BREAKING NEWS

लॉकडाउन-5 में अनलॉक हुई दिल्ली, खुलेंगी सभी दुकानें, एक हफ्ते के लिए बॉर्डर रहेंगे सील◾PM मोदी बोले- आज दुनिया हमारे डॉक्टरों को आशा और कृतज्ञता के साथ देख रही है◾अनलॉक-1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर बढ़ी वाहनों की संख्या, जाम में लोगों के छूटे पसीने◾कोरोना संकट के बीच LPG सिलेंडर के दाम में बढ़ोतरी, आज से लागू होगी नई कीमतें ◾अमेरिका : जॉर्ज फ्लॉयड की मौत पर व्हाइट हाउस के बाहर हिंसक प्रदर्शन, बंकर में ले जाए गए थे राष्ट्रपति ट्रंप◾विश्व में महामारी का कहर जारी, अब तक कोरोना मरीजों का आंकड़ा 61 लाख के पार हुआ ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 90 हजार के पार, अब तक करीब 5400 लोगों की मौत ◾चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर गृह मंत्री शाह बोले- समस्या के हल के लिए राजनयिक व सैन्य वार्ता जारी◾Lockdown 5.0 का आज पहला दिन, एक क्लिक में पढ़िए किस राज्य में क्या मिलेगी छूट, क्या रहेगा बंद◾लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

महाराष्ट्र में जनादेश का अपमान हुआ

सियासत संभावनाओं का खेल होती है। सत्ता का मोह दोस्त को दुश्मन बना देता है और दुश्मनों को दोस्त बना देता है। महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना का गठबंधन मुख्यमंत्री पद को लेकर संघर्ष के चलते टूट गया। हिंदुत्व की विचारधारा पर समान रुख होने के चलते 1989 में दोनों राजनीतिक दल एक साथ आए। 

शिवसेना के संस्थापक बाला साहेब ठाकरे ने 1989 में भाजपा के साथ गठबंधन किया था। इस गठबंधन के लिए उस समय के भाजपा के दिग्गज नेता रहे स्वर्गीय  प्रमोद महाजन ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। दोनों राजनीतिक दलों को इस बात का अहसास रहा कि हिंदुत्व की विचारधारा के चलते वह एक-दूसरे का विकल्प नहीं बन सकते। वह एक-दूसरे के पूरक हो सकते हैं। 

अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण अडवानी के संबंध भी बाला साहेब ठाकरे के साथ काफी मधुर रहे। दोनों दलों ने 1989 और 1990 का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ा और अपनी-अपनी सीटों में बढ़ौतरी कर ली। गठबंधन के बावजूद कई मौके ऐसे आए जब भाजपा और शिवसेना में अनबन नजर आई। 1995 के महारष्ट्र विधानसभा चुनाव में कांग्रेस भले ही सबसे बड़े दल के रूप में उभरी लेकिन सरकार बनाई शिवसेना और भाजपा ने। जब केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए की सरकार बनी तब भी शिवसेना कोटे से दो कैबिनेट और एक राज्य मंत्री रहे। 1999 के बाद महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा विपक्ष में भी रहे और यूपीए शासन में भी शिवसेना भाजपा के साथ खड़ी रही। 

2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा-शिवसेना में बात नहीं बन पाई और दोनों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा। चुनाव के बाद शिवसेना फिर भाजपा सरकार में शामिल हो गई। राज्य सरकार में भी मंत्री पद लेे लिए और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में भी लेकिन पूरे शासनकाल में शिवसेना नोटबंदी, जीएसटी और अन्य कई मुद्दों पर भाजपा सरकार की आलोचना करती रही और उसने राज्य में देवेंद्र फड़णवीस सरकार की नाक में दम किये रखा। 

यद्यपि दोनों दलों ने इस बार भी महाराष्ट्र विधानसभा गठबंधन बना कर लड़ा। इस बार सबसे बड़ा फेरबदल यह हुआ कि यद्यपि भाजपा ने शिवसेना को कम सीटें दी लेकिन ठाकरे परिवार के किसी सदस्य ने पहली बार चुनावी सियासत में भाग लिया। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने वर्ली विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर सियासत में एंट्री मारी। तब से ही शिवसेना ने अपना मुख्यमंत्री होने का दावा जताना शुरू कर दिया। 50-50 फार्मूले पर रार के चलते भाजपा ने अंततः महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए अपने कदम वापस खींच लिये और उधर सत्ता पाने की लालसा में शिवसेना ने दिग्गज मराठा क्षत्रप शरद पवार और कांग्रेस से पींगे बढ़ा ली। 

शिवसेना के संजय राउत का यह बयान अपने आप में बहुत कुछ कहता है कि विचारधारा अलग-अलग हो सकती है लेकिन महाराष्ट्र में कांग्रेस दुश्मन नहीं है। शिवसेना प्रमुख रहे बाला साहेब ठाकरे अपने कार्टूनों से इंदिरा गांधी को खूब निशाना बनाया करते थे। इसके बाद भी शिवसेना ने कांग्रेस से हाथ मिलाया था। 1995 में बाला साहेब ठाकरे ने इंदिरा गांधी द्वारा लगाई गई इमरजैंसी का समर्थन करके सबको मौका दिया था। 

बुजुर्ग राजनीतिक जानते हैं​ कि कांग्रेस ने ही कम्युनिस्टों के खिलाफ लड़ने के लिए शिवसेना को खड़ा होने में मदद की थी। 1980 में शिवसेना ने कांग्रेस का लोकसभा में समर्थन किया था। तब बाला साहेब ने कांग्रेस के मुकाबले शिवसेना का कोई प्रत्याशी खड़ा नहीं किया था। दो कांग्रेस उम्मीदवारों श्रीमती प्रतिभा पाटिल और प्रणव मुखर्जी का राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन ​भी किया था। महाराष्ट्र में सरकार किसी की भी बने या मामला अधर में लटका रहे लेकिन एक बात स्पष्ट है कि लोकतंत्र के साथ बड़ा धोखा हुआ है। 

राकांपा और कांग्रेस गठबंधन ने मिलकर भाजपा-शिवसेना गठबंधन के खिलाफ चुनाव लड़ा है। राकांपा और कांग्रेस दोनों ने ही शिवसेना को जमकर कोसा है। जनादेश भाजपा-शिवसेना गठबंधन के पक्ष में आया ​था लेकिन मुख्यमंत्री पद और मलाईदार मंत्रालयों के चक्कर में जनादेश का अपमान कर दिया गया। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में जनादेश की क्या हालत राजनीतिक दलों ने कर दी है, महाराष्ट्र की जनता भी ठगी हुई महसूस कर रही है। कुछ लोग जरूर कहते हैं कि भाजपा अगर अपनी धुर विरोधी पीडीपी की महबूबा मुफ्ती से गठबंधन सरकार बना सकती है तो महाराष्ट्र में भी धुर विरोधी इकट्ठे हो जाएं  कोई आश्चर्य नहीं। सत्ता में बहुत-बहुत खेल होते हैं लेकिन जनादेश को ठेंगा दिखा दिया गया।