BREAKING NEWS

AMU में छात्रों का हंगामा और पथराव: विश्वविद्यालय 5 जनवरी तक के लिए बंद ◾भाजपा सरकार ने पूर्वोत्तर और बंगाल के बाद दिल्ली को भी जलने के लिए छोड़ दिया है : कांग्रेस◾उद्धव ने भाजपा पर निशाना साधने के लिए पीएम मोदी की चायवाले की पृष्ठभूमि याद दिलाई ◾जामिया नगर में हिंसक झड़पें, तनाव बरकरार◾हेटमेयर और होप के शतक, वेस्टइंडीज की दमदार जीत ◾दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन◾केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾नागरिकता कानून का विरोध : दिल्ली में आगजनी, हिंसा : पुलिसकर्मी जख्मी, बसों में आग लगाई◾केजरीवाल ने नागरिकता अधिनियम पर शांति की अपील की ◾TOP 20 NEWS 15 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾नागरिकता कानून वापस लेने के लिए याचिका दायर करेगी BJP की सहयोगी असम गण परिषद◾वीर सावरकर पर बयान देकर मुश्किल में फंसे राहुल, पोते रंजीत ने की कार्रवाई की मांग◾सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾

देश

बैंकों ने जेट एयरवेज को फिर खड़ा करने की कोशिश छोड़ी, मामला दिवाला कार्रवाई के लिए भेजने का फैसला

 773

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की अगुवाई में बैंकों के गठजोड़ ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज को फिर खड़ा करने की अपनी ओर से की जा रही कोशिश छोड़ दी है। बैंकों के गठजोड़ ने ठप पड़ी इस एयरलाइन में फंसे अपने कर्ज के समाधान का मामला दिवाला संहिता के तहत कार्रवाई के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में भेजने का फैसला किया है। बैकों को अब तक के प्रयास में कर्ज में डूबी इस एयरलाइन के पुनरोद्धार के लिए किसी इकाई से कोई पुख्ता प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ है। बैंकों की सोमवार को हुई बैठक में यह फैसला किया गया। 


एसबीआई ने बयान में कहा कि गहन विचार विमर्श के बाद ऋणदाताओं ने फैसला किया है कि दिवाला संहिता के तहत जेट एयरवेज के मामले का निपटान किया जाए। एयरलाइन के लिए सिर्फ एक बोली ही प्राप्त हुई है। उसके साथ भी शर्त जुड़ी है। बयान में कहा गया है कि यह कदम इसलिए जरूरी है क्योंकि संभावित निवेशक सौदे के तहत सेबी के कुछ छूट चाहता है। इस तरह का सौदा दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता के तहत बेहतर तरीके से हो सकता है। 


बैंक ने कहा कि ऋणदाता ठप खड़ी विमानन कंपनी का समधान दिवाला संहिता (आईबीसी) से बाहर निपटाना चाहते थे, लेकिन अब आईबीसी के तहत ही निपटान का फैसला किया गया है। उल्लेखनीय है कि जेट एयरवेज के साथ व्यवसायिक सौदों में उधार देने वाली दो फर्मों शैमन व्हील्स और गग्गर एंटरप्राइजेज ने एयरलाइन के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने के लिए 10 जून को एनसीएलटी में अपील की थी। 


न्यायाधिकरण ने अभी तक इन याचिकाओं को सुनवाई के लिए स्वीकार नहीं किया है। 13 जून को न्यायाधिकरण ने इस मामले की आगे की सुनवाई के लिए 20 जून की तारीख तय की है। एनसीएलटी ने संबंधित पक्षों से जेट एयरवेज को कानूनी नोटिस भेजने को कहा है। 


जेट एयरवेज का परिचालन 17 अप्रैल से बंद है। एयरलाइन पर शामन व्हील्स का 8.74 करोड़ रुपये और गग्गर का 53 करोड़ रुपये का बकाया है। जेट एयरवेज पर एसबीआई की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ का 8,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है। अभी एयरलाइन का परिचालन बैंकों द्वारा ही किया जा रहा है। यही जेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है। एयरलाइन पर उसे माल और सेवाएं देने वालों का 10,000 करोड़ रुपये और कर्मचारियों के वेतन का 3,000 करोड़ रुपये का बकाया है।