BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾विपक्ष के 9 नेताओं के साथ राहुल गांधी कल करेंगे कश्मीर का दौरा ◾TOP 20 NEWS 23 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अर्थव्यवस्था की बिगड़ी हालत पर निर्मला सीतारमण बोली- भारत की आर्थिक स्थिति बेहतर◾सरकार के आर्थिक सलाहकारों ने भी माना कि संकट में है अर्थव्यवस्था : राहुल गांधी◾पेरिस में PM मोदी का संबोधन, बोले-हिंदुस्तान में अब टेंपरेरी के लिए व्यवस्था नहीं◾ईडी मामले में चिदंबरम को मिली राहत, 26 अगस्त तक नहीं होगी गिरफ्तारी◾एफएटीएफ के एशिया प्रशांत समूह ने पाकिस्तान को काली सूची में डाला◾पश्चिम बंगाल : मंदिर में दीवार गिरने से मची भगदड़ में 4 की मौत, ममता बनर्जी ने किया मुआवजा का ऐलान◾मनमोहन सिंह ने राज्यसभा सदस्य के रूप में ली शपथ◾दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ चिदंबरम की याचिका पर सोमवार को सुनवाई करेगा SC◾SC ने ट्रिपल तलाक को चुनौती देने वाली याचिका पर केंद्र सरकार को जारी किया नोटिस ◾कपिल सिब्बल बोले- अर्थव्यवस्था और नागरिकों की आजादी के मकसद को प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत◾जयराम रमेश के बाद बोले सिंघवी- मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत◾जानिए कैसे हुआ आईएनएक्स मीडिया मामले का खुलासा !◾प्रह्लाद जोशी बोले- यदि चिदंबरम बेकसूर हैं तो कांग्रेस को नहीं करनी चाहिए चिंता◾

देश

CAPF अधिकारियों ने गृह मंत्री को लिखा पत्र, अपने साथ हो रहे भेदभाव को खत्म करने की मांग की

सीएपीएफ के कई अधिकारियों ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा है और अपने सेवा लाभों को प्राप्त करने में आईपीएस अधिकारियों द्वारा किये जाने वाले कथित भेदभाव को खत्म करने के लिए उनसे हस्तक्षेप करने की मांग की है। 

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के अधिकारियों ने एक सोशल मीडिया अभियान शुरू कर कहा है कि उच्चतम न्यायालय के एक हालिया आदेश और केंद्रीय कैबिनेट से इसे मंजूरी मिलने के बावजूद उनका मुख्यालय उन्हें संगठित सेवा लाभ प्रदान करने की प्रक्रिया में बाधा डाल रहा है। साथ ही, भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारियों की संख्या घटा कर निगरानी स्तर पर अधिक पदों को आवंटित करने में भी अवरोध पैदा किया जा रहा है। 


पत्र में सीएपीएफ अधिकारियों ने वांछित कार्रवाई के लिए उनसे हस्तक्षेप करने की मांग की है, ताकि उनके भर्ती नियम में संशोधन हो और एक संगठित केंद्रीय सेवा के लिए वैधता की तर्ज पर एक नयी कैडर समीक्षा हो। नये भर्ती नियमों को बनाए जाने से इन अधिकारियों को निगरानी रैंक में अधिक पद प्राप्त होंगे, जिसे अभी मुख्य रूप से आईपीएस अधिकारी देखते हैं। 

सीआरपीएफ कैडर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "अधिकारियों ने मंत्री से अनुरोध किया है कि हाल ही में घोषित उनके वाजिब सेवा लाभ उसी तरह से सुनिश्चित किया जाए, जिस तरह से अनुच्छेद 370 पर एक साहसिक फैसले की घोषणा का क्रियान्वयन किया गया।" 

उन्होंने कहा कि अधिकारी शाह को सीधे पत्र लिख रहे हैं क्योंकि केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी के बावजूद इन बलों के मुख्यालय उन्हें पूर्ण लाभ प्रदान करने वाली कार्यवाही को या तो धीमी गति से कर रहे हैं या उन्हें पूरा करने को अनिच्छुक हैं। दरअसल, यह प्रतिनियुक्ति पर इन बलों में शामिल होने वाले आईपीएस अधिकारियों की करियर संभावनाओं को प्रभावित करेगा। 

वहीं, सीएपीएफ में कैडर अधिकारियों के लिए इन कार्यवाहियों को देख रहे एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने उनकी दलीलों का खंडन करते हुए कहा कि भर्ती नियमों की समीक्षा फौरन नहीं की जा सकती क्योंकि कुछ स्पष्टीकरण अपीलें उच्चतम न्यायालय में लंबित हैं। 

उन्होंने कहा, "आईपीएस एक केंद्रीय सेवा है और उसका एक अखिल भारतीय सेवा स्वरूप है। इसे केंद्रीय सेवाओं में उनकी कैडर क्षमता के मुताबिक पर्याप्त प्रतिनिधित्व दिए जाने की जरूरत है।" आईपीएस अधिकारी ने कहा, "हालांकि, यह सुनिश्चित करना सभी सीएपीएफ की गंभीर कोशिश है कि कैडर अधिकारियों को उनका हक उच्चतम न्यायालय के आदेश और सरकार की हालिया अधिसूचना के मुताबिक मिले।"

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के कुछ अधिकारियों ने रिट याचिका के साथ शीर्ष न्यायालय का रूख कर नयी कैडर समीक्षा का आदेश देने के लिए निर्देश देने की मांग की, ताकि वे उप महानिरीक्षक (डीआईजी) रैंक से अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी) रैंक तक के पद प्राप्त कर सकें। 

गृह मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि अन्य बलों में कैडर अधिकारियों और आईपीएस अधिकारियों के बीच इसी तरह के गतिरोध देखने को मिले हैं। उन्होंने कहा, "हम इन घटनाक्रमों से अवगत हैं और इन्हें ठीक करने की कार्रवाई की जाएगी।" 

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने तीन जुलाई को घोषणा की थी कि सीआरपीएफ, सीआईएसएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी और एसएसबी जैसे बलों के कैडर अधिकारियों को ‘नॉन फंक्शनल फिनांशियल अपग्रेडेशन’ दिया जाएगा और उन्हें एक संगठित ग्रुप ए सेवा के रूप में श्रेणीबद्ध किया जाएगा। यह फैसला कैडर अधिकारियों द्वारा शुरू की गई दशक भर लंबी कानूनी लड़ाई के बाद आया। 

दरअसल, वे एक समान स्तर की मांग कर रहे थे। साथ ही, अपने सीनियर रैंक में आईपीएस अधिकारियों के वर्चस्व को खत्म करने की मांग कर रहे थे। नये आदेश से करीब 11,000 सेवारत कैडर अधिकारियों को लाभ होगा। साथ ही, पांचों सीएपीएफ से 2006 से सेवानिवृत्त होने वाले इस कैडर के सैकड़ों अधिकारियों को भी लाभ मिलेगा।