BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾कोरोना संकट के बीच देश की पहली एमआरएनए आधारित वैक्सीन, खास तौर पर Omicron के लिए कारगर◾CM चन्नी के भाई को टिकट न देने से सिद्ध होता है कि कांग्रेस ने दलित वोटों के लिए उनका इस्तेमाल किया : राघव चड्ढा◾उत्तराखंड : हरीश रावत बोले-हरक सिंह मांग लें माफी तो कांग्रेस में उनका स्वागत◾इस साल 75वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर 75 एयरक्राफ्ट उड़ान भरेंगे,आसमान से दिखेगी भारत की ताकत◾पंजाब : AAP की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए उम्मीदवार की घोषणा कल करेंगे केजरीवाल◾सम्राट अशोक की तुलना मामले ने बढ़ाई BJP-JDU में तकरार, जायसवाल ने पढ़ाया मर्यादा का पाठ◾पीएम की सुरक्षा में चूक की जांच कर रहीं जस्टिस इंदु मल्होत्रा को मिली खालिस्तानियों की धमकी◾पंजाब में बदली चुनाव की तारीख, 14 नहीं अब 20 फरवरी को होगा मतदान◾

कोरोना काल में राजनीतिक रैलियां

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के साथ ही ओमीक्राेन के बढ़ते हुए मामलों को देख कर विभिन्न राजनीतिक दलों को चुनावी राज्यों में बहुत सावधानी बरतने की जरूरत है जिससे आम लोगों को इस बीमारी की चपेट में आने से बचाया जा सके। पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के बरेली शहर में कांग्रेस पार्टी द्वारा आयोजित बालिकाओं की मैराथन दौड़ प्रतियोगिता में जिस तरह भगदड़ का हादसा होते-होते बचा उसे देखते हुए बहुत जरूरी है कि सभी राजनीतिक दल अपनी चुनाव प्रचार की भूख पर काबू रखें और लोगों को अधिकाधिक संख्या में एकत्र करने के विभिन्न कार्यक्रमों पर लगाम लगायें। यह कहने की जरूरत नहीं है कि पिछले वर्ष मार्च महीने से शुरू हुई कोरोना की दूसरी लहर ने जुलाई महीने तक जो कोहराम मचाया था उसकी चपेट में लाखों भारतीय नागरिक आये थे और हजारों काल का ग्रास भी बने थे। उस समय प. बंगाल विधानसभा के चुनाव हो रहे थे जिसमें कोरोना अनुरूप व्यवहार का पालन नहीं हो रहा था। राजनीतिक दल बड़ी-बड़ी चुनाव सभाएं आयोजित कर-करके एक-दूसरे को पटखनी देने के नुस्खे तलाश रहे थे। रैलियों भीड़ इकट्ठा करने की प्रतियोगिता चली हुई थी जिनमें कोरोना के अनुरूप व्यवहार का पालन नेतागण तक नहीं कर रहे थे। 

चुनाव आयोग ने भी आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद ही कोरोना नियमों का पालन करने का नियम राजनीतिक दलों पर लगाया था मगर अफसोस,नाकहकीकत यह रही कि किसी भी राजनीतिक दल ने इसे तब तक गंभीरता से नहीं लिया जब तक कि संक्रमण ने खुल कर अपना रंग दिखाना शुरू नहीं किया। लोकतन्त्र में चुनावों का महत्व निश्चित रूप से होता है मगर देखने वाली बात यह होती है कि चुनाव किसी भी रूप में लोगों के जीवन के लिए संकट न बन पायें। इसके लिए चुनाव प्रचार भी जरूरी होता है मगर यह प्रचार लोगों की जान से ऊपर किसी भी तरह नहीं हो सकता। बेशक किसी भी महामारी के दौर में चुनाव कराना एक बहुत बड़ी चुनौती होती है जिसका सामना केवल चुनाव आयोग ही कर सकता है मगर किसी भी राज्य में चुनाव आदर्श आचार संहिता लगने से पहले राज्य सरकारों और केन्द्र की जिम्मेदारी होती है कि वह लोगों की जान की सुरक्षा करने हेतु आवश्यक कदम उठाये। अतः जिन राज्यों पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर, पंजाब व उत्तर प्रदेश में चुनाव हो रहे हैं, इसकी राज्य सरकारों की जिम्मेदारी बनती है कि वे सार्वजनिक कार्यक्रमों विशेषकर राजनीतिक कार्यक्रमों में भीड़ से बचाव के ऐसे इन्तजाम करें जिससे लोगों को एकत्र किये बिना ही कार्यक्रमों को सफल बनाया जा सके। 

