BREAKING NEWS

गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾

न्यायपालिका पर गर्व है

दिसंबर 2012 के निर्भया कांड में चारों दोषियों को शुक्रवार की सुबह साढ़े 5 बजे तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई। इसके साथ ही सात वर्ष बाद निर्भया को इंसाफ मिल गया। निर्भया के माता-पिता, इंसाफ के लिए संघर्ष करने वाले युवाओं और समाज को लड़ाई में जीत हासिल हुई। देश की बेटी को न्याय मिलने पर हम न्यायपालिका पर गर्व कर सकते हैं, हमें देश के मीडिया और सोशल मीडिया पर भी गर्व होना चाहिए। हमें उन युवाओं पर भी गर्व होना चाहिए जिन्होंने कनाट प्लेस के सैंट्रल पार्क से जंतर-मंतर तक अपने आक्रोश का प्रदर्शन किया। इसके बाद जनसैलाव उमड़ पड़ा और उसने राष्ट्रपति भवन के प्रवेश द्वार तक पहुंच कर जनाक्रोश की शक्ति का प्रमाण दिया। पुलिस लाठीचार्ज और पानी की बौछार प्रदर्शनकारियों को डिगा नहीं सकी थी। इस जनाक्रोश से केन्द्र की सत्ता हिल उठी थी। यह शायद पहली बार था कि पूरे देश में नववर्ष 2013 का स्वागत करुणा और संवेदना के साथ किया गया था।

यह मनःस्थिति किसी एक वर्ग, समूह या समुदाय की नहीं बल्कि नीचे से ऊपर तक के सभी ना​गरिकों में सामने आई। ये संवेदनाएं उस निर्भया के लिए थीं जिसको व्यक्तिगत रूप से कम ही लोग जानते थे परन्तु दरिन्दगी की घटना सामने आने के बाद वह सभी के घर की सदस्य की तरह हो गई थी। व्यापक स्तर पर किसी से मानसिक रूप से इस तरह होने वाला जुड़ाव कम ही दिखाई देता है लेकिन जब भी ऐसा होता है तो वह ऐतिहासिक ही होता है। यद्यपि निर्भया अंतहीन पीड़ाओं को झेलते हुए सिंगापुर के अस्पताल में मृत्यु को प्राप्त हो गई, लेकिन उसकी मौत लाखों-करोड़ों महिलाओं की वेदना को मुखर ही नहीं कर गई बल्कि समाज के लिए एक मुद्दा भी बना गई, जिनके बारे में समाज और व्यवस्था सब कुछ जानते हुए भी आंखें मूंदे रहता था। दूसरे की पीड़ा को अनुभव करना आज के समाज में अकल्पनीय माना जाता है लेकिन निर्भया से हुई ​दरिन्दगी ने पूरे समाज को झकझोर दिया। उद्वेलन की यह मशाल जिस तरह से दिलों में जली, वह नई चेतना के संचार के समान थी तथा सत्ता और न्यायपालिका को एक चेतावनी भी थी कि ‘‘अब आगे ऐसा नहीं होगा।’’ 

जंतर-मंतर पर युवा शक्ति निर्णायक तत्व बनकर उमड़ी। उमड़ी भीड़ से संवाद करने की किसी ने पहल नहीं की। सत्ता में बैठे ‘राजकुमार’ और ‘राजकुमारियां’ घरों में दुबक कर बैठ गए। निर्भया के ​लिए इंसाफ की मांग करने वालों ने युवा शब्द की परिभाषा भी इस अर्थ में बदली कि वह उत्साही तो हैं लेकिन साथ ही जिम्मेदार भी हैं। पहली बार औरत का सवाल राजनीति का सबसे केन्द्रीय सवाल बन गया। महिलाओं के प्रति बढ़ती आपराधिक घटनाओं  के ​विरोध में देश और समाज में नई चेतना और व्यवस्था की स्थापना के लिए युवाओं के आंदोलन ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।

निर्भया मामला अपनी क्रूरता में रेयरेस्ट आफ रेयर मामला था और उसी हिसाब से कानून में मौजूद अधिकतम सजा अपराधियों को दी गई। पुलिस जांच और अदालती कार्यवाही के बारे में एक आम धारणा है कि अपराधी छूट जाते हैं या उन्हें जमानत मिल जाती है, सबूत खत्म कर ​दिए जाते हैं लेकिन निर्भया के दोषियों को फांसी ने इस धारणा को तोड़ा है, लोगों का भरोसा भारतीय न्याय व्यवस्था में मजबूत हुआ है और समाज में भी एक संदेश गया कि न्याय में भले ही देर लगती है लेकिन न्याय होकर रहता है।

निर्भया के दोषियों ने कानूनों का किस तरह मजाक बनाया, दंड से बचने के ​लिए अंतिम क्षणों तक पैंतरे चलते रहे। उनके वकीलों ने सभी विकल्प खत्म होने के बावजूद नए-नए हथकंडे अपनाए लेकिन न्यायपालिका से लेकर राष्ट्रपति भवन तक ने उनके हर हथकंडे को नाकाम कर दिया। इस केस ने कानून की खामियों को भी उजागर किया है। निर्भया के माता-पिता को लगातार इतने सालों से कष्ट झेलते, आंसू बहाते देखा है। हर तारीख पर उनकी मौजूदगी एक माता-पिता के धर्म और दायित्व का अहसास करा गई। दूसरी तरफ फांसी की सजा अपराध की जघन्यता को देखते हुए इसी तरह के यौन हिंसा के परिणामों को लेकर अपराधियों में भय पैदा करने में बड़ी भूमिका निभाएगी।

लोगों ने दोषियों को फांसी देने के मौके पर ​ितहाड़ जेल के बाहर एकत्र होकर खुशी मनाई, मिठाइयां बांटीं। किसी की मौत पर उत्सव मनाने पर कुछ लोग सवाल जरूर उठाते हैं लेकिन हमें याद रखना होगा कि पूरा देश रावण की मौत का जश्न विजयदशमी पर्व के रूप में मनाता आया है। हैदराबाद में महिला वैटनरी डाक्टर से गैंग रेप के बाद हत्या और शव जलाने के मामले में सभी चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था तो लोगों ने उत्सव मनाया था। हैदराबाद की इस घटना से पूरा देश उबल रहा था। पीड़िता के परिवार का कहना था कि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिले। जब चारों आरोपी मारे गए तो लोगों को संतोष मिला क्योंकि जन-जन की मांग भी यही थी।

अब सवाल यह है कि क्या बलात्कार के सख्त कानूनों से ऐसी घटनाएं रुक गई हैं या कम हुई हैं। फिलहाल ऐसी घटनाएं बढ़ रही हैं। समाज है तो पाप भी होगा और पुण्य भी होगा। हमें ऐसे समाज का निर्माण करना होगा जिसमें महिलाओं को सम्मान और स्वतंत्रता ​मिले। उम्मीद है कि भविष्य में ऐसे जघन्यतम कांडों के ​लिए दोषियों को सजा देने में विलम्ब न हो और लोगों को इंसाफ के लिए लम्बा संघर्ष नहीं करना पड़े, इसके लिए कानून की खामियों को दूर किया जाएगा। हम न्याय की इस घड़ी तक पहुंचने के लिए इस मुद्दे पर काम करने वाले सभी लोगों के साहस, सहनशीलता और संघर्ष को सलाम करते हैं।