BREAKING NEWS

1988 रोड रेज केस : एक साल की सजा पर बोले सिद्धू-कानून का सम्मान करूंगा◾Delhi High Court ने लगाई घर-घर राशन योजना पर रोक, कहा: दिल्ली सरकार नहीं कर सकती केंद्र के राशन का इस्तेमाल ◾'कुछ नेता ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को कर रहे हैं गुमराह', इस्तीफे के बाद बोले हार्दिक◾जिसका शिवपाल को था इंतजार.. वो घड़ी आ गई! आजम की जमानत का चाचा-भतीजे पर कैसा होगा असर? ◾SC से रिहाई के बाद फिर जेल जा सकते हैं आजम खान, जानिए किस मामले में फंस सकते हैं SP नेता ◾Delhi News: राजधानी फिर हुई धुआं-धुंआ! मुस्तफाबाद की फैक्ट्री में लगी भीषण आग, दमकल की गाड़ियां मौके पर मौजूद◾नवजोत सिंह सिद्धू को SC से मिला बड़ा झटका, 34 वर्ष पुराने रोडरेज मामले में मिली एक वर्ष की सजा ◾कांग्रेस का हाथ छोड़ हार्दिक पटेल खोल रहे पार्टी की पोल.. BJP में शामिल होने पर कही यह बात ◾ कांग्रेस का छूटा हाथ अब बीजेपी के साथ! वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन◾दिल्ली : बवाना की थिनर फैक्ट्री में भीषण आग से हड़कंप, 17 फायर टेंडर मौके पर मौजूद◾परिवारिक पार्टियों का उद्देश्य सिर्फ सत्ता पाना, 'भाई-बहन' की पार्टी बनकर रह गई है कांग्रेस : नड्डा ◾टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक दोषी करार, इस तारीख को सुनाई जाएगी सजा◾ कृष्ण जन्मभूमि-ईदगाह विवाद पर बड़ी खबर : मथुरा की सिविल कोर्ट में होगी सुनवाई, पुलिस हुई अलर्ट ◾औरंगजेब के मकबरे पर लगा ताला..., महाराष्ट्र में बढ़ती हलचल के बीच ASI का फैसला, जानें पूरा मामला ◾दिल्ली : अनिल बैजल के बाद कौन होगा LG पद का दावेदार? इन चार नामों पर चर्चा◾'पत्थर, लाल झंडा और दो पीपल के पेड़...बन गया मंदिर', अखिलेश के बयान पर भड़की BJP◾22 महीनों से जेल में बंद आजम खान ने ली राहत की सांस! SC ने दी अंतरिम जमानत, शर्तों को लेकर कहा... ◾J&K : पुलिस ने शराब के ठेके पर हमले का मामला सुलझाया, LET के चार आतंकियों को किया गिरफ्तार ◾जहां चुनौतियां हैं बड़ी... वहां भारत बन रहा उम्मीद, PM मोदी बोले- देश पेश कर रहा समस्याओं का समाधान ◾ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट में टली सुनवाई, हिंदू पक्ष ने मांगा कल का समय◾

पंजाब में चुनाव की नई तिथि

चुनाव आयोग ने पंजाब में चुनावों की तिथि में परिवर्तन करते हुए स्पष्ट किया है कि ऐसा  राज्य के मुख्यमन्त्री श्री चरणजीत सिंह चन्नी व अन्य राजनीतिक दलों की जायज मांग पर किया गया है। विगत 8 जनवरी को पांच राज्यों के चुनावी कार्यक्रम की घोषणा करते हुए आयोग ने 14 फरवरी को पंजाब में मतदान एक ही चरण में कराने की घोषणा की थी जिसे अब बदल कर 20 फरवरी कर दिया गया है। इसकी असली वजह यह है कि 16 फरवरी को सन्त रविदास की जयन्ती का पर्व पंजाब में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है परन्तु इसे मनाने के लिए इस राज्य के ‘रविदासी या रैदासी’ कहे जाने वाले लोग भारी संख्या में भक्त रविदास के जन्म स्थान वाराणसी जाते हैं जहां उनके पंजाबी अनुगामियों ने ही साठ के दशक के दौरान एक मन्दिर या गुरुद्वारा बनाया था। इस स्थान पर आने के लिए कुछ दिनों पहले से ही तैयारी की जाती है और जन्मदिन समारोह के दो दिन बाद तक लोग वापस पंजाब पहुंचते हैं। पंजाब के जालन्धर के निकट बल्लन गांव में रविदासी पंथ मानने वालों का ‘डेरा सच्चखंड बल्लन’ स्थित है जिसके अनुगामी पंजाब के अधिसंख्य दलित समाज के हिन्दू व सिख नागरिक हैं। 

