BREAKING NEWS

CM केजरीवाल बोले-दिल्ली में अब रोज 20 से 24 हजार हो रहे है कोरोना टेस्ट, मृत्यु दर में आई कमी ◾गलवान घाटी में 1-2 किमी तक पीछे हटी चीनी सेना, झड़प वाले स्थान पर बना बफर जोन◾विकास दुबे के संपर्क में आए तीन और पुलिसकर्मी सस्पेंड, हिस्ट्रीशीटर अब भी पकड़ से दूर◾साउथ चाइना सी में अमेरिकी युद्धपोत की तैनाती पर चीन ने दी धमकी, US नेवी ने उड़ाई ड्रैगन की खिल्ली◾राहुल रक्षा मामले की एक भी बैठक में नहीं हुए शामिल, लेकिन सशस्त्र बल पर उठा रहे हैं सवाल : नड्डा◾श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती आज, पीएम मोदी समेत इन नेताओं ने ऐसे किया याद◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 14 लाख से अधिक, अब तक 5 लाख 33 हजार लोगों की हुई मौत ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 7 लाख के करीब, महामारी से लगभग 20 हजार लोगों की मौत ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- भविष्य में कोविड-19, GST और नोटबंदी फेलियर पर स्टडी में होंगी शामिल ◾दिल्ली में पिछले 3 महीने से बंद ऐतिहासिक स्मारक आज से खुलेंगे, लेना होगा ऑनलाइन टिकट ◾राहुल गांधी ने सरकार पर लगाया आरोप, बोले-PM केयर्स कोष में अपारदर्शिता से खतरे में पड़ रही है जिंदगियां◾कोरोना वायरस के 6.87 लाख मामलों के साथ रूस को पीछे छोड़ भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,555 नए केस◾खालिस्तानी समर्थक संगठन SFJ पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध◾घाटे के चलते आने वाले दिनों में टेलीकॉम कंपनियां बढ़ा सकती है फ़ोन कॉल और इंटरनेट के रेट ◾तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 4,150 नये मामले आये सामने , मृतकों की संख्या 1,510 पहुंची ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 2,244 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 99 हजार के पार◾गुजरात के कच्छ जिले में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया, वहीं 4.6 तीव्रता के झटकों से फिर थर्राया मिजोरम ◾गाजियाबाद की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाके से 7 की मौत, कई लोग घायल◾कानपुर एनकाउंटर : शक के दायरे में चौबेपुर थाना, IG बोले-सबूत मिले तो पुलिसवालों पर दर्ज होगा हत्या का केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

खाड़ी में अस्थिरता का दौर

मध्य पूर्व पहले से ही काफी अस्थिर था, लेकिन सऊदी अरब की सरकारी तेल कम्पनी अरामको के दो बड़े ठिकानों पर ड्रोन हमलों ने इस अस्थिरता को और बढ़ा दिया है। इन हमलों के चलते सऊदी अरब ने तेल उत्पादन घटा दिया है। हर दिन 50 लाख बैरल की कमी आएगी। कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने लगी हैं जिससे भारत भी प्रभावित होगा। इन हमलों के लिए अमरीका ईरान को जिम्मेदार ठहरा रहा है। उधर ईरान ने भी यह कह दिया है कि  वह युद्ध के लिए तैयार है। एक तरफ अमरीका और ईरान उलझे हुए हैं तो दूसरी तरफ सऊदी अरब यमन में घिरता जा रहा हैै। 

यद्यपि यमन में ईरान से जुड़े हूती ग्रुप ने तेल ठिकानों पर ड्रोन हमलों की जिम्मेदारी ली है और दावा किया है कि इस हमले में सऊदी शासन के भीतर के प्रतिष्ठित लोगों ने मदद की है। पिछले महीने शयबार प्राकृतिक गैस की साइट पर भी हमला हुआ था और इसके लिए हू​ती विद्रोहियों को जिम्मेदार  ठहराया गया था। हूती विद्राेहियों को ईरान से मदद मिलती है और हूती विद्रोही यमन की सरकार और सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य बलाें से लड़ रहे हैं। यमन में 2015 से जंग छिड़ी हुई है।

