BREAKING NEWS

IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾BJP ने उत्तराखंड चुनाव के लिए 59 उम्मीदवारों के नामों पर लगाई मोहर, खटीमा से चुनाव लड़ेंगे CM धामी◾संगरूर जिले की धुरी सीट से भगवंत मान लड़ सकते हैं चुनाव, राघव चड्डा बोले आज हो जाएगा ऐलान ◾यमन के हूती विद्रोहियों को फिर से आतंकवादी समूह घोषित करने पर विचार कर रहा है अमेरिका : बाइडन◾गोवा चुनाव के लिए BJP की पहली लिस्ट, मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल को नहीं दिया गया टिकट◾

मैं अपने सभी विभाग छोड़ने को तैयार हूं, सिर्फ एक या दो ही क्यों: विज

हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने बृहस्पतिवार को कहा कि उन्होंने तब मंत्रिपरिषद से इस्तीफा देने की पेशकश की जब शहरी स्थानीय निकाय विभाग नए मंत्री को सौंप दिया गया और कहा गया कि उनसे गृह विभाग भी वापस लिया जा सकता है। राज्य मंत्रिपरिषद में दो नए मंत्रियों को शामिल किए जाने के साथ ही हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की सलाह पर राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने विभागों का आवंटन और नए सिरे से आवंटन किया।

शहरी स्थानीय निकाय विभाग नए मंत्री कमल गुप्ता को आवंटित किया गया है। मुख्यमंत्री खट्टर ने अपने अधीन एक विभाग ‘सभी के लिए आवास’ की जिम्मेदारी भी हिसार से दो बार के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक गुप्ता को दी है। यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने मंत्रिपरिषद से इस्तीफा देने की पेशकश की है, विज ने बृहस्पतिवार को कहा कि जब मुख्यमंत्री ने उनसे गृह विभाग वापस लेने और इसे अपने पास रखने की इच्छा व्यक्त की तो ‘‘मैंने कहा कि यदि वह ऐसा चाहते हैं तो वह सभी विभाग ले सकते हैं।’’

विज ने  कहा, ‘‘मैंने कहा कि मैं अपने सभी विभाग छोड़ने को तैयार हूं, सिर्फ एक या दो ही क्यों।’’ विभागों के पुन: आवंटन के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता और छह बार के विधायक विज के पास अब गृह, स्वास्थ्य, आयुष, तकनीकी शिक्षा तथा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग हैं। नवनियुक्त मंत्रियों- भाजपा के कमल गुप्ता और जननायक जनता पार्टी (जजपा) के देवेंद्र सिंह बबली को बुधवार को विभागों का आवंटन किया गया।

नवनियुक्त मंत्रियों के मंगलवार को शपथग्रहण समारोह में विज की अनुपस्थिति के कारण संदेह पैदा हुआ था। समारोह से कुछ समय पहले उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ बैठक की थी। समारोह में विज की अनुपस्थिति के बारे में पूछे जाने पर प्रदेश भाजपा प्रमुख ओपी धनखड़ ने मंगलवार को कहा था, ‘‘वह हमारे वरिष्ठ नेता हैं और हम उनसे सलाह-मशविरा करने के बाद निर्णय लेते हैं।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या विज किसी मुद्दे पर नाखुश हैं, धनखड़ ने कहा, ‘‘वह हमारे वरिष्ठ और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले नेता हैं।’’ पिछले साल सीआईडी के नियंत्रण को लेकर खट्टर के साथ कई दिनों तक टकराव के बाद विज से संबंधित विभाग का प्रभार वापस ले लिया गया था और बाद में इसे मुख्यमंत्री ने अपने पास रख लिया था। तब विज ने सीआईडी द्वारा विभिन्न मुद्दों पर जानकारी या ‘फीडबैक’ नहीं दिए जाने पर नाखुशी जाहिर की थी।

हालांकि, सीआईडी विभाग का प्रभार वापस लिए जाने के बाद विज ने कहा था कि उन्होंने हमेशा कहा है कि मुख्यमंत्री सर्वोच्च हैं और किसी भी विभाग का प्रभार वापस ले सकते हैं या इसे बांट सकते हैं। इस साल जुलाई में अनिल विज ने आरोप लगाया था कि उनके विभागीय काम में कुछ अधिकारी खट्टर को ‘‘खुश’’ करने के लिए बाधा डाल रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि दोनों के बीच मतभेद हैं। उन्होंने यह टिप्पणी पुलिस महानिदेशक मनोज यादव के कार्यकाल को लेकर मुख्यमंत्री से बातचीत के बाद की थी।

खट्टर जहां यादव को राज्य के पुलिस प्रमुख के रूप में बनाए रखने के इच्छुक थे, वहीं विज इस साल की शुरुआत में दो साल का कार्यकाल समाप्त होने के बाद उन्हें बदलने के पक्ष में थे। फरवरी 2015 में, हरियाणा में पहली बार अपने दम पर भाजपा के सत्ता में आने के तीन महीने से भी कम समय में विज ने ट्विटर पर मुख्यमंत्री पर परोक्ष रूप से कटाक्ष करते हुए कहा था, ‘‘मेरे विभागों में गहरी दिलचस्पी लेने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद। मैं निश्चिंत हूं।’’विज के पास तब स्वास्थ्य, खेल और युवा मामलों का प्रभार था।