विशेष रूप से राज्य के दोआबा क्षेत्र में इनकी संख्या सर्वाधिक है जिसे 12 लाख के करीब समझा जाता है। वैसे डेरा सच्चखंड के अनुयायियों की कुल संख्या 20 लाख के करीब मानी जाती है जिनमें से 15 लाख केवल पंजाब में ही रहते हैं। पंजाब के कुल दो करोड़ मतदाताओं में यह संख्या कम नहीं आंकी जा सकती। वैसे पंजाब की जनसंख्या में दलितों की संख्या 32 प्रतिशत के लगभग समझी जाती है अतः डेरा सच्चखंड के अनुगामियों की कुल दलितों में की संख्या काफी प्रभावशाली है। अतः पंजाब में 14 फरवरी की तिथि मतदान के लिए घोषित हो जाने के बाद जब मुख्यमन्त्री का ध्यान इस ओर दिलाया गया कि 16 फरवरी को सन्त रविदास की जयन्ती की वजह से लाखों लोग पंजाब में अपने चुनाव क्षेत्रों में होने के बजाय वाराणसी में होंगे तो उन्होंने चुनावों की तारीखों को आगे करने का निवेदन चुनाव आयोग से कर दिया। इसके बाद भाजपा समेत अन्य राजनीतिक दलों ने भी आयोग को पत्र लिख कर ऐसी  ही प्रार्थना की जिस पर आयोग ने गंभीरता से विचार करना शुरू किया। आयोग ने पाया कि वर्तमान परिस्थितियों में ऐसा  किया जा सकता है क्योंकि आगामी 21 जनवरी को ही उसे चुनावी कार्यक्रम को अधिसूचित करना है। 

आयोग के सामने यह प्रश्न था कि चुनावों की तारीख में परिवर्तन इस प्रकार हो जिससे पंजाब की नई विधानसभा के गठन के बारे में किसी प्रकार का परिवर्तन न होने पाये। वैसे भी जिस दोआब के इलाके में रविदासियों की सर्वाधिक संख्या रहती है उसमें 23 विधानसभा क्षेत्र पड़ते हैं। यदि इन चुनाव क्षेत्रों में रहने वाले सभी मतदाता अपने संवैधानिक अधिकार वोट डालने का प्रयोग केवल चुनाव तिथि की वजह से कुछ लाख लोग नहीं कर पाते हैं तो चुनाव आयोग की जिम्मेदारी बनती थी कि वह कोई ऐसा  वैकल्पिक उपाय ढूंढे जिससे संवैधानिक की परिपालना में कोई अन्तर न पड़े। अतः उसने लाखों रविदासी मतदाताओं के मताधिकार को संरक्षण देते हुए बीच का रास्ता निकाला और तारीख को छह दिन आगे बढ़ा दिया जिससे रविदासी समुदाय के लोग अपने धार्मिक कृत्य भी कर सकें और संवैधानिक हक का इस्तेमाल भी कर सकें। वैसे ऐसा  फैसला चुनाव आयोग केवल अपरिहार्य या नाकाबिले अमल हालात के दौरान ही लेता है। पूर्व में 1991 के लोकसभा चुनावों के दौरान इसने मतदान की तिथियों को तीन सप्ताह आगे तब बढ़ाया था जब चुनाव प्रचार के दौरान पूर्व प्रधानमन्त्री श्री राजीव गांधी की तमिलनाडु में हत्या कर दी गई थी। मगर हाल ही में कोरोना संक्रमण के चलते इसने राज्यसभा चुनावों की तिथियों को भी आगे बढ़ा दिया था। मगर ऐसा  कभी भी सामान्य परिस्थितियों में नहीं किया जाता है क्योंकि एक बार चुनाव कार्यक्रम घोषित हो जाने के बाद उस पर अमल इसलिए जरूरी हो जाता है क्योंकि सिवाय युद्ध की स्थिति होने या किसी राज्य या देश में कानून व्यवस्था की स्थिति हाथ से बाहर हो जाने के माहौल में ही नई लोकसभा या विधानसभा के गठन की तारीख को बदला जा सकता है क्योंकि इन सदनों का कार्यकाल पांच वर्ष संवैधानिक रूप से मुकम्मल होता है और इनकी यह अवधि पूरी होने से पहले छह महीने के भीतर चुनाव आयोग को मतदान करा कर नये सदनों का गठन करना पड़ता है। हालांकि कानून व्यवस्था नियन्त्रण से बाहर होने के आधार पर पहले भी असम व पंजाब में चुनावों को आगे बढ़ाया जाता रहा है मगर किसी राज्य के मतदाताओं को उनका वोट डालने का हक देने का यह कारण पूरे देश में पहला है जिसकी वजह से चुनाव आयोग ने मतदान की तारीख में परिवर्तन किया है। इससे पता चलता है कि भारत की संवैधानिक लोकतान्त्रिक व्यवस्था कितनी ऊर्जावान व समावेशी है जिसमें एक वोट के अधिकार को सर्वोच्च वरीयता दी गई है। मगर यह नजीर ऐसी  नहीं है जिसे बहुत सामान्य तरीके से लिया जाये या बात-बात पर इसका उदाहरण देकर भविष्य में राजनीतिक दल अपना लाभ तलाशने की कोशिश करें क्योंकि रविदासियों की पंजाब में लाखों की संख्या इसकी मूल वजह है।