BREAKING NEWS

आज का राशिफल (15 अगस्त 2022)◾Independence Day : प्रधानमंत्री मोदी आज लाल किले की प्राचीर से फहराएंगे तिरंगा, सुरक्षा ऐसी व्यवस्था की परिंदा भी पर न मार सके◾J&K : कश्मीर में आतंकवादियों के घरों पर तिरंगा फहराया◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने ने राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में भारत की सफलता की कहानी पर प्रकाश डाला◾उपराष्ट्रपति ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को दी बधाई ◾PM मोदी 15 अगस्त को प्रमुख स्वास्थ्य परियोजनाओं की कर सकते हैं घोषणा◾ममता ने Modi सरकार पर साधा निशाना , कहा -गैर-राजग शासित राज्यों में सरकार गिराने की कोशिश कर रही है BJP◾हमने तरक्की की, पर कई देश भारत से आगे निकल गए भारत पीछे क्यों रह गया : AK◾जम्मू-कश्मीर : 'छड़ी-मुबारक' 'पूजन' और 'विसर्जन' के साथ वार्षिक अमरनाथ यात्रा का समापन◾राष्ट्रपति मुर्मू ने वीरता पुरस्कारों को मंजूरी दी; सेना के स्वान एक्सेल की सेवा को भी सराहा गया◾राजस्थान में दलित बच्चे की पिटाई करने के मामले में आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए : राहुल◾स्वतंत्रता दिवस से पहले पंजाब पुलिस ने दिल्ली पुलिस की मदद से बड़े आतंकी खतरे को किया नाकाम ◾स्वतंत्रता दिवस : दिल्ली से लेकर कश्मीर तक सुरक्षा के चाक चौबंद इंतज़ाम◾J&K : श्रीनगर के नौहट्टा इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी घायल◾एकनाथ का ऐलान - ‘वास्तविक’ शिवसेना और भाजपा मिलकर महाराष्ट्र में निकाय चुनाव लड़ेंगे◾J&K : श्रीनगर में 1850 मीटर लंबा तिरंगा प्रदर्शित किया गया, अधिकारियों ने बताया इसे देश में सबसे लंबा झंडा ◾भाकपा ने कहा- सम्मानजनक प्रतिनिधित्व मिलने पर नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में शामिल होंगे◾भारत ने दुनिया को लोकतंत्र की वास्तविक क्षमता का पता लगाने में मदद की: राष्ट्रपति मुर्मू◾Delhi: केजरीवाल ने कहा- ऊंचाई वाले 500 स्तंभों पर झंडा लहराने के साथ दिल्ली ‘तिरंगे का शहर’ बन गया◾मध्यप्रदेश : शहर की 80 फीसदी सरकार पर भी भाजपा का कब्जा ◾

नहीं होगी जलजमाव की समस्या, दिल्ली में विकसित होगा विश्व स्तरीय ड्रेनेज सिस्टम: केजरीवाल

देश की राजधानी दिल्ली में सोमवार को आखिरकार मॉनसून की तेज बारिश हुई और इसके साथ ही दिल्ली में कई जगहों पर जलभराव की परेशानी देखने को मिली। दिल्ली की केजरीवाल सरकार और दिल्ली नगर निगम हर साल तमाम दावे करती है कि इस बार मॉनसून की बारिश में दिल्ली नहीं डूबेगी, लेकिन हर बार वहीं ढाक के तीन पात। खैर इस बार मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में ‘‘विश्व स्तरीय जल निकासी व्यवस्था’’ विकसित की जाएगी।
उन्होंने कहा कि मिंटो रोड जैसी जल निकासी व्यवस्था समूची दिल्ली में लागू की जाएगी और नालियों और सीवरों को नियमित रूप से साफ किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी), नगर निकायों, दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) और सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण (आई एंड एफसी) के अधिकारियों के साथ शहर की जल निकासी व्यवस्था पर समीक्षा बैठक में भाग लेने के बाद यह घोषणा की। बैठक की अध्यक्षता उपराज्यपाल अनिल बैजल ने की।
केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘मॉनसून को देखते हुए दिल्ली के ड्रेनेज सिस्टम को लेकर उपराज्यपाल की अध्यक्षता में पीडब्ल्यूडी, एमसीडी, डीजेबी, आई एंड एफसी के साथ समीक्षा बैठक की। मिंटो रोड जैसा सिस्टम दिल्ली के अन्य इलाकों में भी बनेगा। नालों और सीवर की नियमित सफाई की जाएगी। दिल्ली में विश्व स्तरीय ड्रेनेज सिस्टम बनाएंगे।’’
दिल्ली के मिंटो रोड ब्रिज के नीचे कई बार जलजमाव हो जाता था। कनॉट प्लेस को मध्य दिल्ली के नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन, रामलीला मैदान आदि को जोड़ने वाला यह महत्वपूर्ण मार्ग है। पिछले साल जुलाई में मिंटो ब्रिज के नीचे जलजमाव में मिनी ट्रक के डूबने से 56 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी थी। हालांकि इस साल मिंटो ब्रिज के नीचे जलजमाव नहीं हुआ है।
पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों ने कहा कि मिंटो ब्रिज से पानी निकालने के लिए करीब नौ पंप लगाए गए हैं, साथ ही जल्द कार्रवाई और निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरों के साथ अलार्म भी लगाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मैं सभी अधिकारियों और इंजीनियरों को बधाई देना चाहता हूं। मिंटो ब्रिज पर उनके काम ने साबित कर दिया है कि हमारे पास उन सभी जगहों पर जल जमाव को रोकने की क्षमता है जहां पानी जमा हो जाता है। हम ऐसे 147 स्थानों के बारे में जानते हैं। यदि हम व्यापक नक्शा तैयार करते हैं, तो हम सभी संभावित स्थानों पर ऐसा कर सकते हैं।’’
बाद में सरकार ने एक बयान जारी किया जिसमें पीडब्ल्यूडी मंत्री सत्येंद्र जैन ने एजेंसियों से पूरी तरह से तैयार रहने और किसी भी समस्या से निपटने के लिए चौबीसों घंटे सतर्क रहने को कहा। एक सरकारी बयान में, मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले लोग मिंटो ब्रिज के नीचे जलभराव के बाद मॉनसून की शुरुआत की घोषणा करते थे, लेकिन इस बार मॉनसून आया लेकिन मिंटो ब्रिज के नीचे जलजमाव नहीं हुआ।