BREAKING NEWS

पाकिस्तान का दावा, कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दायर करने से किया इनकार◾MSME और बैंकों की स्थिति को लेकर राहुल ने BJP पर साधा निशाना, कहा- पहले ही दी थी चेतावनी◾कानपुर एनकाउंटर : हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर इनाम राशि को बढ़ाकर किया गया 5 लाख रुपए◾राजीव गांधी फाउंडेशन समेत तीन ट्रस्ट की फंडिंग की जांच के लिए MHA ने बनाई कमेटी◾विकास दुबे के खिलाफ पुलिस का एक्शन सख्त, 25 हजार का इनामी बदमाश श्यामू बाजपेयी गिरफ्तार ◾चीनी सैनिकों की वापसी का सिलसिला जारी, लद्दाख में 3 प्वाइंट्स पर पीछे हटी चीन◾देश में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े सात लाख के करीब, 20 हजार 500 से अधिक लोगों की मौत ◾World Corona : दुनियाभर में लगभग साढ़े पांच लाख लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 17 लाख के पार ◾कानपुर एनकाउंटर : गैंगस्टर विकास दुबे का करीबी अमर दुबे मुठभेड़ में मारा गया◾आर्थिक कुप्रबंधन लाखों लोगों को कर देगा तबाह, अब यह त्रासदी स्वीकार नहीं : राहुल गांधी◾योगी सरकार का बड़ा फैसला : डीआईजी एसटीएफ अनंत देव का हुआ ट्रांसफर◾ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो पाए गए कोरोना पॉजिटिव◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 224 लोगों की मौत, 5134 नये मामले ◾दिल्ली में कोरोना का कोहराम जारी, बीते 24 घंटे में 2008 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1,02,831 तक पहुंचा◾पश्चिम बंगाल: कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते कोलकाता में फिर से लग सकता है लॉकडाउन ◾CBSE का बड़ा ऐलान, अगले साल 9वीं से 12वीं क्लास के सिलेबस में 30 फीसदी की होगी कटौती, बोर्ड ने ट्वीट कर दी जानकारी◾भारत में कोरोना टेस्टिंग का आंकड़ा पहुंचा 1 करोड़ के पार, मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राहुल के आरोपों पर AgVa कंपनी का जवाब, कहा- वह डॉक्टर नहीं है, दावा करने से पहले करनी चाहिए थी पड़ताल◾यथास्थिति बहाल होने तक LAC से भारत को एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : कांग्रेस◾राहुल का केंद्र सरकार से सवाल, कहा- भारतीय जमीन पर निहत्थे जवानों की हत्या को कैसे सही ठहरा रहा चीन?◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राम मन्दिर पर राजनीति वर्जित

अयोध्या के राम जन्मभूमि विवाद के बारे में प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी ने उन राजनैतिक ‘बयानबहादुरों’  की खबर ली है जो पिछले समय से बिना सोचे समझे ऐसी बयानबाजी कर रहे हैं जिससे देश के सर्वोच्च न्यायालय में मुकदमे चल रहे इससे सम्बन्धित तार्किकता पर गलत प्रभाव पड़ता है। अतः श्री मोदी का भाजपा के ही कार्यक्रम में महाराष्ट्र के नासिक शहर में यह कहना कि ‘राम के लिए देश की न्यायपालिका का सम्मान करो’  बताता है कि सरकार इस सम्बन्ध में कोई ऐसा काम करना नहीं चाहती जिससे किसी भी समुदाय को यह लगे कि वह किसी का पक्ष लेना चाहती है। 

जाहिर है कि जब राम जन्मभूमि विवाद पिछले लम्बे अर्से से न्यायालय में चल रहा है तो उसके अन्तिम फैसले का इन्तजार किया जाना चाहिए और किसी भी पक्ष को नाजायज दबाव नहीं बनाना चाहिए। उच्च न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ इस मुकदमे की दैनिक आधार पर सुनवाई कर रही है जिसकी अध्यक्षता स्वयं मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई कर रहे हैं और उन्होंने कह दिया है कि आगामी 18 अक्टूबर तक सुनवाई का काम पूरा हो जायेगा और वह अपने अवकाश प्राप्त करने से पूर्व फैसला सुना देंगे। श्री गगोई आगामी 7 नवम्बर को रिटायर हो रहे हैं तो फिर किसी को भी हाय-तौबा करने की क्या जरूरत है? 

