिक अखबार में विज्ञापन देकर अपने बेटे और बहू को अपनी संपत्ति से बेदखल कर दिया है।

इस पर कानूनी विशेषज्ञ शेफाली कांत कहती हैं, 'देखिए, मुझे लगता है कि उन्होंने अपनी सुरक्षा और भविष्य को देखकर कदम उठाया है, लेकिन इसमें डरने की कोई जरूरत ही नहीं है, क्योंकि अगर बेटा या बहू ने धोखे या डरा-धमकाकर संपत्ति अपने नाम भी लेते हैं तो यह कानूनन अवैध होगा। कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जा सकता है। इस तरह से संपत्ति से बेदखल करना इतना आसान नहीं है।' वह कहती हैं कि वरिष्ठ नागरिक संरक्षण अधिनियम, 2005 के तहत मां-बाप कानून की शरण में जा सकते हैं।

लेकिन सवाल यह है कि कानून की आड़ में परिवार को परेशान करने वाली बेटियों और बहुओं पर शिकंजा कसने के लिए और क्या कदम उठाए जा सकते हैं? इसका जवाब देते हुए वकील गीता शर्मा कहती हैं, 'मजिस्ट्रेट या फैमिली कोर्ट में अपील की जा सकती है। बहुओं पर उत्पीड़न या प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया जा सकता है।

ऐसा नहीं है कि कानून में सिर्फ महिलाओं को ही अधिकार दिए गए हैं। वरिष्ठ मां-बाप और पीड़ित परिवार वालों को भी अधिकार दिए गए हैं, बस जरूरत है कि वे अपने अधिकारों को जानें, बहू केस कर देगी, यह सोचकर प्रताड़ित होना ही गलत है।' वह कहती हैं, 'कानून सभी के लिए समान है, अगर कोई पीड़ित है तो उसे इंसाफ मिलना चाहिए लेकिन इंसाफ लेने के लिए आपको कानूनी रूप से जागरूक भी होना पड़ेगा।'