BREAKING NEWS

PNB धोखाधड़ी मामला: इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस फिर से किया सार्वजनिक ◾कोरोना संकट के बीच, देश में दो महीने बाद फिर से शुरू हुई घरेलू उड़ानें, पहले ही दिन 630 उड़ानें कैंसिल◾देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज ◾उत्तर भारत के कई हिस्सों में 28 मई के बाद लू से मिल सकती है राहत, 29-30 मई को आंधी-बारिश की संभावना ◾महाराष्ट्र पुलिस पर वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 18 की मौत, संक्रमितों की संख्या 1800 के पार ◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर किया गया सील, सिर्फ पास वालों को ही मिलेगी प्रवेश की अनुमति◾दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 276 लोगों की मौत, संक्रमित मामले 14 हजार के पार◾3000 की बजाए 15000 एग्जाम सेंटर में एग्जाम देंगे 10वीं और 12वीं के छात्र : रमेश पोखरियाल ◾राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश◾राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने हॉकी लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾CM केजरीवाल बोले- दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं ◾अखबार के पहले पन्ने पर छापे गए 1,000 कोरोना मृतकों के नाम, खबर वायरल होते ही मचा हड़कंप ◾महाराष्ट्र : ठाकरे सरकार के एक और वरिष्ठ मंत्री का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव◾10 दिनों बाद एयर इंडिया की फ्लाइट में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग : सुप्रीम कोर्ट◾2 महीने बाद देश में दोबारा शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कई फ्लाइट कैंसल होने से परेशान हुए यात्री◾हॉकी लीजेंड और पद्मश्री से सम्मानित बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन◾Covid-19 : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 54 लाख के पार, अब तक 3 लाख 45 हजार लोगों ने गंवाई जान ◾देश में कोरोना से अब तक 4000 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 39 हजार के करीब ◾पीएम मोदी ने सभी को दी ईद उल फितर की बधाई, सभी के स्वस्थ और समृद्ध रहने की कामना की ◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- निजामुद्दीन मरकज की घटना से संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि, देश को लगा बड़ा झटका ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

टीएमसी के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने संसद के गलियारे से दिया भाषण, दिल्ली हिंसा पर चर्चा की मांग की

तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ ब्रायन ने अभूतपूर्व कदम उठाते हुए संसद भवन के गलियारे से 10 मिनट का भाषण दिया और दिल्ली हिंसा पर चर्चा कराने की मांग की। उनका कहना है कि सरकार दिल्ली हिंसा पर चर्चा कराने की इच्छुक नहीं है। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ने अपना भाषण शुरू करने से पहले कहा कि विपक्षी दल पिछले पांच दिन से लगातार इस मुद्दे पर चर्चा कराने के लिये नोटिस दे रहे हैं। 

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार दोनों सदनों में काम रोक रही है। डेरेक ने कहा, ''मैं तृणमूल कांग्रेस की ओर से भाषण देने के लिये तैयार था। सभापति महोदय मैं क्या कर सकता हूं, सरकार संसद चलने नहीं दे रही। आज यानि शुक्रवार को मुझे अपना भाषण देना था और मैं इसे सदन में न देकर प्रथम तल पर दे रहा हूं। 

प्रियंका गांधी ने यस बैंक को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात

हमें आवाज सुनाने के लिये अलग-अलग तरीके अपनाने पड़ रहे हैं। इसलिये मैं यहां आया हूं।'' डेरेक ने अपने भाषण का वीडियो सोशल मीडिया पर भी डाला है। उन्होंने कहा, ''गृह मंत्री ने प्रभावित इलाकों का दौरा तक नहीं किया। हिंसा भड़काऊ नारेबाजी से शुरू हुई। 

हम सभी जानते हैं कि किन लोगों ने ये सब किया। उन्हें ऐसे नारे लगाने की हिम्मत कहां से मिली? प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से। एकदम ऐसा लगा कि उन्होंने ही इन नारों को मान्यता दी है। ये नारे कट्टरता और नफरत फैला रहे हैं।'' सांसद ने आरोप लगाया, ‘‘(प्रधानमंत्री नरेन्द्र) मोदी और (गृह मंत्री अमित) शाह सिर्फ चुनावी कार्यक्रम तय करते हैं। 

दिल्ली हिंसा में जख्मी DCP को बचाने वाले घायल ACP बोले- 4 फीट की रेलिंग न होती तो भीड़ मार देती

सार्वजनिक मंचों पर पर्याप्त साक्ष्य हैं जो संकेत करते हैं कि इस तरह के दंगों और नरसंहार से सिर्फ एक राजनीतिक दल को लाभ होता है... उन्होंने संसद की कार्यवाही ठप कर रखी क्योंकि वे मुश्किल सवालों का जवाब नहीं देना चाहते।’’ 

दिल्ली हिंसा की तुलना नाजी जर्मनी से करते हुए डेरेक ने कहा, ‘‘नरसंहार एक प्रक्रिया है, नाजियों के वक्त भी यह गैस चेंबरों से शुरू नहीं हुआ था। यह घृणा फैलाने वाले नारों से शुरू हुआ था।’’ उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि चर्चा के लिए विपक्षी दलों द्वारा दिए गए नोटिसों में से आखिरी नोटिस नवंबर 2016 में स्वीकार किया गया था।