भारत संविधान से चलने वाला देश है और इसके अनुसार गठित किसी भी राजनैतिक दल की बनने वाली सरकार केवल संविधान के अनुसार ही शासन करने की हकदार है। अतः किसी भी पार्टी के नेता अथवा धार्मिक नेता को यह कहने का अधिकार नहीं है कि राम जन्मभूमि पर मन्दिर निर्माण करने के लिए सरकार अति उत्साह में आ जाये और इसके अनुसार कोई तरीका निकाले। दरअसल महाराष्ट्र शिव सेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पिछले दिनों यह बयान दिया था कि मोदी सरकार जब इतनी ताकतवर है कि वह जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटा सकती है तो फिर वह अयोध्या में राम मन्दिर निर्माण के लिए कानूनी रास्ता क्यों नहीं निकाल सकती। 

श्री ठाकरे यह भूल गये थे कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है और किसी भी सरकार को संविधान के मूल ढांचे के साथ छेड़छाड़ करने की संविधान इजाजत नहीं देता है। सरकारों का काम मन्दिर और मस्जिद निर्माण कराना नहीं होता बल्कि यह कार्य समाज में कार्यरत संगठनों का होता है। बेशक कोई भी राजनैतिक दल कह सकता है कि वह राम मन्दिर निर्माण करेगा मगर कोई भी सरकार यह नहीं कह सकती क्योंकि संविधान उसे इसकी इजाजत नहीं देता। सत्ताधारी दल उसकी सरकार में मूलभूत अंतर यही होता है कि एक राजनैतिक संगठन की हैसियत से वह अपनी समर्थक जनता के हित में समझे जाने वाले विषयों पर कोई ऐसा वादा कर सकता है जिससे उसकी भावनाएं सन्तुष्ट होती हों मगर उसी राजनैतिक दल के सत्ता में आने पर उसकी पहली बाध्यता संविधान होता है और उसकी सरकार इसी संविधान के दायरे से एक क्षण के लिए भी बाहर नहीं जा सकती। 

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाने का कार्य संविधान के दायरे में ही किया गया और इसके  लिए सभी आवश्यक नियमों का पालन संवैधानिक तरीकों से किया गया। अतः राम मन्दिर निर्माण से इसकी तुलना करना पूरी तरह बचकाना सोच है जिसकी अपेक्षा  किसी  सुलझे हुए राजनीतिज्ञ से नहीं की जा सकती। शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे अपना राजनैतिक स्वार्थ साधने के लिए ऐसी फिजूल बयानबाजी कर रहे हैं इसका आधार यह है कि महाराष्ट्र के अलावा शिवसेना का कोई नामलेवा नहीं है और दिसम्बर महीने में इस राज्य की विधानसभा के चुनाव होने हैं। राज्य में फिलहाल भाजपा और शिवसेना की मिलीजुली सरकार श्री देवेन्द्र फड़णवीस के नेतृत्व में चल रही है। 

288 विधानसभा में शिवसेना चुनावों के लिए ज्यादा से ज्यादा सीटें लेना चाहती है और श्री फड़णवीस उसे तीस प्रतिशत से ज्यादा सीटें देने को तैयार नहीं हैं। इसी वजह से भाजपा को धर्म संकट में डालने के लिए श्री ठाकरे दबाव की राजनीति करना चाहते हैं। पिछले विधानसभा चुनावों में भी यह खेल हुआ था और शिवसेना व भाजपा ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था मगर इसमें भाजपा का ही लाभ हुआ था और उसकी सर्वाधिक सीटें 120 से ज्यादा आयी थीं। आखिरकार 2019 के लोकसभा चुनावों में क्या हुआ था? झक मार कर उसे भाजपा का दामन थामना पड़ा था। उस समय भी चुनाव प्रचार के दैरान ही उद्धव ठाकरे अयोध्या में पूरे लाव-लश्कर के साथ पहुंच गये थे और ‘पहले मन्दिर फिर सरकार’ की जुमलेबाजी करने लगे थे। 

मगर हुआ क्या? श्री मोदी ने तभी कह दिया था कि मन्दिर निर्माण संविधान का सम्बन्ध संविधान के सम्मान से जुड़ा हुआ है। दरअसल अयोध्या राजनैतिक मुद्दा है ही नहीं तो फिर इसे लेकर राजनीति करने की क्या तुक है। सर्वोच्च न्यायालय जो भी फैसला देगा वह देश के हर नागरिक को मान्य होगा और सबसे पहले सरकार को मान्य होगा। इसलिए न्यायालय का सम्मान करना प्रत्येक भारतीय का कर्त्तव्य है।