BREAKING NEWS

LIVE : संजय राउत को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही होगा◾शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾लगातार 5 दिन से बढ़ते पेट्रोल के दाम पर लगा ब्रेक, डीजल के दाम भी स्थिर ◾महाराष्ट्र : शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस का नहीं हुआ गठबंधन, अब ऑपरेशन लोटस की तैयारी में BJP◾दिल्ली-NCR में सांस लेना हुआ दूभर, गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा◾राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾

देश

गडकरी को नहीं भायी नीति आयोग की सलाह

नई दिल्ली : नीति आयोग का देश में आधुनिक इले​क्ट्रिक मोबिलिटी को प्रोत्साहन के लिए बैटरी अदलाबदली की नीति व्यावहारिक नहीं है। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने यह बात कही। नीति आयोग ने एक रिपोर्ट में कहा है कि इले​क्ट्रिक और साझी-सवारी अपनाने से देश में 2030 तक 60 अरब डॉलर के डीजल व पेट्रोल की बचत तथा एक गीगाटन (एक अरब टन) तक कॉर्बन उत्सर्जन को कम किया जा सकेगा।

इस रिपोर्ट में आयोग ने मानकीकृत, स्मार्ट और अदलाबदली वाली बैटरियों की लीज और प्रति इस्तेमाल भुगतान कारोबारी मॉडल के आधार पर वकालत की है। उद्योग मंडल फिक्की द्वारा आयोजित स्मार्ट मोबिलिटी सम्मेलन को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि देश में बैटरी अदला बदली नीति उचित नहीं होगी क्योंकि यह काफी मुश्किल काम होगा। यह देश में संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कान्त ने इस मुद्दे पर उनसे चर्चा की है।

इसमें उन्होंने सुझाव दिया है कि यह विचार व्यावहारिक नहीं है जिसे रद्द कर दिया जाना चाहिए। मंत्री ने कहा कि दिल्ली और अन्य स्थानों पर प्रदूषण के ऊंचे स्तर को देखते हुए सार्वजनिक परिवहन के लिए इले​क्ट्रिक वाहन तथा जैव इंधन आज समय की जरूरत है और सरकार चार्जिंग ढांचे पर काम कर रही है। उन्होंने जोर देकर कहा कि इस तरह के परिवहन से प्रदूषण पर अंकुश लगाया जा सकेगा। गडकरी ने कहा कि वाहन क्षेत्र की सालाना 22 प्रतिशत की वृद्धि दर को देखते हुए प्रत्येक तीसरे साल राजमार्ग पर एक अतिरिक्त लेन की जरूरत होगी जिसकी लागत 80,000 करोड़ रुपये बैठेगी जो व्यावहारिक नहीं है।

उन्होंने कुछ आंकड़े देते हुए बताया कि उनके संसदीय क्षेत्र नागपुर में 200 इले​क्ट्रिक टैक्सियां पहले ही दौड़ रही हैं और दिसंबर तक 1,000 टैक्सियां और जुड़ेगी। शहर में पहले से 20 चार्जिंग स्टेशन हैं, जिनके तीन प्रकार हैं। एक बैटरी को 15 मिनट में चार्ज किया जा सकता है। मंत्री ने कहा कि लिथियम आयन बैटरियों की लागत को पहले ही 40 प्रतिशत कम किया जा चुका है। लिथियम बैटरी के 12 विनिर्माता हैं। गडकरी राजधानी में सार्वजनिक परिवहन में इले​क्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल के मुद्दे पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ विचार विमर्श करेंगे। एक अनुमान के अनुसार दिल्ली में 10,000 ऐसी बसों की जरूरत है।