BREAKING NEWS

हाई कमान से मुलाकात के बाद बोले पायलट: पद की कोई लालसा नहीं, समस्या का जल्द समाधान जल्द हो◾वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सफलतापूर्वक हुई मस्तिष्क की सर्जरी हुई ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 9,181 नये मामले सामने आये ,293 और लोगों की मौत◾केरल : बारिश थमने से कुछ राहत, इडुक्की में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 49 हुई◾पायलट मामले के समाधान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय समिति गठित की ◾दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 707 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 1.46 लाख के पार◾संजय राउत के बयान को लेकर मानहानि का मामला दर्ज कराएंगे सुशांत सिंह राजपूत के परिजन ◾लीग चेयरमैन बृजेश पटेल ने दी जानकारी - यूएई में आईपीएल के लिये सरकार से मंजूरी मिली◾शाह फैसल ने जेकेपीएम के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, प्रशासनिक सेवा में लौटने की अटकलें जारी◾सुशांत सिंह राजपूत केस में SC पहुंची रिया चक्रवर्ती, कहा - मीडिया साबित करना चाहता है 'मैं दोषी हूं'◾विधानसभा सत्र से पहले पायलट ने राहुल और प्रियंका से की मुलाकात, घर वापसी की अटकलें तेज◾कोविड-19 : देश में रिकवरी दर 69 फीसदी के पार, मृत्यु दर घटकर दो प्रतिशत के करीब ◾पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी ◾इस स्वतंत्रता दिवस पर वाजपेयी का रिकॉर्ड तोड़ेंगे PM मोदी, 7वीं बार लाल किले से फहराएंगे तिरंगा◾आप्टिकल फाइबर परियोजना के उद्घाटन पर बोले पीएम मोदी- यह प्रोजेक्ट अंडमान-निकोबार को दुनिया से जोड़ेगा ◾मणिपुर में आज बीरेन सिंह सरकार का बहुमत परीक्षण, कांग्रेस-BJP ने विधायकों को जारी किया व्हिप◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में एक हजार से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 22 लाख के पार ◾देश में संसाधनों की लूट को रोकने के लिए EIA 2020 का मसौदा वापस ले सरकार : राहुल गांधी◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 97 लाख के पार, 7 लाख 29 हजार की मौत ◾जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के हमले में घायल भाजपा नेता ने इलाज के दौरान तोड़ा दम◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

महिलाओं ने कहा हम अपनी सुरक्षा के लिए शांति पूर्ण मार्च कर रहे थे, पुलिस ने की प्रदर्शनकारियों के साथ धक्का मुक्की

नई दिल्ली : राजघाट पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के अनशन का गुरुवार को 10वां दिन था। स्वाति के समर्थन में मुखर्जी नगर में यूपीएससी व एसएससी की तैयारी कर रहे छात्र व महिलाएं पहले धरना स्थल पर एकजुट हुए। यहां उन्होंने पहले स्वाति का हालचाल लिया। इसके बाद हाथों में तिरंगा लिए और रेपिस्टों को छह माह के भीतर फांसी की सजा की मांग के साथ जैसे ही प्रदर्शनकारी संसद मार्ग की ओर जाने के लिए राजघाट से निकले उन्हें दिल्ली गेट पर ही रोक दिया गया। 

यहां पर उन्हें आगे जाने की इजाजत दिल्ली पुलिस ने नहीं दी। पुलिस द्वारा बेरिकेट लगा कर रास्ते को बंद कर दिया गया। इस दौरान मार्च में शामिल छात्र व महिलाओं ने पुलिस से कहा कि वह शांति पूर्ण मार्च कर रहे हैं और उन्हें संसद मार्ग तक जाने दिया जाए। इस दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी ने प्रदर्शनकारियों की एक नहीं सुनी और उन्हें मार्च वापस लेने को कहा। इस दौरान महिलाओं ने हाथ में चूड़ी ले रखी थी और दिल्ली पुलिस के जवान को दिखाया जा रहा था। 

काफी देर तक पुलिस व प्रदर्शनकारी के बीच बहस चलती रही। इसी बीच महिलाओं द्वारा पुलिस पर चूड़ियां फेंकी गई। जिसमें पुलिस की महिला कर्मचारी को भी चूड़ी लगी। इसके बाद पुलिस ने भी कार्रवाई करते हुए छात्रों को हिरासत में लिया और मार्च को दिल्ली गेट से आगे नहीं बढ़ने दिया। पुलिस के साथ धक्का मुक्की में कई महिलाओं के साथ छात्रों को भी चोट आई हैं।

‘क्या महिलाएं अपनी सुरक्षा के लिए मार्च भी नहीं निकाल सकतीं ’

​प्रदर्शनकारियों के साथ दिल्ली पुलिस के बर्ताव पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि वे सभी लोग शांति पूर्ण मार्च कर रहे थे। उन्होंने कहा कि क्या महिलाएं अब अपनी सुरक्षा के लिए शांति पूर्ण मार्च भी नहीं निकाल सकती।

प्रदर्शनकारियों का आरोप पुलिस ने की मारपीट 

मार्च में शामिल महिलाओं व छात्रों ने दिल्ली पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे शांतिपूर्वक तरीके से अपनी बातों को रखने के लिए राजघाट से संसद मार्ग तक पैदल ही मार्च निकाल रहे थे। मगर पुलिस ने उन्हें दिल्ली गेट पर रोक दिया। इसके बाद पुलिस द्वारा उन्हें जबरन बस में डाल दिया गया, और मारपीट की गई। छात्र अभिषेक ने बताया कि प्रदर्शन करने पर पुलिस द्वारा उनके साथ मारपीट व धक्का-मुक्की की गई। 

कुछ युवाओं को खरोंचा गया, थप्पड़ मारे गए और उन्हें घसीट कर बैरिकेड की दूसरी तरफ फेंका गया। इस दौरान कुछ महिलाओं व छात्राओं से भी पुरुष पुलिसकर्मियों द्वारा धक्का-मुक्की करते हुए देखा गया। इसमें कई लोगों को गंभीर चोटें आई। एक कॉलेज छात्रा के कान के पास गहरा घाव होने के कारण काफी खून बहा। 

प्रदर्शन कर रहे लोगों का आरोप था कि पुलिस द्वारा जिन व्यक्तियों को पीटा गया। उनको अस्पताल लेकर जाने के लिए एंबुलेंस को भी अंदर नहीं आने दिया गया। पुलिस ने 8 से 10 महिलाएं एवं कुछ पुरुषों को  हिरासत में लिया और बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।