BREAKING NEWS

भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾CWC की बैठक खत्म, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर शाम 4 बजे होगा फैसला◾कांग्रेस का महाराष्ट्र पर मंथन, संजय निरुपम ने जल्द चुनाव की जताई आशंका◾महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-NCP ने नहीं खोले पत्ते, प्रफुल्ल पटेल ने दिया ये बयान◾BJP अगर वादा पूरा करने को तैयार नहीं, तो गठबंधन में बने रहने का कोई मतलब नहीं : संजय राउत◾महाराष्ट्र सरकार गठन: NCP ने बुलाई कोर कमेटी की बैठक, शरद पवार ने अरविंद के इस्तीफे पर दिया ये बयान ◾संजय राउत का ट्वीट- रास्ते की परवाह करूँगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी◾शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने मंत्री पद से इस्तीफे की घोषणा की◾BJP द्वारा सरकार बनाने से इंकार किए जाने के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में उभर रहे नए राजनीतिक समीकरण◾

हरियाणा

हुड्डा बने गठबंधन की राह में रोड़ा

चंडीगढ़ : हरियाणा में जननायक जनता पार्टी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन की तमाम संभावनाएं खत्म हो गई है। दिल्ली में जिस तरह यह गठबंधन पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के कारण सिरे नहीं चढ़ सका। उसी तरह हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा गठबंधन की राह में रोड़ा बने रहे। जिसके चलते जननायक जनता पार्टी ने आज अपने प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी है और अब आम आदमी पार्टी भी अपनी सूची जारी करने की तैयारी में है।

आम आदमी पार्टी अंतिम समय तक इस प्रयास में रही की तीनों राजनीतिक दल एक मंच पर आ जाएं और भाजपा को सत्ता से बाहर किया जाए। इस महागठबंधन के प्रति जननायक जनता पार्टी भी साफ्ट रही लेकिन कांग्रेस अड़ियल रूख पर रही। जिसके चलते हरियाणा में महागठबंधन की बात सिरे नहीं चढ़ सकी। दिल्ली से लेकर चंडीगढ़ तक की 18 सीटों पर महागठबंधन की मुहिम दिल्ली के मुख्यमंत्री व आप सुप्रीमो अरङ्क्षवद केजरीवाल ने शुरू की थी। केजरीवाल ने इस महागठबंधन की जिद के चलते कांग्रेस के साथ दिल्ली में भी समझौता नहीं किया।

उनका तर्क था कि अगर हरियाणा में आप, कांग्रेस और जेजेपी मिलकर चुनाव लड़ते हैं तो राज्य की 10, दिल्ली की 7 और एक चंडीगढ़ की सीट पर फतेह हासिल की जा सकती है। दिल्ली से जुड़े सूत्रों का कहना है कि सोनीपत सीट की वजह से महागठबंधन सिरे नहीं चढ़ा। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा किसी भी कीमत पर सोनीपत सीट जेजेपी को देने के लिए राजी नहीं हुये। वहीं जेजेपी दो अन्य सीटों के साथ सोनीपत भी चाहती थी। कांग्रेस हाईकमान भी महागठबंधन के पक्ष में तो था, लेकिन हुड्डा की दलीलों और विरोध के बाद सोनीपत छोडऩे को राजी नहीं हुआ।

बुधवार को पूरा दिन महागठबंधन को सिरे चढ़ाने की कोशिश चली। बृहस्पतिवार को भी इस संदर्भ में कांग्रेस, आप और जेजेपी नेताओं के बीच बातचीत हुई। जब बात बनती नजऱ नहीं आई तो आप और जेजेपी ने हरियाणा में अपने उम्मीदवार घोषित करने का फैसला लिया। सूत्रों के अनुसार अगर सोनीपत सीट जेजेपी के हिस्से में आती तो भविष्य में इसका सबसे अधिक राजनीतिक नुकसान हुड्डा को ही होता। पिछले तीन दिनों से छिड़ी महागठबंधन की मुहिम ने हरियाणा में भाजपाइयों की स्थिति खराब की हुई थी।

भाजपा नेताओं को इस बात का अच्छे से अनुमान था कि तीनों दलों के मिलने के बाद राज्य में समीकरण पूरी तरह से बदल जाने थे। भाजपा के थिंक-टैंक महागठबंधन की स्थिति में अंदरखाने अपनी चुनावी रणनीति बदलने में भी जुट गये थे। माना जा रहा है कि बातचीत विफल होने के बाद भाजपाइयों ने राहत की सांस ली है।

(राजेश जैन)