BREAKING NEWS

पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में ट्रक से टकराया वाहन, 18 लोगों की मौत◾दिल्ली की बी के दत्त कॉलोनी के लोगों को हर महीने मिलेगा 20,000 लीटर मुफ्त पानी : केजरीवाल◾भारत, मालदीव व श्रीलंका ने किया समुद्री अभ्यास ◾ठाणे में दक्षिण अफ्रीका से लौटे यात्री कोरोना वायरस संक्रमित , ओमीक्रोन स्वरूप की नहीं हुई पुष्टि◾TET परीक्षा : सरकार अभ्यर्थियों के साथ-योगी, विपक्ष ने लगाया युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ का आरोप◾संसद में स्वस्थ चर्चा चाहती है सरकार, बैठक में महत्वपूर्ण मुद्दों को हरी झंडी दिखाई गई: राजनाथ सिंह ◾त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾

घाटी की बदल रही फिजा

अफ्रीकन, मध्यपूर्व और यूरोपीय देशों के राजनयिकों के प्रतिनिधिमंडल के जम्मू-कश्मीर दौरे से भारत ने एक बार फिर दुनिया को दिखा दिया कि भारत ही दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और उसकी संसदीय प्रणाली कितनी सफल और मजबूत है। भारत ने अपने इस कदम से यह भी साफ कर दिया है कि यहां शासन में कितनी पारदर्शिता है। भारत चीन की तरह एक बंद समाज या व्यवस्था वाला देश नहीं है, बल्कि यहां खुली व्यवस्था है। हर कोई खुली हवा में सांस ले सकता है। यहां हर किसी से समान व्यवहार किया जाता है, क्योंकि हमारा संविधान समानता पर आधारित है और हमारी इस पर पूर्ण आस्था और ​विश्वास है। कोरोना महामारी के प्रकोप के बाद जम्मू-कश्मीर में विदेशी राजनयिकों का पहला दौरा है और 5 अगस्त, 2019 को संविधान के 370 अनुच्छेद निरस्त किए जाने के बाद विदेशी राजनयिकों की जम्मू-कश्मीर की यह चौथी यात्रा है। विदेशी राजनयिकों ने अक्तूबर 2019, जनवरी 2020 और फरवरी 2020 में राज्य का दौरा किया था। सवाल उठाया जा रहा है कि आखिर राजनयिकों की जम्मू-कश्मीर में आने की वजह क्या है और इसके क्या निहितार्थ हैं?

दरअसल अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान भारत को बदनाम करने के षड्यंत्र रच रहा है। उसकी हालत खिसियानी ​बिल्ली खम्भा नोचे जैसी हो गई है। वह बार-बार कश्मीर का राग अलाप रहा है कि वहां अल्पसंख्यकों का दमन और शोषण किया जा रहा है, जम्मू-कश्मीर की आजादी खतरे में है। पाकिस्तान अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर लगातार अल्पसंख्यकों के शोषण और दमन का मुद्दा उठाता है, जबकि भारत लगातार कहता आ रहा है ​कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है। इस पर किसी काे भी हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। 

विदेशी राजनयिकों ने जिला विकास परिषदों के नवनिर्वाचित सदस्यों से बातचीत की। कुछ प्रमुख नागरिकों और प्रशासनिक सचिवों के साथ बैठक भी की। प्रतिनिधिमंडल को पंचायती राज की जानकारी दी गई। उन्हें कश्मीर के गांवों की बदल रही तस्वीर के संबंध में जानकारी दी गई। प्रतिनिधिमंडल हजरत बल मस्जिद भी गया और डल झील का दौरा भी किया। जिला विकास परिषदों  और पंचायत चुनाव शांतिपूर्ण और ​निष्पक्ष ढंग से हुए और इस दाैरान एक भी गोली नहीं चली। लोगों ने जमकर मतदान भी किया। इससे साफ है कि कश्मीरी अवाम की लोकतंत्र में आस्था है। स्थानीय लोगों से बातचीत करने के बाद बोलविया के राजनयिक ने मीडिया से कहा कि जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र मजबूत हुआ है। यह प्रभावशाली रहा और यहां के लोग केन्द्र सरकार द्वारा लिए गए राजनीतिक फैसलों से खुश हैं।

