BREAKING NEWS

PNB धोखाधड़ी मामला: इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस फिर से किया सार्वजनिक ◾कोरोना संकट के बीच, देश में दो महीने बाद फिर से शुरू हुई घरेलू उड़ानें, पहले ही दिन 630 उड़ानें कैंसिल◾देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज ◾उत्तर भारत के कई हिस्सों में 28 मई के बाद लू से मिल सकती है राहत, 29-30 मई को आंधी-बारिश की संभावना ◾महाराष्ट्र पुलिस पर वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 18 की मौत, संक्रमितों की संख्या 1800 के पार ◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर किया गया सील, सिर्फ पास वालों को ही मिलेगी प्रवेश की अनुमति◾दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 276 लोगों की मौत, संक्रमित मामले 14 हजार के पार◾3000 की बजाए 15000 एग्जाम सेंटर में एग्जाम देंगे 10वीं और 12वीं के छात्र : रमेश पोखरियाल ◾राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश◾राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने हॉकी लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾CM केजरीवाल बोले- दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं ◾अखबार के पहले पन्ने पर छापे गए 1,000 कोरोना मृतकों के नाम, खबर वायरल होते ही मचा हड़कंप ◾महाराष्ट्र : ठाकरे सरकार के एक और वरिष्ठ मंत्री का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव◾10 दिनों बाद एयर इंडिया की फ्लाइट में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग : सुप्रीम कोर्ट◾2 महीने बाद देश में दोबारा शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कई फ्लाइट कैंसल होने से परेशान हुए यात्री◾हॉकी लीजेंड और पद्मश्री से सम्मानित बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन◾Covid-19 : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 54 लाख के पार, अब तक 3 लाख 45 हजार लोगों ने गंवाई जान ◾देश में कोरोना से अब तक 4000 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 39 हजार के करीब ◾पीएम मोदी ने सभी को दी ईद उल फितर की बधाई, सभी के स्वस्थ और समृद्ध रहने की कामना की ◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- निजामुद्दीन मरकज की घटना से संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि, देश को लगा बड़ा झटका ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अब कहिए जय श्रीराम

यह सच है कि जब-जब कोई भी कोई बीमारी या केस बहुत लम्बा ​खिंच जाता है तो फिर इसमें स्वाभाविक है कि ​जटिलताएं भी बढ़ती चली जाती हैं लेकिन यह भी सच है कि अगर केस या बीमारी का सही इलाज किया जाए तो हल भी निकल ही जाता है। शता​ब्दियों पुराना राम जन्म भूमि विवाद अगर सुप्रीम कोर्ट द्वारा सही तरीके से हल ​करवा दिया जाता है तो इसके लिए वे पंच परमेश्वर धन्यवाद के पात्र हैं जिन्होंने लगातार और अनवरत तरीके से सुनवाई करके सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद इस चट्टान पर चढ़ाई करने में सफलता हािसल करके ही दम लिया। 

इसके साथ ही न्यायपालिका के प्रति इस देश का विश्वास अब पहले से भी दुगना हो गया  है तो यकीनन मोदी सरकार के कार्यकाल को भी यह देश कभी भुला नहीं पाएगा। सवाल श्रेय का नहीं बल्कि देश के प्रति जिम्मेवारी का है जिसे इस मोदी सरकार ने श्रीराम के ​लिए निभाया है। हम तो यही कहेंगे कि इसे कभी भी राजनीतिक चश्में से नहीं देखा जाना चाहिए। कुल मिला कर भारत ने एक मिसाल दुनिया और देश के सामने प्रस्तुत कर दी है। हां रही बात प्रतिक्रिया की तो यह तो शायर ने भी कहा है कि कुछ तो लोग कहेंगे लोगों  का काम है कहना छोड़ाे बेकार की बातें। 

