BREAKING NEWS

असम के लोगों से PM की अपील, कांग्रेस बोली- मोदी जी, वहां इंटरनेट सेवा बंद है◾केंद्र सरकार महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर संविधान की आत्मा छलनी करने वाला बिल लाई : प्रियंका ◾पाकिस्तान की ओर से हो रहे घुसपैठ की कोशिशों को नजरअंदाज कर रही है सरकार: शिवसेना ◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले में SC ने 3 सदस्यीय जांच आयोग का किया गठन◾आईयूएमएल ने नागरिकता संशोधन विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती ◾असम के लोगों से PM मोदी की अपील, बोले- कोई नहीं छीन सकता आपके अधिकार◾झारखंड विधानसभा चुनाव: तीसरे चरण में 17 सीटों पर 9 बजे तक 13 फीसदी मतदान◾झारखंड विधानसभा चुनाव : PM मोदी ने मतदाताओं से बड़ी संख्या में मतदान का किया आग्रह◾गोवा : CM प्रमोद सावंत ने संसद में CAB पारित होने पर प्रधानमंत्री को दी बधाई◾नागरिकता बिल पर असम में व्यापक विरोध प्रदर्शन, कई जिलों में इंटरनेट बंद◾राज्यसभा में पूर्वोत्तर की सभी पार्टियों ने नागरिकता विधेयक के पक्ष में वोट किया : गोयल ◾येचुरी ने सरकार पर लगाया आरोप कहा- भाजपा CAB के जरिए द्विराष्ट्र के सिद्धांत को फिर से जिंदा करने की कोशिश कर रही है ◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के बीच मुख्यमंत्री के घर पर किया गया पथराव ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को निकट भविष्य में अदालत में चुनौती दी जाएगी : सिंघवी ◾नागरिकता विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने पर भाजपा ने खुशी जताई ◾सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो जाएगा CAB : चिदंबरम ◾नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾

हरियाणा

कांग्रेस का खेल बिगाड़ने की तैयारी में अशोक तंवर!

 ashok tanwar

चंडीगढ़ : हरियाणा में पांच साल से सत्ता से बाहर बैठी कांग्रेस की राह इस बार भी आसान नहीं है। पांच साल तक हुड्डा गुट के विरोध के बावजूद अध्यक्ष रहने वाले अशोक तंवर पार्टी से इस्तीफा देने के बाद रविवार से ही फील्ड में उतर गए हैं। एक तरफ जहां तंवर समर्थकों द्वारा लगातार इस्तीफे दिए जा रहे हैं वहीं दूसरी तरफ तंवर ने भी कार्यकर्ता सम्मेलनों का आयोजन शुरू कर दिया है। इसका सीधा नुकसान कांग्रेस को होगा। 

हरियाणा का चुनावी बिगुल बजने के बाद एक तरफ जहां भाजपा फिर से सत्ता में आने की तैयारी में पूरी एकजुटता के साथ चुनाव प्रचार में उतरी हुई है वहीं कांग्रेस की लड़ाई सडक़ों पर है। राहुल गांधी जब तक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे तब तक भूपेंद्र सिंह हुड्डा की एक नहीं चली और जिस दिन से सोनिया ने कांग्रेस की कमान संभाली है उस दिन से अशोक तंवर हाशिए पर हैं। टिकट आबंटन से नाराज अशोक तंवर ने शनिवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देकर अपनी राहें अलग कर ली। 

कांग्रेस हाईकमान तथा हुड्डा गुट इस मामले को खत्म मानकर शांत हो गया था वहीं अशोक तंवर ने रविवार से नया मोर्चा खोल दिया है। अशोक तंवर आज से फील्ड में उतर गए हैं और विधानसभा चुनाव तक वह प्रदेश में अपने समर्थकों को लामबंद करते हुए जनसभाओं को आयोजन करेंगे। रविवार को गुरुग्राम, झज्जर तथा रोहतक जिलों का दौरा करके उन्होंने अपने समर्थकों को एकजुट किया। 

साफ है कि अब अशोक तंवर कांग्रेस के लिए कार्यकर्ताओं को एकजुट नहीं करेंगे। रविवार को अशोक तंवर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के शहर भी पहुंचे और यहां कार्यकर्ताओं के साथ बैठक भी की। दूसरी तरफ अशोक तंवर के समर्थन में रविवार को भी इस्तीफों का दौर जारी रहा। आज भी दर्जनों नेताओं ने पार्टी छोड़ने की घोषणा की। जिन्हें अशोक तंवर ने अपने कार्यकाल के दौरान विभिन्न प्रकोष्ठों की जिम्मेदारी सौंप रखी थी। इस पूरे प्रकरण पर हरियाणा कांग्रेस तथा कांग्रेस हाईकमान अभी तक चुप है।