चंडीगढ़ : विधानसभा सत्र के तीसरे और अंतिम दिन विधायकों ने हरियाणा विधानसभा में बेशर्मी की सभी हदें पार कर दीं। दरअसल कांग्रेसी विधायक करण दलाल ने गरीबों के राशन कार्ड काटने का मुद्दा उठाते हुए सरकार पर हरियाणा को पूरे देश में कलकिंत करने की बात कही। दलाल के इस बयान के बाद बीजेपी विधायकों ने जोरदार हंगामा करना शुरू कर दिया। बीजेपी ही नहीं इस दौरान विरोधी दल इनेलो के नेता व नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने भी दलाल के बयान की निंदा की और करण दलाल को सदन से निलंबित करने की मांग कर डाली। शब्दों की सीमाएं लांधने के संग-संग सदन की मर्यादा भी इस दौरान ताक पर रख दी गई।

आपे से बाहर हुए कांग्रेस विधायक दलाल और चौटाला ने एक-दूसरे पर जूते निकाल लिये। करण दलाल को इस व्यवहार के लिए विधानसभा से एक साल के लिए निलंबित कर दिया गया। हरियाणा विधानसभा में मंगलवार को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण हालत पैदा हो गई। सदन में कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक करण सिंह दलाल और इनेलो विधायक व नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला के बीच भिड़ंत हो गई। मंगलवार को विधानसभा के अंतिम दिन दोपहर बाद कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक और पूर्व मंत्री करण सिंह दलाल और इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला में नोकझोंक हो गई। दोनों की कहासुनी बढ़ती चली गई और इस दौरान शब्दों की मर्यादा टूट गई।

हरियाणा के लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी, बिजली दरों में की बड़ी कटौती

इसके बाद दोनों आमने-सामने हो गए और उनके बीच भिड़ंत की नौबत आ गई। इस दौरान आपे से बाहर आए करण सिंह दलाल और अभय चौटाला ने अपने जूते निकाल लिये। विवाद उस समय शुरू हुआ जब विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला ने हरियाणा प्रदेश को कलंकित कहे जाने के मुद्दे पर करण सिंह दलाल के खिलाफ़ भाजपा विधायकों द्वारा प्रस्ताव लाए जाने पर समर्थन करने की कही। इस पर करण सिंह दलाल भडक़ गए और चौटाला पर बिफर पड़े। दोनों के बीच गाली गलौच होने लगी। इसके बाद माहौल बेहद तनावपूर्ण हो गया। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और अन्य सदस्यों ने बीच बचाव किया और दोनों सदस्यों को अलग किया। हालत यह हो गई कि मार्शलों को बीच बचाव करना पड़ा।

– (आहूजा)