BREAKING NEWS

हमें कश्मीर पर भारत के रुख को लेकर कोई शंका नहीं है : रूसी राजदूत◾IND vs AUS : भारत की दमदार वापसी, ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया, सीरीज में बराबरी◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 48 और नामांकन दाखिल◾राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾कश्मीर में शहीद सलारिया का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, दो महीने की बेटी ने दी मुखाग्नि ◾बुलेट ट्रेन परियोजना के लिये भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के खिलाफ याचिकाओं पर न्यायालय करेगा सुनवाई ◾चुनाव में ‘कांग्रेस वाली दिल्ली’ के नारे के साथ प्रचार में उतरी कांग्रेस◾यूपी सीएम योगी ने हिमस्खलन में कुशीनगर के शहीद जवान की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया◾TOP 20 NEWS 17 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾निर्भया के गुनहगारों का नया डेथ वारंट जारी, 1 फरवरी को सुबह 6 बजे होगी फांसी◾दिल्ली चुनाव के लिए BJP ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली सूची◾निर्भया केस : स्मृति ईरानी ने राष्ट्रपति का जताया आभार, केजरीवाल पर साधा निशाना◾CAA के विरोध प्रदर्शन में जामा मस्जिद पहुंचे चंद्रशेखर, समर्थकों के साथ मिलकर पढ़ी संविधान प्रस्तावना◾आरोपी की दया याचिका को पर राष्ट्रपति के फैसले का निर्भया के पिता ने किया स्वागत◾आजम खान के बेटे को सुप्रीम कोर्ट से झटका, हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार◾शिवाजी या इंदिरा का नाम कभी भी सियासी फायदे के लिए नहीं लिया : शिवसेना◾कार्ति चिदंबरम को बड़ी राहत, SC ने विदेश यात्रा के लिए रजिस्ट्री में जमा 20 करोड़ रुपये वापस लेने की दी अनुमति◾निर्भया गैंगरेप : राष्ट्रपति ने खारिज की आरोपी मुकेश की दया याचिका◾DSP देवेंद्र सिंह की गिरफ्तारी को लेकर राहुल का मोदी सरकार पर वार, ट्वीट कर कही ये बात ◾ओवैसी ने CDS पर साधा निशाना, बोले- डी-रेडिकलाइजेशन पर गोरों की भाषा बोल रहे जनरल बिपिन रावत ◾

छेड़खानी के विरोध में BHU छात्राओं का प्रदर्शन जारी , छात्रा ने बताया - कैंपस में लड़के करते हैं अश्लील हरकतें

यू पी के बनारस स्थित हिन्दू विश्वविद्यालय में गुरूवार शाम लड़की के साथ हुई छेड़छाड़ के मामले में छात्रों का विरोध प्रदर्शन थम नहीं रहा है। आपको बता दे कि बीते 2 दिनों से छात्र विश्वविद्यालय के मुख्य गेट के सामने धरना दे रहे हैं। उनकी मांग है कि विश्वविद्यालय के कुलपति गिरीश चंद्र त्रिपाठी कार्रवाई करें। हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन ने कहा कि ये आंदोलन राजनीति से प्रेरित है। दूसरी ओर छात्राओं ने जानकारी दी कि गुरुवार को BHU में भारत कला भवन के पास छात्रा के साथ बाइक सवार लड़कों ने छेड़खानी की।

\"\"

बता दे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तरफ जहां बेटी बचाओं और बेटी पढ़ाओं की बात करते है वहीं दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पढ़ने वाली छात्राएं ही खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहीं हैं । जिसको लेकर BHU की छात्राएं सड़क पर उतर आई हैं।

