BREAKING NEWS

जगदीप धनखड़ ने उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली, राजघाट जा कर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि ◾मेस का खाना देखकर रोया कॉन्स्टेबल, बोला- मिलती हैं पानी वाली दाल और कच्ची रोटियां◾बिहार में मंत्रिमंडल को लेकर RJD की नजर 'ए टू जेड' पर, मंत्रियों की सूची पर लालू लगाएंगे अंतिम मुहर ◾बिज़नेस टाइकून एलन मस्क ने टेस्ला में अपने 80 लाख शेयर बेचे, क्या फिर करने जा रहे है बड़ा धमाका ◾राजस्‍थान : गौवंश पर कहर बनकर टूटा लम्‍पी रोग, हजारों मवेशियों की मौत के बाद पशु मेलों पर रोक◾गुरुग्राम के क्लब में बाउंसर ने की लड़की से छेड़छाड़, विरोध करने पर दोस्तों से हुई मारपीट, सात लोग गिरफ्तार◾ताइवान के खिलाफ चीन की 'आक्रामकता' पर ब्रिटेन सख्त, उठाया ये कदम ◾जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, सेना कैंप में घुस रहे 2 आतंकी ढेर, 3 जवान शहीद◾आज का राशिफल (11 अगस्त 2022)◾हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾

सागर धनखड़ हत्याकांड : दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक और आरोपी को किया गिरफ्तार, 50 हजार का था इनाम

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पहलवान सुशील कुमार से जुड़े सागर धनखड़ हत्याकांड में एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की पहचान प्रवीण डबास (24) के रूप में हुई है, जिसके सिर पर 50 हजार रुपये का इनाम था। इस हत्याकांड  मामले में पुलिस अब तक 18 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। दो चार्जशीट पहले ही दायर की जा चुकी हैं और मामला निचली अदालत में विचाराधीन है। स्पेशल सेल के डीसीपी जसमीत सिंह ने कहा कि, आरोपी नौ महीने से फरार था और एक गुप्त सूचना के बाद उसे पकड़ लिया गया। पहलवान सुशील कुमार ने अपने सहयोगियों के साथ छत्रसाल स्टेडियम में प्रतिद्वंद्वी समूह के सदस्यों पर हमला किया था, जिसमें सागर धनखड़ नाम के पहलवान की मौत हो गई थी।

सुल्तानपुर डबास के पास से किया गिरफ्तार 

स्पेशल सेल के डीसीपी ने बताया कि, उन्होंने इंस्पेक्टर शिव कुमार और करमवीर को मिली सूचना के बाद आरोपी को  गिरफ्तार किया गया जिसके लिए एसीपी अत्तर सिंह ने एक टीम बनाई थी, जिन्होंने छापेमारी की और आरोपी को पकड़ लिया। पुलिस अधिकारी ने कहा, परवीन डबास को तीन और चार जनवरी की दरम्यानी रात को दिल्ली में सुल्तानपुर डबास के पास प्रेम पियाओ रोड से गिरफ्तार किया गया था। वह सागर धनखड़ हत्याकांड में वांछित था। पुलिस ने कहा कि, टीम को उसके बारे में करीब एक महीने पहले सूचना मिली थी और तब से वे गुप्त सूचना पर काम कर रहे थे। उन्होंने परवीन डबास की गतिविधियों के बारे में जानकारी जुटाई। टीम को तीन जनवरी को परवीन डबास के अपने सहयोगी से मिलने उसके गांव आने की विशेष सूचना मिली थी। सूचना वरिष्ठ अधिकारियों के साथ साझा की गई और तुरंत एक छापेमारी टीम का गठन किया गया। स्पेशल सेल ने गांव सुल्तानपुर डबास के पास प्रेम पियाओ रोड के पास जाल बिछाया।

गैंगस्टर काला जठेडी का भतीजा था सागर धनखड़

पुलिस अधिकारी ने कहा, परवीन को रात में उक्त सड़क पर आते हुए देखा गया। उसे घेर लिया गया और अंतत: पुलिस टीम के सदस्यों ने उसे पकड़ लिया। उन्होंने बताया, आरोपी के कानून की उचित धाराओं के तहत गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया, पूछताछ के दौरान परवीन ने खुलासा किया कि उसने सुशील पहलवान और उसके साथियों के साथ लाठियों, हॉकी स्टिक और डंडों से लैस होकर छत्रसाल स्टेडियम में अपने प्रतिद्वंद्वी समूह के सदस्यों को बेरहमी से पीटा था। हमले के दौरान सागर धनखड़, सोनू महल, अमित और प्रतिद्वंद्वी समूह के अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। बाद में सागर धनखड़ ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। सागर धनखड़ कुख्यात गैंगस्टर काला जठेडी का भतीजा था, जो सुशील पहलवान द्वारा अपने सहयोगियों के साथ वारदात को अंजाम देने पर क्रोधित हो गया था। पुलिस अधिकारी ने कहा, इस हत्या के तुरंत बाद एक समय दोनों समूहों के बीच गैंगवार शुरू होने की प्रबल आशंका थी, लेकिन दिल्ली पुलिस ने इस मामले में शामिल हमलावरों की एक के बाद एक गिरफ्तारी करके इसे टाल दिया।