BREAKING NEWS

कृषि मंत्री ने किसानों के साथ अगले दौर की वार्ता से पहले अमित शाह से मुलाकात की ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने सरकार का प्रस्ताव किया खारिज, किसान अपनी मांगों पर अड़े◾मुख्यमंत्री केजरीवाल का आदेश, कहा- झुग्गी झोपड़ी में रहने वालों को जल्दी से जल्दी फ्लैट आवंटित किए जाएं ◾ममता की बढ़ी चिंता, मौलाना अब्बास सिद्दीकी ने बंगाल में बनाई नई राजनीतिक पार्टी, सभी सीटों पर लड़ सकती है चुनाव ◾सीरम इंस्टीट्यूट में भीषण आग से 5 मजदूरों की मौत, CM ठाकरे ने दिए जांच के आदेश◾चुनाव से पहले TMC को झटके पर झटका, रविंद्र नाथ भट्टाचार्य के बेटे BJP में होंगे शामिल◾रोज नए जुमले और जुल्म बंद कर सीधे-सीधे कृषि विरोधी कानून रद्द करे सरकार : राहुल गांधी ◾पुणे : दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता में से एक सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में लगी आग◾अरुणाचल प्रदेश में गांव बनाने की रिपोर्ट पर चीन ने तोड़ी चुप्पी, कहा- ‘हमारे अपने क्षेत्र’ में निर्माण गतिविधियां सामान्य ◾चुनाव से पहले बंगाल में फिर उठा रोहिंग्या मुद्दा, दिलीप घोष ने की केंद्रीय बलों के तैनाती की मांग◾ट्रैक्टर रैली पर किसान और पुलिस की बैठक बेनतीजा, रिंग रोड पर परेड निकालने पर अड़े अन्नदाता ◾डेजर्ट नाइट-21 : भारत और फ्रांस के बीच युद्धाभ्यास, CDS बिपिन रावत आज भरेंगे राफेल में उड़ान◾किसानों का प्रदर्शन 57वें दिन जारी, आंदोलनकारी बोले- बैकफुट पर जा रही है सरकार, रद्द होना चाहिए कानून ◾कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में प्रधानमंत्री मोदी और सभी मुख्यमंत्रियों को लगेगा टीका◾दिल्ली में अगले दो दिन में बढ़ सकता है न्यूनतम तापमान, तेज हवा चलने से वायु गुणवत्ता में सुधार का अनुमान ◾देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 15223 नए केस, 19965 मरीज हुए ठीक◾TOP 5 NEWS 21 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विश्व में आखिर कब थमेगा कोरोना का कहर, मरीजों का आंकड़ा 9.68 करोड़ हुआ ◾राहुल गांधी ने जो बाइडन को दी शुभकामनाएं, बोले- लोकतंत्र का नया अध्याय शुरू हो रहा है◾कांग्रेस ने मोदी पर साधा निशाना, कहा-‘काले कानूनों’ को खत्म क्यों नहीं करते प्रधानमंत्री◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

किसानों की कर्जमाफी के लिए बजट में किया 36 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान

प्रदेश के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने वित्त वर्ष 2017-18 के लिये मंगलवार को विधानसभा में किसानों का मंगलकारी वार्षिक बजट प्रस्तुत किया। इसमें भाजपा की बहुप्रचारित किसान कर्जमाफी के लिये 36 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। श्री अग्रवाल ने बजट सत्र के पहले दिन बजट भाषण शुरू करते हुए कहा है कि सरकार का यह बजट लोककल्याण के मूल मंत्र से प्रेरित है इसमें जहां ग्रामीण क्षेत्र के विकास पर बल दिया गया है, वहीं नगरीय क्षेत्रों के विकास पर भी ध्यान दिया गया है। उन्होंने सदन को बताया कि फसली कर्जमाफी के लिये बजट में 36 हजार करोड़ रुपए की व्यवस्था कर दी गयी है। सरकार का उद्देश्य अगले पांच वर्षों में 10 प्रतिशत की विकास दर प्राप्त करना है।

बजट में शामिल विभिन्न योजनाओं का जिक्र करते हुए वित्त मंत्री ने बताया कि बजट में मेक इन यूपी को बढ़ावा देने तथा पॉवर फॉर ऑल  एवं डिजिटल इंडिया को आगे बढ़ाने के उद्देश्यों को शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि जीएसटी 19 मई को अधिसूचित की जा चुकी है। इससे आर्थिक वृद्धि होगी और व्यापार बढऩे से केन्द्र और राज्य सरकार की आय में बढ़ोत्तरी होगी। श्री अग्रवाल ने कहा कि काफी समय बाद ऐसा हुआ है कि केन्द्र और प्रदेश में एक ही दल की अगुवाई वाली सरकार है। हमारी सरकार केन्द्र के समन्वय से सरकार चलाएगी जबकि पिछली सरकारें ऐसा नहीं करती थीं।

वित्त मंत्री ने कहा कि पूर्वांचल के 38 जिले इंसेफेलाइटिस से प्रभावित हैं। उनमें से सात जिले इससे अत्यन्त प्रभावित हैं। सरकार ने अपने शुरुआती 100 दिनों में 88.62 लाख बच्चों को प्रतिरोधक टीका लगाया है। उन्होंने कहा कि नेताओं और अभिनेताओं के नाम के बजाय सीमा पर शहीद होने वाले जवानों के नाम पर स्कूल-कालेजों का नामकरण हो। इससे पूर्व उत्तर प्रदेश विधानमंडल के बजट सत्र की शुरुआत मंगलवार को विधानसभा में विपक्ष द्वारा कानून व्यवस्था तथा कुछ अन्य मुद्दों को लेकर जोरदार हंगामे के साथ हुई,परिणामस्वरूप प्रश्नकाल में व्यवधान उत्पन्न हुआ।

पूर्वाहन 11 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होते ही समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी तथा कांग्रेस समेत विपक्षी सदस्यों ने प्रदेश में बढ़ते अपराधों के मुद्दे को जोर शोर से उठाते हुए हंगामा शुरु कर दिया और बैनर तथा पोस्टर लेकर सदन के बीचों बीच आ गए। सपा के सदस्यों ने झूठ-कपट की यह सरकार, नहीं चलेगी, किसान विरोधी यह सरकार, नहीं चलेगी , नारे लिखी तख्तियां लहरायीं।

वहीं कांग्रेस ने रायबरेली में हाल में पांच लोगों की हत्या के साथ-साथ प्रदेश में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं एवं भ्रष्टाचार के मुद्दे उठाये। बसपा सदस्यों ने भी महिला उत्पीड़न के खिलाफ नारे लिखी तख्तियां लहराकर विरोध जताया। एक तख्ती पर सरकार पर अल्पसंख्यक विरोधी होने के आरोप वाला नारा भी लिखा था।

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने शोरगुल कर रहे सदस्यों से कहा कि सदन में बैनर, तख्ती लाना मना है, क्या सदस्य सदन में दाखिल होने से पहले तलाशी लिये जाने की परम्परा शुरू करना चाहते हैं। हंगामा थमते ना देख सदन की कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई।

बाद में उसकी अवधि एक बार फिर 10 मिनट की लिये बढ़ा दी गयी। संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि विपक्षी दलों की हरकतों की वजह से जनता ने चुनाव में उन्हें नकार दिया है। उनके पास कोई मुद्दा नहीं है। विपक्ष केवल मीडिया की सुर्खियां बटोरने के लिये ऐसा आचरण कर रहा है।