BREAKING NEWS

Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾यासीन मलिक की सजा पर कुछ देर में फैसला, NIA ने सजा-ए-मौत का किया अनुरोध◾Sri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया ने नया वित्त मंत्री नियुक्त किया, पीएम रानिल विक्रमसिंघे को सोपी यह कमान ◾पाकिस्तान में बन रहे गृह युद्ध के हालात... इमरान खान पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार, जानें पूरा मामला ◾SP के टिकट पर राज्यसभा जाएंगे कपिल सिब्बल.. नामांकन दाखिल! डैमेज कंट्रोल में जुटे अखिलेश? ◾पेरारिवलन से MK स्टालिन की मुलाकात पर बोले राउत-ये हमारी संस्कृति और नैतिकता नहीं◾यूक्रेन के मारियुपोल में इमारत के भूतल में मिले 200 शव, डोनबास में जारी है पुतिन की सेना के ताबड़तोड़ हमले ◾हिंदू पक्ष ने Worship Act 1991 को बताया असंवैधानिक...., SC में नई याचिका हुई दायर, जानें क्या कहा ◾J&K : बारामूला मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 पाकिस्तानी आतंकी, पुलिस का 1 जवान शहीद ◾बिहार में फिर कहर बनकर टूटी जहरीली शराब, गया और औरंगाबाद में अब तक 11 की मौत◾राज्यसभा के लिए SP ने फाइनल किए नाम, सिब्बल के जरिए एक तीर से दो निशाने साधेंगे अखिलेश?◾केंद्रीय मंत्री के ट्विटर से गायब हुए मुख्यमंत्री... नीतीश संग जारी मतभेद पर RCP ने कही यह बात, जानें मामला ◾

कोरोना काल में नस्लभेद

कोरोना महामारी के दौरान नस्लभेद की बहस भी सामने आई है। आस्ट्रेलिया ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कुछ समय के लिए भारत से लौटने वाले अपने नागरिकों के पहुंचने पर रोक लगा दी थी, जिसे नस्लभेदी बताया गया है, इस पर भी बड़ा विवाद हुआ था। अमेरिका, ब्रिटेन और अन्य यूरोपीय देशों में एशियाई मूल के लोगों को नस्लभेदी टिप्पणियों और हमलों का सामना करना पड़ा था। इसी वर्ष जुलाई में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय मूल के लोग हिंसा आैर लूट का ​िशकार बने।  नस्लभेद या रंगभेद से जुड़ी घटनाएं नई नहीं हैं। भारतीय अभिनेता और अभिनेत्रियों से लेकर आम भारतीयों को भी विदेशों में नस्लभेद का शिकार होने की घटनाएं उजागर हो चुकी हैं। अमेरिका में भी अश्वेतों से दुर्व्यवहार की घटनाएं सामने आती रहती हैं। 

​ब्रिटेन सरकार का हाल ही में लिया गया फैसला अब विवाद का रूप धारण कर चुका है। यह फैसला ​ब्रिटेन की यात्रा और क्वारंटीन नियमों से जुड़ा है। ​ब्रिटेन सरकार के नियमों के मुताबिक भारत, संयुक्त अरब अमीरात, थाइलैंड, जोर्डन, तुर्की, रूस समेत कुछ देशों से यात्रा करके ब्रिटेन पहुंचने वाले व्यक्ति को दस दिन क्वारंटीन में ​िबताने होंगे और को​िवड टेस्ट भी कराना होगा। विवाद का कारण यह भी है ​िक जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की दो डोज ले ली हैं उन्हें भी इन नियमों का पालन करना होगा। ब्रिटेन की नई यात्रा नीति अनावश्यक तरीके से जटिल बना दी गई है। कांग्रेस सांसद आैर पूर्व केन्द्रीय मंत्री  शशि थरूर ने ब्रिटेन की इस नीति के ​िवरोध में वहां कैंब्रिज यू​िनयन नाम की संस्था की ओर से आयो​िजत डिबेट कार्यक्रम से अपना नाम वापिस ले ​लिया है। इसके अलावा उन्हें अपनी किताब ‘द बैटल ऑफ ​बिला​ंगिंग के ​िवमोचन के लिए ब्रिटेन जाना था। कुछ अन्य नेताअों ने भी शशि थरूर का समर्थन करते हुए ​ब्रिटेन के इस नियम का विरोध किया है। कई अन्य देेश भी ब्रिटेन से नाराज हैं।

यह भी बड़ा अद्भुत है कि ब्रिटेन ने उन देशों के ​िलए भी यह नियम लागू किया है जहां के लोगों को वही वैक्सीन लगाई जा रही है, जो ब्रिटेन के लोगों को लगाई गई है। जैसे फाइजर, माडर्ना और एस्ट्राजेनेका आ​िद। शशि थरूर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी महत्वपूर्ण पद पर रहे हैं और वह पहले भी भारत में ब्रिटेन के औपनिवेशिक शासन और नस्लभेद के खिलाफ खुलकर अपनी राय व्यक्त कर रहे हैं। ब्रिटेन भारत सरकार से इस संबंध में बातचीत कर रहा है कि वैक्सीन ​सर्टिफिकेट को कैसे प्रमाणित ​किया जाए। अधिकतर यूरोपीय देशों ने कोवैक्सीन की डोज लेने वालों को भी यात्रा की अनुमति नहीं दी है। भारत में जिन लोगों ने कोवैक्सीन की डोज ली है, वे अब भी कोवैक्सीन को डब्ल्यूएचओ की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि ब्रिटेन ने अपने फैसले का बचाव यह कहकर किया है कि यह लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिहाज से उठाया गया  एक कदम है, ताकि वो सुरक्षित माहौल में खुलकर एक-दूसरे से ​मिल सकें।

ब्रिटेन के शाही घराने के किले की ऊंची दीवारों के भीतर भी रंगभेद की परतें तो उस समय खुल गई थीं जब प्रिंस हैरी और मेगन मर्केल ने शाही परिवार को छोड़ दिया था और मर्केल ने शाही परिवार पर रंगभेद के आरोप लगाए थे। नस्लभेद या रंगभेद एक मानसिकता है जो खुद की नस्ल को सर्वश्रेष्ठ मानती है और दूसरों को घृणा की दृष्टि से देखती है। पश्चिमी देशों में जहां गोरेपन का आधिपत्य है, वहां त्वचा का सफेद रंग आज भी श्रेष्ठता का प्रतीक है। ब्रिटेन ने जहां-जहां भी राज ​िकया, वहां भी हम इसे देख सकते हैं कि भारत के शासक गोरे थे, इस​िलए भी किसी काले या सांवले को गोरे के मुकाबले कमतर समझा जाता है। भारत में भी युवक कितना ही सांवला क्यों न हो, बहू उसे गोरी ही चाहिए। पश्चिमी देशों में तो भारतीयों को ब्राउन कहा जाता है, यानी रंग के आधार पर गोरे हमें हर हाल में अपने से कमतर मानते हैं। ​ब्रिटेन के शाही परिवार का सूर्यअस्त हो चुका है, लेकिन इस मानसिकता से उसे छुटकारा कब मिलेगा कहा नहीं जा सकता। 

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]