BREAKING NEWS

एकता कपूर की मुश्किलें बढ़ी, अश्लीलता फैलाने और राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान के आरोप में FIR दर्ज◾बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर अमित शाह कल करेंगे ऑनलाइन वर्चुअल रैली, सभी तैयारियां पूरी हुई ◾केजरीवाल ने दी निजी अस्पतालों को चेतावनी, कहा- राजनितिक पार्टियों के दम पर मरीजों के इलाज से न करें आनाकानी◾ED ऑफिस तक पहुंचा कोरोना, 5 अधिकारी कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद 48 घंटो के लिए मुख्यालय सील ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत-चीन सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी◾राहुल गांधी का केंद्र पर वार- लोगों को नकद सहयोग नहीं देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही है सरकार◾वंदे भारत मिशन -3 के तहत अब तक 22000 टिकटों की हो चुकी है बुकिंग◾अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से होगी शुरू,15 दिनों तक जारी रहेगी यात्रा, भक्तों के लिए होगा आरती का लाइव टेलिकास्ट◾World Corona : वैश्विक महामारी से दुनियाभर में हाहाकार, संक्रमितों की संख्या 67 लाख के पार◾CM अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना,कहा- कोरोना संकट के बीच राज्यों को मदद देने में विफल रही है सरकार◾UP में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सबसे बड़ा उछाल, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा दस हजार के करीब ◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 36 हजार के पार, अब तक 6642 लोगों की मौत ◾प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन के दौरान यूपी में 44,000 से अधिक प्रवासियों को घर पहुंचने में मदद की ◾वैश्विक महामारी से निपटने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है ‘आयुष्मान भारत’ योजना: डब्ल्यूएचओ ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾हथिनी की मौत पर विवादित बयान देने पर केरल पुलिस ने मेनका गांधी के खिलाफ दर्ज की FIR◾दिल्ली हिंसा: पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य और JNU स्टूडेंट के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

प्रदूषण पर हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान

चंडीगढ़: दिवाली पर बढ़ते वायु और ध्वनि प्रदूषण पर हाईकोर्ट ने जो संज्ञान लिया था अब हाल ही में पंजाब और हरियाणा में पराली जलाये जाने से हुए प्रदूषण पर चिंता जताई है लिहाजा हाईकोर्ट ने इस मामले में लिए गए संज्ञान का दायरा बढ़ाते हुए इस मामले में केंद्रीय पर्यावरण, स्वास्थ्य और कृषि मंत्रालय सहित केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को भी इस मामले में प्रतिवादी पक्ष बनाते हुए जवाब तलब कर लिया है और मामले की अगली सुनवाई पर प्रदूषण के मौजूदा हालातों और इससे निपटने के लिए उठाये जा रहे कदमों की भी जानकारी मांग ली है।

जस्टिस ए.के. मित्तल एवं जस्टिस अमित रावल की खंडपीठ ने यह आदेश इस मामले में हाई कोर्ट द्वारा लिए गए संज्ञान पर सुनवाई करते हुए दिए हैं हाई कोर्ट ने संतुष्टि जताई कि, दिवाली और प्रकाशोत्सव पर तीन घंटे ही पटाखे जलाये जाने के जो आदेश दिए गए थे वह काफी प्रभावी रहे हैं, लेकिन अब यह मामला यही खत्म नहीं किया जा सकता है। इस मामले में हाई कोर्ट को सहयोग दे रहे सीनियर एडवोकेट अनुपम गुप्ता ने हाईकोर्ट को बताया कि, पटाखों के बाद पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा पराली जलाये जाने के कारण जो प्रदूषण हुआ है उसका असर इन दोनों राज्यों के साथ दिल्ली पर भी पड़ा है ऐसा नहीं है कि, इन दोनों राज्यों के अलावा अन्य किसी राज्य में किसान पराली नहीं जला रहे हैं। यु.पी., मध्यप्रदेश और बिहार और पश्चिमी राज्यों में भी ऐसा ही किया जा रहा है। जिस कारण पिछले कुछ दिनों में प्रदूषण बेहद ही बढ़ गया है। यह एक गंभीर मामला है लिहाजा अब समय आ गया है कि, इस मामले में ठोस कदम उठाये जाएँ।

गुप्ता ने कहा कि, पिछले दो दशकों में देश ने बड़ी तेजी से विकास किया है लेकिन इस पुरे विकास में किसान शामिल नहीं हो पाए हैं उदारीकरण के से पहले सरकार आम लोगों से सम्बंधित थी लेकिन उदारीकरण के बाद के दौर में सरकारें चाहे फिर वो किसी भी पार्टी की हों बिल्डरों और वयवसायियों के साथ कड़ी नजर आई है। ऐसे में आम लोग जिसमे बड़ी संख्या में किसान शामिल हैं उनके लिए कुछ किया ही नहीं गया है। पराली जलाये जाने की बजाय इसका और क्या विकल्प हो सकता है सरकार किसानों को बता ही नहीं सकी है। पराली को जलने के सिवाय भी इसे कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। यह किसानों को समझाना होगा इस पर हाई कोर्ट ने सहमति जताते हुए कहा कि, यह एक बड़ी समस्या है सिर्फ इस पर पाबन्दी लगाने भर से कुछ नहीं होगा बल्कि इसका विकल्प भी किसानों को बताना चाहिए।

(आहूजा)