अयोध्या में पूजास्थल से कब-कब छेड़छाड़ की गई और मुस्लिम पक्ष क्या कहता है या हिन्दू पक्ष क्या कहता है इस मामले में माननीय सीजेआई ने अपने सहयोगियों के साथ मिल कर तार्किक रूप से आगे कदम बढ़ाए और परिणाम निकल आया है। अहम बात यह है कि बहुत ही ऊपर उठ कर प्रधानमंत्री मोदी जी ने फैसले से पहले ही अपील इस देश के नाम कर दी थी कि फैसला जो भी आए इसे किसी की जीत या हार के नजरिए से नहीं देखा जाना चाहिए। सभी पक्षाें के साथ-साथ देशवा​सियों ने इसका सम्मान भी किया। इस बेहद संवदेनशील मामले में कोर्ट ने दिल के अंंदर बहुत ही गहराई त​क घुसे एक बहुत लम्बे भाले की चोट का हल निकाल लिया। 

दर्द ताे दर्द है कांटा चुभने का दर्द और होता है तथा कांटा निकलने का दर्द कुछ और होता है। दर्द इस बार भी हुआ है लेकिन अबकी बार कांटा निकलने का दर्द है। यह भी हकीकत है कि दोनों तरफ भावनाएं जुड़ी हुई थीं। मंदिर था तो भावनाएं श्रीराम से जुड़ी थीं और मस्जिद को लेकर मु​सलमान भाई भी भावनाओं से बाहर नहीं थे। मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन की व्यवस्था का ऐलान पंच परमेश्वर के विवेक को दर्शाता है। यह फैसला सिद्ध करता है कि विवादित भूमि पर अगर हिन्दुओं के मंदिर का दावा स्वीकार किया गया तो ​मस्जिद को लेकर भी नजरअंदाज नहीं किया गया। 

सबसे बड़ी बात यह है कि मुस्लिम प्रतिनिधियों ने जिस तरह से धीरज रखा और अमन-चैन बनाए रखते हुए भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान किया उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है लेकिन इसके बावजूद यह स्पष्ट कह देना चाहते हैं कि मंदिर को लेकर बहुत ज्यादा जोश और निर्माण के प्रति बहुत ज्यादा भावनाओं में बहने की जरूरत नहीं। मंदिर निर्माण होना चाहिए यह बात देश के हिन्दू चाहते थे और अब उन्हें खुद और अपनी भावनाओं पर काबू रखते हुए आगे बढ़ना चाहिए। 

हां प्रतिक्रिया को लेकर कुछ मुस्लिम संगठनों के ठेकेदार चाहे वो ओवैसी हो या कोई और उन्हें तथ्यों से परे और बेबुनियाद बयानाें ने बचना चाहिए जैसा ​कि इन महोदय ने कहा है कि मुझे मेरी मुस्जिद लौटाओ। हम 21वीं सदी में जी रहे हैं। नई पीढ़ी तरक्की चाहती है। पाकिस्तान ने आज भी पुरानी बातों को नहीं छोड़ा इसीलिए वह पिछड़ता जा रहा है। दुनिया अमन चाहती है विवाद नहीं। पहले भी भारत और अमरीका, फ्रांस, इंग्लैंड ने विश्वव्यापी आतंकवाद में बहुत कुछ खोया है। 

भारत कितने ही बड़े नेता इस आतंकवाद की आग में गंवा चुका है। दुनिया और भारत को साम्प्रदायिक शांति, सद्भाव और विकास की जरूरत है इसी थीम को लेकर मोदी आगे बढ़ रहे हैं तो भारत का परचम लहरा रहा है। मंदिर-मस्जिद विवाद पर हुए इस ऐतिहासिक फैसले को लेकर हम उस रास्ते पर चलते हुए पूरी ​दुनिया को रोशनी दिखा सकते हैं कि अगर बड़े से बड़े विवाद, समस्याएं और बीमारियां हैं तो उसका इलाज भी है जैसा ​कि मंदिर-मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने विवेकपूर्ण ​फैसला देकर सिद्ध कर दिखाया है। आओ फिर से कहें जय श्रीराम।