BHU की एक छात्रा के साथ हुए छेड़खानी के विरोध में धरना दे रही हैं मगर ये छेड़खानी की घटना BHU में नया नही हैं और न ही एक छात्रा के साथ की है। छात्राओं का कहना है कि ये एक घटना नहीं है बल्कि यहाँ आए दिन लड़कियों के साथ छेड़खानी की घटना होती ही रहती है। वहीं एक छात्रा ने तो इससे तांग आकर अपना सिर तक मुंडवा लिया ताकि उसे कोई लड़का नही छेड़े। आट्र्स फैकल्टी की छात्रा आकांक्षा सिंह जिसके साथ एक महीने पहले छेड़खानी की घटना हुई थी उसने शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नही हुई जिससे तांग आकर उसने अपना सर तक मुंडवा दिया।

\"\"

बता दे कि BHU के त्रिवेणी संकुल में रहने वाली छात्रा शाम के समय कहीं से वापस हॉस्टल लौट रही थी। उसी दौरान भारत कला भवन के पास कुछ युवकों ने छेडख़ानी की। जब छात्रा ने विरोध किया तो वह लोग अपशब्द बोलते हुए भाग निकले। इस पर छात्रा ने कुछ दूरी पर मौजूद प्रॉक्टरकर्मियों से नाराजगी जताई लेकिन उनकी शिकायत को अनसुना कर समझा बुझाकर लौटा दिया गया। नाराज छात्रा ने जब रात्रि में अन्य साथियों को इसकी जानकारी दी तो वह सभी उबाल में आ गए।

कल मध्य रात करीब 12 बजे संकुल गेट पर प्रदर्शन शुरू हो गया। इसकी भनक लगते ही प्रॉक्टोरियल बोर्ड के अलावा हॉस्टल के वार्डेन सहित BHU के तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे। छात्रओं को मनाने का भरपूर प्रयास होता रहा लेकिन वह सब मानने को तैयार नहीं हुई। छात्राओं का कहना था कि आए दिन घटनाएं हो रही हैं लेकिन बीएचयू प्रशासन मौन धारण किया हुआ है। दूसरी ओर नवीन महिला हास्टल की छात्रओं के साथ अश्लील हरकत का मामला सामने आया है।

\"\"

छात्राओं का आरोप है कि रात BHU कैंपस में भारत कला भवन के पास ऑर्ट्स फैकेल्टी की छात्रा के साथ तीन लड़कों ने उसके साथ छेड़खानी की । शोर मचाने पर भी 20 मीटर दूर खड़े सुरक्षा गार्ड्स ने कोई मदद नहीं की। पीड़ित लड़की ने हॉस्टल आकर वार्डेन से शिकायत की। इसके साथ ही उसने चीफ प्रॉक्टर को भी उसकी सूचना दी। छात्राओं का आरोप है कि जब उनसे शिकायत की गई तो उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का दौरा है। अभी आप सभी लोग शांत रहिए।

वहीं छात्राओं ने मामले में लिखित शिकायत भी की है। चीफ प्रोटेक्टर को लिखे पत्र में कहा गया है छात्राओं को आए दिन अनेक सुरक्षा संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। छात्रावास आने-जाने का मार्ग भी सुरक्षित नहीं है। आए दिन छेड़खानी होती रहती हैं। यहां तक अंतर्राष्ट्रीय छात्राओं को भी ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लड़के छात्रावास के बाहर आकर आपत्तिजनक हरकतें करते हैं। वो हस्तमैथुन करते हैं। पत्थर फेंकते हैं। छात्राओं के खिलाफ आपत्तिनजक शब्द बोलते हुए निकलते हैं। ये लेटर वायरल हो रहा है। जिसमें ऐसा कहा गया है। हालांकि, प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं हो पाई है।

आपको बता दे कि जिस तरह से इन छात्राओं ने प्रदर्शन किया उससे ज़िला प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं और धरना स्थल पर भारी फोर्स को तैनात कर दिया गया। इन छात्राओं का आरोप है इनके साथ कैंपस में लगातार छेड़खानी होती है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती. इन छात्राओं का आरोप है कि इसमें प्राक्टोरियल बोर्ड के लोग भी शामिल हैं जिसकी वजह से कोई कार्रवाई नहीं होती है।