BREAKING NEWS

71वां गणतंत्र दिवस के मोके पर राष्ट्रपति कोविंद राजपथ पर फहराएंगे तिरंगा◾गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन◾अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर हरदीप सिंह पुरी ने दी बधाई ◾पूर्व मंत्रियों अरूण जेटली, सुषमा स्वराज और जार्ज फर्नांडीज को पद्म विभूषण से किया गया सम्मानित, देखें पूरी लिस्ट !◾कोरोना विषाणु का खतरा : करीब 100 लोग निगरानी में रखे गए, PMO ने की तैयारियों की समीक्षा◾गणतंत्र दिवस : चार मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश एवं निकास कुछ घंटों के लिए रहेगा बंद ◾ISRO की उपलब्धियों पर सभी देशवासियों को गर्व है : राष्ट्रपति ◾भाजपा ने पहले भी मुश्किल लगने वाले चुनाव जीते हैं : शाह◾यमुना को इतना साफ कर देंगे कि लोग नदी में डुबकी लगा सकेंगे : केजरीवाल◾उमर की नयी तस्वीर सामने आई, ममता ने स्थिति को दुर्भाग्यपूर्ण बताया◾ओम बिरला ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी◾PM मोदी ने पद्म पुरस्कार पाने वालों को दी बधाई◾भारत और ब्राजील आतंकवाद के खिलाफ आपसी सहयोग बढ़ाने का किया फैसला◾370 के खात्मे के बाद कश्मीर में शान से फहरेगा तिरंगा : अमित शाह◾देशवासियों को बांटने, संविधान को कमजोर करने की हो रही साजिश : सोनिया◾PM मोदी और नेतन्याहू ने फोन पर वैश्विक और क्षेत्रीय मामलों पर चर्चा की◾गांधी शांति यात्रा पहुंची आगरा ◾भारत-नेपाल सीमा पर पहुंचा कोरोना वायरस, बॉर्डर पर होगी स्क्रीनिंग◾ दिल्ली चुनाव : 250 नेता, हर दिन 500 जनसभाएं, इस तरह माहौल बनाने में जुटी है भाजपा◾आर्थिक विकास के लिए संविधान के मुताबिक चलना होगा - कोविंद◾

कांग्रेस का खेल बिगाड़ने की तैयारी में अशोक तंवर!

चंडीगढ़ : हरियाणा में पांच साल से सत्ता से बाहर बैठी कांग्रेस की राह इस बार भी आसान नहीं है। पांच साल तक हुड्डा गुट के विरोध के बावजूद अध्यक्ष रहने वाले अशोक तंवर पार्टी से इस्तीफा देने के बाद रविवार से ही फील्ड में उतर गए हैं। एक तरफ जहां तंवर समर्थकों द्वारा लगातार इस्तीफे दिए जा रहे हैं वहीं दूसरी तरफ तंवर ने भी कार्यकर्ता सम्मेलनों का आयोजन शुरू कर दिया है। इसका सीधा नुकसान कांग्रेस को होगा। 

हरियाणा का चुनावी बिगुल बजने के बाद एक तरफ जहां भाजपा फिर से सत्ता में आने की तैयारी में पूरी एकजुटता के साथ चुनाव प्रचार में उतरी हुई है वहीं कांग्रेस की लड़ाई सडक़ों पर है। राहुल गांधी जब तक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे तब तक भूपेंद्र सिंह हुड्डा की एक नहीं चली और जिस दिन से सोनिया ने कांग्रेस की कमान संभाली है उस दिन से अशोक तंवर हाशिए पर हैं। टिकट आबंटन से नाराज अशोक तंवर ने शनिवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देकर अपनी राहें अलग कर ली। 

कांग्रेस हाईकमान तथा हुड्डा गुट इस मामले को खत्म मानकर शांत हो गया था वहीं अशोक तंवर ने रविवार से नया मोर्चा खोल दिया है। अशोक तंवर आज से फील्ड में उतर गए हैं और विधानसभा चुनाव तक वह प्रदेश में अपने समर्थकों को लामबंद करते हुए जनसभाओं को आयोजन करेंगे। रविवार को गुरुग्राम, झज्जर तथा रोहतक जिलों का दौरा करके उन्होंने अपने समर्थकों को एकजुट किया। 

साफ है कि अब अशोक तंवर कांग्रेस के लिए कार्यकर्ताओं को एकजुट नहीं करेंगे। रविवार को अशोक तंवर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के शहर भी पहुंचे और यहां कार्यकर्ताओं के साथ बैठक भी की। दूसरी तरफ अशोक तंवर के समर्थन में रविवार को भी इस्तीफों का दौर जारी रहा। आज भी दर्जनों नेताओं ने पार्टी छोड़ने की घोषणा की। जिन्हें अशोक तंवर ने अपने कार्यकाल के दौरान विभिन्न प्रकोष्ठों की जिम्मेदारी सौंप रखी थी। इस पूरे प्रकरण पर हरियाणा कांग्रेस तथा कांग्रेस हाईकमान अभी तक चुप है।