BREAKING NEWS

Himachal Pradesh: किसका होगा हिमाचल! Exit Polls के मुताबिक- पहाड़ों में फिर खिलेगा 'कमल' ◾सुप्रीम कोर्ट की सलाह: दुनिया बदल गई, CBI को भी बदलना चाहिए, जानें क्या है पूरा मामला ◾दिल्ली हाई कोर्ट ने राघव बहल के खिलाफ धनशोधन की जांच पर रोक लगाने से किया इनकार ◾बिहार की सियासत में कांग्रेस की बढ़ी दिलचस्पी, अखिलेश प्रसाद सिंह राज्य इकाई के अध्यक्ष नियुक्त◾European Union: एयरलाइन यात्रियों के लिए खुशखबरी, जल्द अपने फोन में 5जी सर्विस का उठा पाएंगे लाभ ◾Lakhimpur Kheri case: केन्द्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे समेत 13 आरोपियों को आरोपमुक्त करने की अर्जी खारिज◾Maharashtra: नाना पटोले ने कहा- BJP कर रही है शिवाजी महाराज का अपमान करने का प्रयास◾Maharashtra: महाराष्ट्र में दरिंदगी, 5 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, पुलिस ने आरोपी को दबोचा◾अखिलेश यादव का आरोप, कहा- उपचुनावों में लोगों को वोट देने से रोक रहा है प्रशासन◾देश के पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम G-20 शिखर सम्मेलन पर सर्वदलीय बैठक में होंगे शामिल ◾आतंक फैलाने में जुटा PAK, भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर बीएसएफ ने ड्रोन और हेरोइन बरामद की◾पिटबुल कुत्ते ने 9 साल के मासूम बच्चे पर किया हमला बच्चा गंभीर रूप से घायल, मालिक पर केस दर्ज◾गाजियाबाद: एक्शन में पुलिस कमिश्नर, 24 चौकी प्रभारियों समेत 47 दरोगाओं का किया ट्रांसफर ◾धर्मों को लेकर बोला SC- भारत एक धर्मनिरपेक्ष... सभी लोगों को अपने धर्मों का करना चाहिए पालन◾सीमा विवाद में फडणवीस की एंट्री, बोले- कर्नाटक के विवादित क्षेत्रों में मंत्रियों के दौरे पर अंतिम निर्णय शिंदे लेंगे◾कर्नाटक का शिवमोग्गा फिर बना चर्चा का केंद्र, दीवारों पर लिखा- 'Join CFI'....जांच में जुटी पुलिस ◾Haridwar News: खतरनाक पिटबुल के हमले में लहूलुहान हुआ बच्चा, पुलिस ने दर्ज किया मामला◾राजस्थान: शेखावटी में गैंगस्टरों का खूनी खेल में मौत का तांडव ! राजू ठेठ और विश्नोई गैंग में क्यों चली आ रही है दुश्मनी◾थरूर को दरकिनार करने का प्रयास! NCP ने पार्टी में शामिल होने का दिया ऑफर....मिला ये जवाब ◾जुड़वा बहनों से एक साथ शादी करना युवक को पड़ा भारी, केस दर्ज◾

कांग्रेस और वामदलों सहित एक मोर्चा बनाना समय की जरूरत : नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भाजपा से मुकाबला करने के लिए रविवार को कांग्रेस और वाम दलों समेत सभी विपक्षी पार्टियों से एकजुट होने की अपील की और कहा कि “विपक्षी दलों का मुख्य मोर्चा” यह सुनिश्चित करेगा कि 2024 के आम चुनाव में भगवा पार्टी को बुरी तरह शिकस्त मिले।

भाजपा ने राजनीति के लिए हिंदू -मुस्लिम तनाव पैदा करने की कोशिश की 

कुमार ने पूर्व उप प्रधानमंत्री देवीलाल की जयंती के उपलक्ष्य में यहां इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) द्वारा आयोजित एक विशाल रैली में कहा कि अगर सभी गैर-भाजपा दल एकजुट हो जाएं, तो वे देश को तबाह करने के लिए काम कर रहे लोगों से छुटकारा दिला सकते हैं। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर राजनीतिक लाभ के लिए समाज में “हिंदू-मुस्लिम तनाव” पैदा करने की कोशिश करने का आरोप लगाया।

कांग्रेस व वामदलों के बिना विपक्षी मोर्चा बनाने की परिकल्पना नहीं की जा सकती हैं 

कुमार ने कहा कि हिंदू और मुसलमानों के बीच कोई लड़ाई नहीं है और कुछ शरारत करने वाले हर जगह हैं। 1947 में विभाजन के बाद बड़ी संख्या में मुसलमानों ने भारत में रहने का विकल्प चुना था। उन्होंने सुझाव दिया कि कांग्रेस और वाम दलों के बिना एक विपक्षी मोर्चे की परिकल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने मंच पर मौजूद कांग्रेस विरोधी इतिहास वाले कुछ नेताओं समेत सभी नेताओं से एकजुट होने का आग्रह किया।

रैली में गैर भाजपा दलों को साथ लाने की गयी कोशिश

लंबे समय तक कांग्रेस विरोधी होने का इतिहास रखने वाले दो नेता, इनेलो के ओम प्रकाश चौटाला व शिरोमणि अकाली दल के सुखबीर सिंह बादल, राकांपा के शरद पवार, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के सीताराम येचुरी व शिवसेना के अरविंद सावंत जैसे अन्य वरिष्ठ नेता एक साथ एक मंच पर मौजूद थे। बिहार के उपमुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव भी मंच पर थे। इस रैली को गैर-भाजपा दलों के बीच एकजुटता की दिशा में एक कदम के रूप में देखा जा रहा था।

हालांकि, कांग्रेस की ओर से किसी ने रैली में शिरकत नहीं की। कुमार ने कहा कि यह समय सभी विपक्षी दलों का मुख्य मोर्चा बनाने का है, न कि कोई तीसरा मोर्चा बनाने का। उन्होंने कहा, “ऐसा मोर्चा शानदार तरीके से जीत हासिल करेगा।” रैली स्थल से रवाना होते समय कुमार ने संवाददाताओं से कहा कि वह प्रधानमंत्री पद के दावेदार नहीं हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र में भाजपा सरकार के तहत कोई वास्तविक काम नहीं हो रहा है। उन्होंने भाजपा पर मीडिया सहित विभिन्न संस्थानों पर नियंत्रण करने का आरोप लगाया, ताकि “एकतरफा” विमर्श को आगे बढ़ाया जा सके।