बहादुरगढ़ : सीएम उडऩदस्ते की जांच से जुड़े दस्तावेज नष्ट करने जा रहे बहादुरगढ़ आरटीए ऑफिस के दोनों टीएसआई को लेकर सीएम फ्लाइंग की टीम ने रविवार को बहादुरगढ़ में दस्तक दी। ओवर लोड वाहनों के चालान न करने के एवज में मंथली वसूली के 30 लाख रुपये दोनों के पास किस-किस ट्रांसपोटर से मिले इसकी जानकारी एकत्र भी की गई। डीएसपी अजीत सिंह के नेतृत्व में टीम ने यह कार्रवाई अमल में लाई है।

गौरतलब है कि दो दिन पहले सीएम फ्लाइंग ने पानीपत पुलिस को कार का नंबर दे टोल प्लाजा पर दोनों को काबू किया था। जिन्हें न्यायालय ने दो दिन के रिमांड पर भेजा हुआ है। अब जांच की जा रही है कि रिश्वत में किस-किसका हिस्सा था व रुपया कहां से आया था इसकी जांच चल रही है।

सीएम फ्लाइंग की जांच से जुड़े दस्तावेजों को नष्ट करने जा रहे बहादुरगढ़ आरटीए ऑफिस के दो ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर को शुक्रवार रात सीएम फ्लाइंग टीम ने पानीपत में गिरफ्तार करने के बाद जांच में पाया था कि उनकी कार से दस्तावेजों के अलावा मंथली वसूली के 30 लाख 30 हजार 500 रुपये वसूली ट्रांसपोर्टरों से ओवर लोड वाहनों के चालान न करने के एवज में एकत्र किए गए थे।

सीएम फ्लाइंग रोहतक के डीएसपी अजीत सिंह ने बहादुरगढ़ में कई स्थानों पर जांच के बाद भी कुछ बताने से मना कर दिया है। वहीं अन्य अधिकारियों ने बताया कि पानीपत के सेक्टर 13/17 थाने में दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 13(1) और 13 (डी) के तहत केस दर्ज किया गया है। शनिवार को उन्हें कोर्ट में पेश किया गया था जहां से दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा था।