विदेशी राजनयिकों को जम्मू-कश्मीर में विकास परियोजनाओं की जानकारी दी गई। उन्हें पाकिस्तान द्वारा सीमा पार से आतंकवादियों की घुसपैठ के प्रयासों और लगातार संघर्ष विराम उल्लंघन के बारे में जानकारी दी गई। कुल मिलाकर यह अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे कुप्रचार से निपटने के लिए एक कूटनीतिक कवायद है। विपक्ष भले ही आरोप लगा रहा है कि केन्द्र सरकार कश्मीर मसले का अन्तर्राष्ट्रीयकरण कर रही है लेकिन पाकिस्तान के दुष्प्रचार को बेनकाब करने के लिए भी ऐसे कूटनीतिक प्रयास होने चाहिए ताकि विदेशी सच जान सकें।

विदेशी राजनयिकों के दौरे से पाकिस्तान को मिर्ची लगी है। पाकिस्तान की ओर से कहा गया है कि भारत दुनिया को भ्रमित करने के लिए ऐसे कदम उठा रहा है। अलगाववादी ताकतों ने भी कश्मीर बंद का आह्वान किया और आतंकी ताकतों ने डल झल के नजदीक फायरिंग कर गड़बड़ी करने की कोशिश की लेकिन वे अपने मंसूबाें में कामयाब नहीं हो पाए।

जम्मू-कश्मीर में फिजां बदलने लगी है। आतंकवाद और कश्मीरी पीड़ितों  के पलायन की वजह से बंद श्रीनगर के हब्बाकदल में 31 वर्ष बाद शीतलनाथ मंदिर काे बसंत पंचमी के मौके पर खोला गया। मंदिर में भक्तों ने पूजा-अर्चना की। मंदिर के पट खोलने के लिए स्थानीय मुस्लिम समुदाय के लोगों ने भी सहायता की। मंदिर के पास रहने वाले हिन्दू तो पलायन कर चुके हैं, इसलिए ज्यादातर मुस्लिम समुदाय ने ही सहयोग दिया। उन्होंने ही मंदिर में सफाई की और पूजा का सामाना लाकर ​दिया। कश्मीर में बदलते हालात का सबूत और क्या होगा कि मुस्लिमों ने मंदिर खोलने के लिए सहयोग देकर धर्मनिरपेक्षता की मिसाल पेश की है। आम लोग विकास चाहते हैं, सद्भावना चाहते हैं, युवा रोजगार चाहते हैं लेकिन चिंता तो उन्हें हो रही है जिनकी राजनीतिक दुकानें उजड़ चुकी हैं। हुर्रियत के नागों का काफी विश निकला जा चुका है। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद राज्य में आतंकवादी हिंसा के मामलोें में कमी आई है और पत्थरबाज अब कहीं दिखाई नहीं दे रहे। यद्यपि पाक समर्थित आतंकवादी पुलवामा जैसी घटनाओं को दोहराने का प्रयास कर रहे हैं। सुरक्षा बलों की गोलियां राष्ट्र विरोधी तत्वों के लिए हैं। आम लोगों के लिए सेना जबरदस्त अभियान चला रही है। दूरदराज के इलाकों में सेना मैडिकल कैम्प लगाती है, प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बच्चों को शिक्षित भी करती है। सुरक्षा बलों के व्यवहार से हर कोई खुश है। अलगाववाद का सुर अलाप रहे लोगों के लिए अंतिम विकल्प राष्ट्र की मुख्यधारा में शामिल होना ही है। 370 की बहाली अब होने वाली नहीं, गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा देने का संकेत दे दिया है। बेहतर यही होगा कि राज्य की मुख्यधारा के राजनीतिक दल लोकतंत्र को मजबूत बनाने का काम करें ताकि राज्य में शांति स्थापना हो सके। शांति स्थापना से विकास अपनी गति पकड़ेगा। पर्यटन बढ़ेगा तो राज्य का अर्थतंत्र मजबूत होगा।