BREAKING NEWS

Weather update : जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी से उत्तर भारत में बढ़ी ठंड ◾देश में कोरोना एक्टिव केस में बढ़ोतरी, संक्रमितों का आंकड़ा 92 लाख के पार ◾सेना प्रमुख नरवणे ने पूर्वोत्तर की सीमाओं पर सेना की परिचालन संबंधी तैयारियों का लिया जायजा ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾TOP 5 NEWS 25 NOVEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾कांग्रेस नेता अहमद पटेल के निधन पर PM मोदी और राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने जताया शोक ◾कांग्रेस के कद्दावर नेता अहमद पटेल का 71 साल की उम्र में निधन, एक महीना पहले हुए थे कोरोना पॉजिटिव◾आज का राशिफल ( 25 नवंबर 2020 )◾लालू प्रसाद राजग के विधायकों को फोन पर मंत्री पद का लालच दे रहे : सुशील मोदी ◾चक्रवाती तूफान 'निवार' के 12 घंटों में भीषण रूप लेने की आशंका◾अयोध्या का हवाईअड्डा भगवान राम के नाम पर, कैबिनेट से मिली मंजूरी ◾मैं खुश हूँ की केंद्र सरकार ने किसान संगठनों को बातचीत के लिए बुलाया है : अमरिंदर सिंह◾अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने ट्रंप के सत्ता हस्तांतरण पर कहा 'चुनाव बीत गया'◾मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार ने अपनी संपत्ति बनाने के लिए निजी कंपनियों की तरह काम किया :भाजपा ◾संजय राउत के बयान पर फडणवीस बोले- शिवसेना ने ‘लव जेहाद’ पर अपना रूख ‘नरम’ कर लिया है◾राकांपा प्रमुख शरद पवार बोले- शिवसेना विधायक सरनाईक के खिलाफ ईडी की कार्रवाई विपक्ष की निराशा है◾नेशनल कांफ्रेस के नेताओं ने सरकारी जमीन का किया अतिक्रमण : अनुराग ठाकुर◾'लव जिहाद' के खिलाफ अध्यादेश लाई योगी सरकार, जल्द बनेगा कानून ◾राहुल गांधी ने ‘निवार’ तूफान के मद्देनजर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जरूरतमंदों की मदद करने की अपील की ◾मोदी सरकार ने सुरक्षा का हवाले देते हुए बैन किए 43 मोबाइल ऐप्स, अधिकतर चाइनीज ऐप्स है शामिल ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

1984 के सिख विरोधी दंगे मामले में केंद्र ने SC से कहा- SIT की सिफारिशें स्वीकार, करेंगे कार्रवाई

केन्द्र ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि उसने 1984 के सिख विरोधी दंगों के 186 मामलों की जांच करने वाले दिल्ली हाई कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश एस एन ढींगरा की अध्यक्षता में गठित विशेष जांच दल की सिफारिशें स्वीकार कर ली हैं और वह कानून के अनुसार उचित कार्रवाई करेगी। 

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति सूर्य कांत की पीठ को याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता आर एस सूरी ने सूचित किया कि विशेष जांच दल (एसआईटी) की रिपोर्ट में पुलिस अधिकारियों की भूमिका की निन्दा की है। उन्होंने कहा कि वह 1984 के सिख विरोधी दंगों में कथित रूप में संलिप्त पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए एक आवेदन दायर करेंगे। 

केन्द्र की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ से कहा कि उन्होंने इस रिपोर्ट में की गयी सिफारिशें स्वीकार कर ली हैं और इस मामले में उचित कदम उठाएंगे। मेहता ने कहा, ‘‘हमने सिफरिशें स्वीकार कर ली हैं और हम कानून के मुताबिक कार्रवाई करेंगे। अनेक कदम उठाने की आवश्यकता है और ऐसा किया जाएगा।’’ 

इस मामले की सुनवाई के दौरान सूरी ने विशेष जांच दल की रिपोर्ट का हवाला दिया और कहा कि ऐसी सोच है कि जो कुछ भी हुआ था उसके लिए पुलिस अधिकारी बच नहीं सकते। सूरी ने कहा, ‘‘रिपोर्ट मे यह सुझाव दिया गया है कि पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कुछ न कुछ कार्रवाई की जानी चाहिए क्योंकि इसमे उनकी मिलीभगत थी। ये पुलिस अधिकारी बचने नहीं चाहिए। हम इस रिपोर्ट पर अपना जवाब दाखिल करेंगे’’ 

पीठ को मेहता ने सूचित किया कि इन मामलों के रिकार्ड सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री के पास हैं और उन्हें सीबीआई को लौटा देना चाहिए ताकि आगे कार्रवाई की जा सके। पीठ ने निर्देश दिया कि ये रिकार्ड गृह मंत्रालय को सौंप दिए जाएं। न्यायमूर्ति ढींगरा की अध्यक्षता वाले इस विशेष जांच दल में सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी राजदीप सिंह और वर्तमान आईपीएस अधिकारी अभिषेक दुलार भी शामिल थे। 

आज देशभर में मनाया जा रहा है 72वां सेना दिवस, राष्ट्रपति कोविंद, उपराष्ट्रपति नायडू और PM मोदी ने दी बधाई

सुप्रीम कोर्ट ने 11 जनवरी, 2018 को इस जांच दल का गठन किया था जिसे उन 186 मामलों में आगे जांच करनी थी जिन्हें पहले बंद कर दिया गया था। इस जांच दल में इस समय सिर्फ दो सदस्य हैं क्योंकि राजदीप सिंह ने व्यक्तिगत कारणों से इसका हिस्सा बनने से इंकार कर दिया था। इससे पहले, पिछले साल मार्च में सुप्रीम कोर्ट ने विशेष जांच दल को अपनी जांच पूरी करने के लिए दो महीने का वक्त और दिया था। 

कोर्ट को जांच दल ने सूचित किया था कि इन मामलों में 50 प्रतिशत से ज्यादा काम हो गया है और उसे जांच पूरी करने के लिए दो महने का समय और चाहिए। तत्कालीन प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी की 31 अक्टूबर, 1984 को उनके दो सुरक्षा कर्मियों द्वारा गोली मार कर हत्या किए जाने के बाद दिल्ली सहित देश के अनेक हिस्सों में बड़े पैमाने पर सिख विरोधी दंगे हुए थे। इन दंगों में अकेले दिल्ली में 2,733 व्यक्तियों की जान चली गयी थी।