BREAKING NEWS

हमारा ध्यान देश की विरासत और संस्कृति बचाने पर : PM मोदी◾मोदी सरकार चेहरे पर कुछ और बोलती है, लेकिन अपने बगल में खंजर रखती है : दर्शन पाल◾किसानों को डर दिखाकर बहकाया जा रहा है, कृषि कानून पर बैकफुट पर नहीं आएगी सरकार : PM मोदी◾किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अमेरिका में दिलचस्प हुई चुनावी जंग

अमेरिका में राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के चुनावों में डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन और उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस का राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उपराष्ट्रपति माइक पेंस को चुनौती देना तय हो गया। उम्मीदवारी को स्वीकार करने के साथ ही भारतीय मूल की कमला हैरिस उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार बनने वाली पहली अश्वेत और दक्षिण एशियाई मूल की महिला बन गई हैं। अपने भाषण में कमला हैरिस ने खुद को भारत और जमैका के अप्रवासियों की बेटी बताया है। इसके साथ ही चुनावी जंग को धार मिलने लगी है और तीखी बयानबाजी भी शुरू हो गई है। ट्रंप पर अमेरिका को फटेहाल बनाने के आरोप लगाये जा रहे हैं तो दूसरी तरफ ट्रंप और उनकी टीम बाइडेन और कमला को अयोग्य बता रहे हैं।

बराक ओबामा के आठ वर्ष के शासन के दौरान उनके हर फैसले के पीछे बाइडेन मजबूती से खड़े रहे। उनके पास बेहतर प्रशासनिक अनुभव है। अपने समर्थकों के बीच जो बाइडेन  विदेश नीति के विशेषज्ञ  के तौर पर मशहूर है। वाशिंगटन डीसी में राजनीति करने का कई दशकों का तजुर्बा है। उन्होंने अपने जीवन में बहुत उतार-चढ़ाव देखे हैं, बहुत सी त्रासदियां झेली हैं। उनकी सबसे बड़ी खासियत है कि वह बड़ी सहजता से आम आदमी से नाता जोड़ लेते हैं। विरोधियों की नजर में बाइडेन ऐसा व्यक्ति है जो अमेरिकी सत्ता में गहरे रचे-बसे इन्सान हैं, जिनमें काफी कमियां भी हैं। विरोधी कहते हैं कि वह अपने भाषण में झूठे दावे करते हैं। जो बाइडेन का चुनाव प्रचार से बड़ा पुराना नाता रहा है। अमेरिका की संघीय सियासत में उनके करियर की शुरुआत 1973 में सीनेट के चुनाव से हुई थी और उन्होंने राष्ट्रपति चुनाव में भागीदारी के लिए पहला दाव आज से 33 वर्ष पहले चला था। जो बाइडेन राष्ट्रपति बनने की तीसरी कोशिश कर रहे हैं। गलत बयानबाजी के चलते उनका पहला अभियान शुरू होने से पहले ही खत्म हो गया था तथा उन्होंने अपनी रैलियों में यह कहना शुरू कर दिया था कि उनके पूर्वज उत्तरी पश्चिमी पेंसिल्वेनिया  की कोयला खदानों में काम करते थे, उनके पूर्वजों को जिन्दगी में आगे बढ़ने के मौके नहीं मिले जिसके वह हकदार थे मगर वास्तविकता यह है कि उनके पूर्वजों में से किसी ने भी कोयले की खदान में काम नहीं किया था। बाइडेन  ने यह जुमला ब्रिटेन के राजनीतिज्ञ नील ​किनॉक की नकल करते हुए अदा किया था जो उन्हें भारी पड़ा था। नील ​किनॉक के पूर्वज कोयला खदानों में काम करने वाले मजदूर थे।

