BREAKING NEWS

Uttar Pradesh by-election : BJP के लिए बदल रहा है मुस्लिमों का नजरिया!◾BJP सांसद की कार से कुचलकर बच्चे की मौत, पिता का आरोप - अब तक कोई कार्यवाही नहीं◾मदरसों में कक्षा 1 से 8 तक अब नहीं मिलेगी स्कॉलरशिप, केंद्र सरकार ने लगाई रोक◾अमेरिका के मैरीलैंड में बड़ा हादसा : बिजली के पोल से टकराया विमान, 90 हज़ार घरों की बत्ती गुल◾आफताब को लेकर दिल्ली के रोहिणी में स्थित FSL पहुंची पुलिस, आज फिर होगा पॉलीग्राफ टेस्ट◾भारत जोड़ो यात्रा : बुलेट के बाद साइकिल की सवारी करते दिखे राहुल गांधी◾Maharashtra: राज ठाकरे की कांग्रेस व भाजपा से अपील, राष्ट्रीय नायकों को बदनाम करना बंद करें◾आज का राशिफल (28 नवंबर 2022)◾Rajasthan News: धर्मेंद्र प्रधान ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा -कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मिले जनादेश का अपमान कर रही है◾राष्ट्रपति मुर्मू 29 नवंबर को हरियाणा रोडवेज में E -Ticket प्रणाली की शुरुआत करेंगी,छह डिपो में होगी लागू◾AAP पर निशाना साधते हुए बोले PM - नर्मदा विरोधी ताकतों के समर्थकों को गुजरात में पैर जमाने देने का पाप न करें◾CM गहलोत को कुछ शब्दों का नहीं करना चाहिए था इस्तेमाल, हम संगठन को मजबूत करने वाला लेंगे फैसला : जयराम ◾Kerala : बंदरगाह विरोधी प्रदर्शनकारियों ने थाने पर किया हमला, 9 पुलिसकर्मी घायल, मीडिया से भी की बदसलूकी ◾Mangaluru Blast : कर्नाटक पुलिस ने तमिलनाडु में कई स्थानों पर की छापेमारी, लोगों को किया तलब ◾गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ शामिल IPL 2022 फाइनल, BCCI सचिव जय शाह ने दी जानकारी◾FIFA World Cup 2022 : जापान को कोस्टा रिका ने हराया, 1-0 से दी मात◾PM मोदी ने कहा- कांग्रेस और अन्य दल आतंकवाद को कामयाबी के ‘शॉर्टकट’ के रूप में देखते ◾ Punjab: पंजाब में दिल दहला देने वाला मामला, ट्रेन की चपेट में आने से तीन की मौत, जानें पूरी स्थिति◾Delhi: हाई कोर्ट ने कहा- मसाज पार्लर की आड़ में होने वाली वेश्यावृत्ति रोकने के लिए कदम उठाए दिल्ली पुलिस◾Bihar News: उमेश कुशवाहा को फिर मिला मौका, बने रहेंगे जदयू की बिहार इकाई के अध्यक्ष◾

सरकार का मिशन पाॅम ऑयल

पिछले कुछ समय से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में खाद्य तेलों के दामों में काफी तेजी चल रही है और भारत में भी खाद्य तेलों की बढ़ती कीमतों से जनता को परेशान कर रही हैं। भारत में हर साल 200 लाख टन खाद्य तेल की खपत होती है। इसमें 150 लाख टन के लिए हम आयात पर निर्भर है यानि हम सिर्फ 25 प्रतिशत उत्पादन अपने देश में करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में खाद्य तेलों में कीमतों में उतार-चढ़ाव का प्रभाव भारतीय बाजारों पर भी पड़ता ही है। पाॅम ऑयल एक खाने का तेल है जो ताड़ के पेड़  बीजों से निकाला जाता है। इसका उपयोग सबसे ज्यादा होटलों, रेस्तराओं में बतौर खाद्य तेल किया जाता है। इसके अलावा नहाने के साबुन और टॉफी-चाकलेट में और अन्य कई उत्पादों में किया जाता है। भारत अपनी जरूरत के मुताबिक इंडोनेशिया और मलेशिया से पाॅम ऑयल निर्यात करता है। जुलाई 2021 में पॉम आॅयल का आयत पहले से घटा है।

