BREAKING NEWS

चीन के साथ तनाव के बीच, लद्दाख में भारत ने स्पेशल फोर्स के जवानों को तैनात किया◾बिहार में आकाशीय बिजली ने आज फिर बरपाया कहर, चपेट में आने से 20 लोगों की हुई मौत◾चीन के साथ तनाव के बीच मोदी सरकार ने Mig-29 और सुखोई विमानों की खरीद को दी मंजूरी◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का लद्दाख दौरा हुआ स्थगित, सैन्य तैयारियों का लेना था जायजा◾राहुल ने केंद्र पर रेलवे का निजीकरण करने का लगाया आरोप, बोले- रेल को भी गरीबों से छीन रही है सरकार◾रविशंकर प्रसाद बोले-अगर कोई बुरी नजर डालता है तो भारत मुंहतोड़ जवाब देगा◾दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शाह ने आज योगी,केजरीवाल और खट्टर की बुलाई बैठक ◾ जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾देश के पहले 'प्लाज्मा बैंक' का CM केजरीवाल ने किया उद्घाटन, जाने कैसे डोनेट कर सकते हैं प्लाज्मा◾मध्यप्रदेश : शिवराज चौहान के मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार, 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्री ने ली शपथ ◾देश में कोरोना का आंकड़ा 6 लाख के पार, पिछले 20 दिनों के अंदर 3 लाख से अधिक केस आए सामने ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 6 लाख के पार, अब तक 5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾असम में बाढ़ से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 33 हुई, 15 लाख लोग हुए प्रभावित◾प्रियंका गांधी का मकान खाली कराने का कदम PM मोदी और CM योगी की बेचैनी दिखाता है : कांग्रेस◾रेलवे ने दी निजी यात्री ट्रेने शुरू करने को हरी झंडी, 30,000 करोड़ रुपये का होगा निवेश◾भारत के साथ सैन्य कमांडरों की बातचीत में प्रगति का चीन ने किया स्वागत, कहा - तनाव जल्द कम होगा ◾चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर भारत के साथ खड़ा हुआ अमेरिका, कहा - सुरक्षा के लिए जरूरी ◾दिल्ली में 2,442 नए मामले सामने आने के बाद कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 89 हजार के पार ◾UAPA कानून के तहत गृह मंत्रालय ने खालिस्तानी समूहों से जुड़े नौ लोगों को आतंकवादी घोषित किया ◾ 5,537 नए मामलों के साथ महाराष्ट्र में कोरोना मीटर पहुंचा 1,80,298, अबतक 8,053 मरीजों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केजरीवाल सरकार की Odd-Even योजना को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, शुक्रवार को होगी सुनवाई

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार की ऑड-ईवन स्कीम को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करेगा। याचिका में आरोप लगाया गया है कि यह योजना मनमानी और कानूनी प्रावधानों के विपरीत है तथा ‘राजनीतिक और वोट बैंक के हथकंडे’ के अलावा यह कुछ नहीं है। यह याचिका नोएडा निवासी एक अधिवक्ता ने दायर की है। 

याचिका में आरोप लगाया गया है कि इस योजना के बारे में दिल्ली सरकार की एक नवंबर की अधिसूचना से मौलिक अधिकारों का हनन होता है। याचिका में कहा गया है किऑड-ईवन वाहन योजना दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के निवासियों के मौलिक अधिकारों का हनन करती है। याचिका में कहा गया है कि पड़ोसी राज्यों से रोजना हजारों लोग नौकरी और कारोबार के सिलसिले में अपने वाहनों से दिल्ली आते हैं और लौटते हैं, ऐसी स्थिति में इस योजना से संविधान के अनुच्छेद 19 (1)(जी) के प्रावधान का हनन होता है। 

याचिका में कहा गया है कि ऑड-ईवन स्कीम नागिरकों के अपना व्यवसाय करने, व्यापार और कारोबार करने तथा बगैर किसी बाधा के देश में कहीं भी जाने के मौलिक अधिकार का हनन करती है। ऑड-ईवन स्कीम के बारे में दिए गए तर्कों पर सवाल उठाते हुए याचिका में कहा गया है कि दिल्ली की वायु गुणवत्ता के बारे में केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड सहित तीन स्रोतों के आंकड़ों ने पुष्टि की है कि पहले भी लागू की गयी इस योजना से राजधानी में प्रदूषण के स्तर में कमी नहीं आयी थी। 

दिल्ली सरकार की यह योजना चार नवंबर को शुरू हुयी है और यह 15 नवंबर तक प्रभावी रहेगी। इस दौरान एक दिन दिन सम संख्या और दूसरे दिन विषम संख्या वाली कारें चलेंगी। याचिका में कहा गया है कि ऑड-ईवन स्कीम सिर्फ चार पहिए वाले मोटर वाहनों के लिए है जबकि कारों की तुलना में अधिक प्रदूषण पैदा करने वाले दुपहिया वाहनों को इसके दायरे से बाहर रखा गया है। याचिका के अनुसार यह योजना लैंगिक आधार पर महिलाओं और पुरूषों के बीच पक्षपात करती है। 

साइकिलों पर पराली लेकर मनीष सिसोदिया के घर पहुंचे विजय गोयल

इसके तहत अगर महिला कार चला रही है तो उसे ऑड-ईवन स्कीम के दायरे से बाहर रखा गया है। याचिका में आरोप लगाते हुए कहा गया है कि ऐसा लगता है कि पराली जलाने वाले किसानों, राजनीतिक दलों, एयर प्योरीफायर कंपनियों तथा प्रदूषण से बचने के लिए मास्क बनाने वाली कंपनियों के बीच साठगांठ है। वरना दिल्ली सरकार को यह कैसे पता लगता है कि पराली का धुआं ऑड-ईवन स्कीम की तारीखों के आसपास ही दिल्ली पहुंचेगा। 

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने चार नवंबर को ही दिल्ली सरकार की ऑड-ईवन स्कीम पर सवाल उठाया था और जानना चाहा था कि दुपहिया और तिपहिया वाहनों और टैक्सियों की तुलना में कहीं कम प्रदूषण करने वाली कारों को ऑड-ईवन स्कीम के तहत चलने से रोक कर उसे क्या हासिल होगा। 

कोर्ट ने अतीत में लागू की गयी ऑड-ईवन स्कीम के तहत प्रदूषण में आयी कमी के नतीजों का विवरण पेश करने का निर्देश दिल्ली सरकार को दिया था। ऑड-ईवन स्कीम के खिलाफ दायर याचिका पर कोर्ट वायु प्रदूषण से संबंधित मामलों के साथ ही सुनवाई करेगा।