उनके बयानों पर कई बार हंगामे होते रहे हैं, इसके बावजूद वह अमेरिका के अफ्रीकी-अमेरिकी समुदाय में काफी लोकप्रिय हैं। वह अच्छे वक्ता हैं और अपने दिलकश अंदाज में लोगों में जोश भर रहे हैं और फिर बड़ी सहजता से उस भीड़ का हिस्सा बन जाते हैं। लोगों के बीच जाकर उनसे हाथ मिलाते हैं, गले मिलते हैं। लोगों के साथ सेल्फी खींचते हैं। 1970 के दशक में उन्होंने अमेरिकी बच्चों के बीच नस्लीय भेदभाव कम करने के लिए उन्हें एक साथ पढ़ाने का विरोध करने वालों का साथ दिया था तब उन्हें उनके स्टैंड के लिए बार-बार निशाना बनाया गया। अब काले लोगों पर पुलिस की हिंसा को लेकर और कोरोना वायरस संकट से निपटने को लेकर बाइडेन ट्रंप से पूरी तरह भिड़ चुके हैं। अब सवाल यह है कि क्या बाइडेन चुनावों में ट्रंप को मात दे पाएंगे? जहां तक उपराष्ट्रपति की उम्मीदवार कमला हैरिस का सवाल है तो वह भी जानी-मानी अश्वेत नेता हैं लेकिन उन्होंने अपनी भारतीय जड़ें नहीं छोड़ी हैं। उनकी मां श्यामला मानवाधिकार कार्यकर्ता रहीं हैं। जमैका मूल के पति से अलग होकर उनकी मां ने दोनों बेटियों को भारतीय संस्कृति के साथ पाला। कमला हैरिस बड़ी ही शान से अपनी अफ्रीकी-अमेरिकी जिन्दगी जीती हैं। अब यह सवाल उठाया जा रहा है कि कमला हैरिस की उम्मीदवारी को लेकर भारत में लोग इतने उत्साही क्यों हैं? यह भी कहा जा रहा है कि कमला हैरिस के भीतर अब भारत कितना बचा है?

कमला हैरिस की उम्मीदवारी को लेकर हमें देखना होगा कि उनकी नीतियां क्या हैं? भारत-अमेरिका संबंध उस पड़ाव पर पहुंच चुके हैं जहां से उन्हें बेहतरी की तरफ ही ले जाना चाहिए लेकिन कमला हैरिस जिस डेमोक्रेटिक पार्टी का प्रतिनिधित्व करती हैं,जिन विचारों को प्रदर्शित करती हैं और भारत से जुड़े कई मुद्दों पर उनकी पार्टी की राय से भारत सहमत नहीं होगा। कश्मीर और सीएए को लेकर कमला हैरिस के बयानों से भारत सहमत नहीं है। स्पष्ट है कि कमला हैरिस अपनी पार्टी की नीतियों का ही अनुसरण करेंगी। भारत ने वह दौर भी देखा है जब जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद चरम पर था और अमेरिका पाकिस्तान के पक्ष में था। जूनियर बुश और बिल क्लिंटन की सरकारें पाकिस्तान पर डालर की बरसात करती रही। उम्मीद तो की जानी ​चाहिए कि कमला हैरिस भारत के साथ संबंधों को प्राथमिकता देंगी। भारत-अमेरिका संबंध इसलिए मत्वपूर्ण हो गए हैं क्योंकि दोनों के हित आपस में मिलते हैं। 1960 के दशक में अमे​रिका में नस्लभेद के विरुद्ध आन्दोलन में कमला हैरिस के माता-पिता की भी भागीदारी थी। इसका प्रभाव कमला हैरिस पर पड़ा और वह एक सशक्त मानवाधिकार कार्यकर्ता के रूप में उभरी। जहां तक मानवाधिकारों का प्रश्न है, भारत खुद मानवाधिकारों का प्रबल समर्थक है। फिलहाल अमेरिका के चुनाव दिलचस्प मोड़ पर हैं। देखना होगा कि अमेरिका के लोग  कैसा जनादेश देते हैं।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]