2018 में तो भारत पॉम Bका आयात करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा देश बन गया था। खाद्य तेलों के आयात को कम करने के ​िलए केन्द्र सरकार ने तिलहन और ताड़ की खेती पर काम करना शुरू किया और वर्ष 2014-15 में नेशनल मिशन आन ऑयल सीड्स और पॉम योजना की शुरुआत की जिसे वर्ष 2018-19 में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के साथ जोड़ दिया गया था। खाद्य तेलों की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने अब पॉम ऑयल मिशन को मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में इस मिशन पर मुहर लगाई गई है। मशीन के लिए कुल 11040 करोड़ रुपए के बजट का प्रावधान किया गया है, जिससे राज्य सरकारों की भी हिस्सेदारी होगी। सरकार पॉम के साथ-साथ तिलहन की खेती पर जोर देगी। पॉम ऑयल की कीमत सरकार तय करेगी ताकि जब किसान खेती करें तो उन्हें अपनी फसल की कीमत पता हो। कई बार बाजार में उतार-चढ़ाव के कारण किसानों को सही कीमत नहीं मिल पाती, ऐसे में अगर पॉम की कीमत बाजार में कम हुई तो तय कीमत के अनुसार जो अंतर होगा उसका भुगतान सीधे किसानों के खाते में किया जायेगा। मिशन के तहत उत्तर पूर्वी राज्यों में 3.28 लाख हैक्टेयर और देश के दूसरे हिस्सों में 3.22 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में पाॅम की खेती की जाएगी। पाम ऑयल से जुड़ी इंडस्ट्री लगाने पर 5 करोड़ की सरकारी सहायता भी देगी। अभी तक देश में 3.5 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में पाॅम की खेती हो रही है, जिसे आगे बढ़ाकर दस लाख हैक्टेयर तक ले जाने की योजना है।

खाद्य तेलों की तेजी का मुख्य कारण चीन भी है। पिछले एक वर्ष में चीन ने अपनी खपत से चार गुना अधिक तेल खरीदा। कोरोना की वजह से भी इंडोनेशिया और मलेशिया में पाॅम का उत्पादन प्रभावित हुआ। अमेरिका और अर्जेंटीना से सोयाबीन का तेल आता है। वहां भी मौसम खराब रहा। लम्बे समय तक बंदरगाहों पर हड़ताल रही, जिससे आपूर्ति में काफी देरी हुई। पिछले दस महीनों में देश में पॉम ऑयल की कीमतें दोगुनी हो चुकी हैं। इसकी बड़ी मार गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार झेल रहे हैं। इसलिए जरूरी है कि हम स्वयं पाॅम की खेती में आत्मनिर्भर बनें। हम विदेशी निर्भरता से मुक्त होंगे तो ही लोगों को तेल मिलेगा।

पैट्रोल-डीजल के दामों और महंगाई ने पहले से ही लोगों का तेल निकाला हुआ है। सरकार की योजना से किसानों को रोजगार मिलेगा। छोटे और मध्यम वर्गीय व्यापारियों को काम मिलेगा। अभी तक देश में सरसों, सोयाबीन और बिनौला तेल ही मुख्य फसल हैं। खाद्य तेलों के व्यापारियों को प्रोत्साहन मिलेगा। पॉम ऑयल मिशन के तहत सरकार ने इस बात का ध्यान रखा है कि इसकी खेती से किसानों का घाटा न हो। पहले प्रति हैक्टेयर 12 हजार रुपए दिए जाते थे, जिसे बढ़ाकर 29 हजार प्रति हेक्टेयर कर दिया गया है। पाॅम ऑयल के आयात पर केन्द्र सरकार 50 करोड़ रुपए सालाना खर्च करती है। सरकार इस खर्च को कम करना चाहती है। अन्य तिलहनों की तुलना में प्रति हैक्टेयर के हिसाब से ताड़ के तेल का उत्पादन प्रति हैक्टेयर 10 से 46 गुना अधिक होता है। एक हैक्टेयर की फसल से लगभग चार टन तेल निकलता है। एक बार खेती करने पर 30 साल तक इन पेड़ों से फल मिलते रहते हैं, इस वजह से इसे फायदे का सौदा माना जाता है।

डीजल और पैट्रोल में जो बायोफ्यूल के अंश शामिल होते हैं जो मुख्य तौर पर पाॅम तेल से ही मिलते हैं। सरकार को पाॅम की खेती को बढ़ावा देने के लिए इस बात का ध्यान रखना होगा कि पर्यावरण पर इसका प्रभाव न पड़े। जंगलों को काटकर इसकी खेती न की जाए बल्कि जो खाली पड़ी जमीन है, वहां ही इसकी खेती की जाए। पूर्वोत्तर राज्य में जंगल बहुत हैं यह भी जरूरी है कि कैमिकल का इस्तेमाल कम से कम किया जाए। ताड़ के पेड़ में फल कटने के बाद तेल निकालने के लिए 24 घण्टे के भीतर ही उसे  प्रोसेसिंग में डालना होता है। इसलिए पूर्वोत्तर में प्रोसेसिंग केन्द्रों को प्राथमिक स्तर पर स्थापित करना होगा। सरकार की योजना को सही ढंग से लागू किया जाए तो आम आदमी की दिक्कतें कम हो सकती हैं।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]