यह टैक्नोलोजी का युग है जिसमें कम्प्यूटर व इंटरनेट की विशेष महत्ता हो गई है। इंटरनेट के माध्यम से लोग एक-दूसरे से जुड़ जाते हैं। यह टैक्नोलोजी चुनाव प्रचार में अधिकाधिक प्रयोग की जानी चाहिए जिससे महामारी के समय लोगों के बीच कम से कम मिलाप हो। राजनीतिक दलों के लिए भी जरूरी नहीं है कि वे अपनी ताकत दिखाने के लिए बड़े-बड़े खर्चीले कार्यक्रम करें। आखिरकार चुनाव प्रचार का उद्देश्य लोगों को राजनीतिक रूप से सजग करने का ही होता है जिसमें विभिन्न राजनीतिक दल अपने-अपने सिद्धान्तों के प्रति लोगों का ध्यान आकृष्ठ कराते हैं मगर भारत में आजकल जिस राजनीति का दौर चल रहा है उसमें राजनीतिक दल बजाये कोई दीर्घकालीन नीतिगत सिद्धान्त पेश करने के एक-दूसरे पर आरोप व प्रत्यारोप लगा कर व्यक्तिगत स्तर पर एक-दूसरे के नेताओं की आलोचना अधिक करते हैं। इसी काम के लिए हर राजनीतिक दल ज्यादा से ज्यादा लोगों को इकट्ठा करके अपने विरोधी पर रुआब गांठने का उपक्रम करता है। बेशक लोकतन्त्र इसकी इजाजत देता है मगर यह कार्य आम जनता की राजनीतिक शिक्षा के लिए होना चाहिए। 

यदि हम स्वतन्त्र भारत का इतिहास देखें तो 1952 के पहले आम चुनाव अक्तूबर 1951 से लेकर मार्च 1952 तक चले थे और इनमें हिन्दू नागरिक आचार संहिंता या ‘हिन्दू कोड बिल’ प्रमुख चुनावी मुद्दा था। अंग्रेजी दासता से निकले भारत के लोगों की यह पहली लोकतान्त्रिक शिक्षा थी जिसे बड़ी खूबी के साथ तत्कालीन राजनीतिक नेताओं ने निभाया था। अब हम विगत 74 वर्षों से इसी पद्धति पर चल रहे हैं मगर हमारे राजनीतिज्ञों के प्रचार का स्तर गिरता जा रहा है। अतः कोरोना काल में हमें इस विषय पर भी गंभीरता के साथ विचार करना चाहिए और लोगों को राजनीतिक रूप से अधिकाधिक सुविज्ञ बनाना चाहिए। मगर फिलहाल सबसे अहम मसला यह है कि राजनीतिक दल कोरोना की भयावहता को देखते हुए अपने वोट के लालच पर नियन्त्रण रखें और राजनीतिक रैलियों का आयोजन करने से बचें। इस बारे में बरेली की घटना के बाद कांग्रेस पार्टी ने अपनी सभी राजनीतिक रैलियों पर रोक लगा दी है जिसका अनुसरण उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी ने भी किया है और आगामी दिनों में आयोजित होने वाली अपनी सभी रैलियों को स्थगित कर दिया है। मगर यह केवल उत्तर प्रदेश में ही नहीं बल्कि पंजाब समेत अन्य चुनावी राज्यों में भी होना चाहिए। इसमें सत्तारूढ़ और विपक्ष का कोई सवाल नहीं है बल्कि समूची सियासी जमात का सवाल है। 

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]