तब यमन के तत्कालीन राष्ट्रपति अबदराब्बुह मंसूर हादी को हूती विद्रोहियों ने राजधानी से भागने को मजबूर कर दिया था। सऊदी अरब हादी का समर्थन कर रहा है। सऊदी अरब के नेतृत्व वाला सैन्य गठबन्धन यमन में हूती विद्रोहियों  के ​खिलाफ  हवाई हमले करता है तो हूती विद्रोही भी सऊदी में मिसाइलें दागते रहते हैं। जिस तेल कम्पनी के ठिकानों पर ड्रोन हमले किए गए हैं, उसकी स्थापना अमरीकी तेल कम्पनी ने की थी। अरामको यानी अरबी अमरीकन आयल कम्पनी, इसका राष्ट्रीयकरण 70 के दशक में किया गया था। यह कम्पनी सऊदी के शाही परिवार के लिए बहुत मायने रखती है।

ईरान और अमरीका के रिश्तों में तनाव बढ़ता जा रहा है, वहीं मध्यपूर्व में सऊदी अरब अमरीका का करीबी सहयोगी है। ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा ईरान से किया गया समझौता तोड़ देने के बाद से ही उसने ईरान पर कड़े आर्थिक प्रतिबन्ध लगाए हुए हैं। सऊदी अरब को भी इस क्षेत्र में ईरान का दबदबा कभी रास नहीं आया। ईरान का प्रभाव सीरिया, इराक, लेबनान में नजर आता है, अगर यमन भी ईरान के प्रभाव में आ जाता है तो स्थितियां काफी बदल जाएंगी। यह क्षेत्र इतना महत्वपूर्ण है कि  इराक, ईरान, सीरिया, लेबनान और यमन तेल से भरे पड़े हैं। इन देशों से बड़े देशों के हित जुड़े हुए हैं। सऊदी अरब को इन देशों से कहीं न कहीं खतरा महसूस होता है। उसकी नजरें यमन के तेल और गैस भण्डारों पर भी है। सऊदी अरब यमन पर अपना दबदबा कायम करना चाहता है।

यमन में अमरीका की भी दिलचस्पी है। अमरीका हमेशा अपने हित देखता है, उसकी नजरें हमेशा दूसरे देशों के तेल कुओं पर रहती हैं। यमन के संघर्ष में अब तक दस हजार से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। यमन की पूरी आबादी कराह रही है और अमरीका अपनी चालें चल रहा है। सऊदी अरब यमन में लड़ाई को लेकर दलदल में फंस चुका है। अगर हूती विद्रोहियों ने सऊदी अरब के हवाई अड्डों और दूसरे ठिकानों पर बमबारी​ कर दी तो पूरा कबाड़ा हो जाएगा।

इन परिस्थितियों के बीच अमरीका ईरान को निशाना  बना रहा है। उसका कहना है कि सऊदी अरब के तेल ठिकानों को ईरान ने निशाना बनाया है। यद्यपि ईरान ने इन आरोपों को नकार दिया है। मध्य-पूर्व पर नजर रखने वालों में से कुछ विशेषज्ञ मान रहे हैं कि अमरीका ईरान के खिलाफ दुष्प्रचार अभियान छेड़े हुए है जैसा कि उसने इराक के खिलाफ  छेड़ रखा था। इराक में सद्दाम हुसैन का तख्ता पलट दिए जाने के बाद वहां कोई रासायनिक हथियार बरामद नहीं हुए थे। 

यह भी सच है कि जो हथियार यमन के पूर्व राष्ट्रपति सालेह ने रूस और चीन से खरीदे थे, वे हूती विद्रोहियों के हाथों के पहुंच गए हैं। स्थितियां काफी नाज़ुक हैं। अगर युद्ध अनियंत्रित होता है तो खाड़ी में इतना बड़ा संकट पैदा हो जाएगा जिससे निपटना आसान नहीं होगा। जंग शुरू करना आसान है लेकिन खत्म करना मुश्किल होता है। वैश्विक शक्तियों को यमन में संघर्ष विराम के प्रयास करने चाहिएं और सऊदी अरब को यमन से बाहर आ जाना चाहिए। अगर यह सब जल्दी नहीं किया गया तो इस जंग का नतीजा पूरी दुनिया भुगतेगी।