BREAKING NEWS

कोरोना संकट के बीच LPG सिलेंडर के दाम में बढ़ोतरी, आज से लागू होगी नई कीमतें ◾अमेरिका : जॉर्ज फ्लॉयड की मौत पर व्हाइट हाउस के बाहर हिंसक प्रदर्शन, बंकर में ले जाए गए थे राष्ट्रपति ट्रंप◾विश्व में महामारी का कहर जारी, अब तक कोरोना मरीजों का आंकड़ा 61 लाख के पार हुआ ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 90 हजार के पार, अब तक करीब 5400 लोगों की मौत ◾चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर गृह मंत्री शाह बोले- समस्या के हल के लिए राजनयिक व सैन्य वार्ता जारी◾Lockdown 5.0 का आज पहला दिन, एक क्लिक में पढ़िए किस राज्य में क्या मिलेगी छूट, क्या रहेगा बंद◾लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾कोरोना संकट : दिल्ली सरकार ने राजस्व की कमी के कारण केंद्र से मांगी 5000 करोड़ रुपए की मदद ◾मन की बात में PM मोदी ने योग के महत्व का किया जिक्र, बोले- भारत की इस धरोहर को आशा से देख रहा है विश्व◾'मन की बात' में PM मोदी ने देशवासियों की सेवाशक्ति को कोरोना जंग में बताया सबसे बड़ी ताकत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बीजेपी के बहुमत से दूर रहने के कई कारण

बहादुरगढ़ : हार पर मंथन के लिए हुई भाजपा की मीटिंगों में जहां कार्यकर्ताओं ने अपनी ही पार्टी के संगठन और  प्रशासनिक अधिकारियों को हार का जिम्मेवार ठहराया है वहीं बुद्धीजीवी जाट लैंड में बीजेपी की कार का मुख्य कारण लोकसभा चुनाव में भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दीपेंद्र सिंह हुड्डा की हार का दर्द बता रहे हैं। जाट लैंड में बीजेपी का पूरी तरह से सफाया हुआ है और बीस दिन के नेतृत्व के बाद भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कुमारी सैलजा कांग्रेस को जीरों से तीस पर पहुंचा गए क्योंकि जाटों में भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दीपेंद्र सिंह हुड्डा की हार का इतना ज्यादा दर्द था कि बीजेपी समर्थन जाटों  ने भी जाट लैंड में कांग्रेस को वोट दे कर अपने गुस्से को बाहर निकाला। 

हाट जाट लैंड सोनीपत, रोहतक व झज्जर की 14 सीटों में से भाजपा को केवल राई और गनौर की मिली जबकि अन्य 12 पर हुड्डा का ही जादू चला। जाटों में बीजेपी के विरोध का कोई एक ही कारण नहीं बल्कि कई अन्य कारण भी रहे हैं। जाट लैंड से बाहर भी जाटों का दर्द बीजेपी की हार और कांग्रेस के 31 पर पहुंचने का कारण बना जिस कारण चारों प्रमुख जाट विधायकों अभिमन्यु, ओमप्रकाश धनखड, प्रेम लता और  बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला को हार का मुंह देखना पडा।  हरियाणा जाट बाहुल प्रदेश है और प्रदेश का जाट यहां अपनी चौधर मानता है। 

जाटों ने तो यहां तक कहना शुरु कर दिया था कि अगर हरियाणा में जाट विधायक मंत्री और मुख्यमंत्री नहीं बनेगा तो क्या बंगाल बिहार में जाट विधायक व मुख्यमंत्री बनेगा। बीजेपी नेताओं का अंहकार भी उन्हेेें लेकर बैठ गया  क्योंकि बीजेपी के मंत्री से लेकर संतरी और विधायकों तक इनता ज्यादा अहंकार और घमंड हो गया था जैसे सत्ता की रजिस्ट्री उनके नाम हो गई हो। चुनाव के दौरान हरियाणा में थोक में वाहनों के चालान काटे गए,बच्चों के दूर- दूर कर दिए गए, टिकट वितरण में भी  ठीक से मंथन  नहीं किया गया। 

जाटलैंड चौधर और अकड निकालने में तो पहले से ही माहिर है। जाट लैंड में हमेशा चौधर ही मुख्य मुद्दा होता है मगर बीजेपी के  बार बार 75 पार का नारा भी बीजेपी को लेकर बैठ गया। मतदाताअें के मन में संदेह पैदा हो गया कि बीजेपी में बिना चुनाव जीते ही इस तरह का धमंड जिसे तोडा नहीं गया तो उनका अंहकार ओर ज्यादा बढेगा जिस कारण खासकर जाट युवा  बीजेपी के विरोध में उतर गया जबकि बुजुर्ग जाट वोटर तो पहले भी देवीलाल और हुड्डा परिवार से बाहर नहीं निकलता।  

बीजेपी ने प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ भी हार के मंथन में खूब गुस्सा निकाला जबकि किसी अधिकारी ने भी चुनाव में किसी का पक्षपात नहीं किया और किया है तो वह नीचे ही नीचे किया है जिसका ज्यादा असर नहीं पडता। अब तो लोग भीरतधात करने वालों को भी ज्यादा महत्व नहीं देते और वोट अपनी अंतरात्मा की आवाज पर देते हैं। फिर बीजेपी के कार्यकर्ता और नेता अपनी हार पर प्रशासनिक अधिकारियों पर ही  गुस्सा निकाल रहे हैं जबकि वे इस बात पर भी मंथन करें कि पार्टी में दूसरे दलों से आएं नेताओं ने ​टिकट न लिने पर कितने उम्मीदवारों का सहयोग किया।  

जिस प्रांत में हर साल हजारों पढेलिखे बेरोजगार युवको की कंपनी खड़ी हो जाती हो उस प्रदेश में बीजेपी  केवल 18 हजार नौकरी देकर अपनी पीठ थपथपाने पर राजी हो रही है जबकि उन पदों पर कोई इंजीनियर तो कोई एमबीए व बीएसई और एमएसई तक के बच्चे नौकरी लगे जो बेरोजगारी के अभाव में ही उन पदों पर काम कर रहे हैं। इस बार बीजेपी ने  जाटों की नाराजगी को देखते हुए ही जेजेपी से समझौता कर डिपटी सीएम का पद दिया है मगर क्या जाट बीजेपी से खुश हो गया है यह तो सरकार के चलने और गठबंधन के उपर निर्भर करता है।