BREAKING NEWS

पीड़ित बुजुर्ग का बड़ा बयान, कहा- ताबीज की बात झूठी है ,मुझसे जय श्रीराम' के नारे लगवाए गए◾ LJP में फूट पर चिराग पासवान के तर्क को पशुपति कुमार पारस ने दी चुनौती◾अयोध्या में कथित भूमि घोटाले को लेकर AAP नेता संजय सिंह करेंगे कोर्ट का रुख◾बाइडन और पुतिन अपने राजदूतों को वापस उनके पदों पर भेजने के लिए सहमत ◾सोनिया गांधी ने ली कोविड-19 टीके की दोनों खुराकें, संक्रमित होने के चलते राहुल को टीकाकरण में देरी हुई◾मौर्य ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा - रामभक्तों के खून से होली खेलने वाले मंदिर पर जनता को कर रहे गुमराह◾आगामी विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा, यह भाजपा नेतृत्व करेगा तय : केशव प्रसाद मौर्य ◾उत्तर प्रदेश : बीते 24 घंटे में सिर्फ 310 कोरोना केस मिले, संक्रमण से 50 और लोगों की मौत◾PNB घोटाला : CBI ने मेहुल चोकसी के खिलाफ दायर की नई चार्जशीट, सबूतों से हेराफेरी के लगे आरोप◾राहुल के आरोपों पर हर्षवर्धन का पलटवार, कहा- उनके ज्ञान के सामने तो आर्यभट्ट व अरस्तु जैसे विद्वान भी नतमस्तक◾धनकड़ के दिल्ली दौरे पर TMC का तंज - 'अंकल जी, हम पर एक एहसान करें ,बंगाल वापस न आएं' ◾जेनेवा समिट में बाइडन और पुतिन ने की मुलाकात, हाथ मिलाकर रिश्ते बेहतर करने के दिए संकेत◾कोविड-19 : फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए PM मोदी की सौगात, 18 जून को लॉन्च करेंगे कस्टमाइज्ड क्रैश कोर्स◾VivaTech सम्मेलन में बोले PM-महामारी से प्रभावित स्वास्थ्य सुविधाओं और अर्थव्यवस्था को दुरूस्त करने की जरूरत◾ब्लू इकोनॉमी को मजबूत करने के लिए मोदी कैबिनेट ने 'डीप सी मिशन' को दी मंजूरी ◾6 साल के बच्चे को कोविड से बचाने के लिए मां-बाप ने लिया ऐसा फैसला कि पीएम मोदी भी हो गए भावुक ◾पंजाब कांग्रेस में घमासान जारी, अमरिंदर सिंह के साथ काम करने को तैयार नहीं सिद्धू, ठुकराया डिप्टी सीएम का पद◾चिराग पासवान बोले- शेर का बेटा हूं, लंबी लड़ाई के लिए तैयार, लंबे वक्त से पार्टी तोड़ने की कोशिश में JDU ◾दिल्ली में कोरोना वायरस के 212 नए मामले, 25 लोगों की मौत, संक्रमण दर 0.27 फीसदी◾गांधी परिवार और कांग्रेस कर रहे हैं महापाप, खुद टीका लगवाया नहीं और फैला रहे हैं भ्रम : संबित पात्रा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कीमत पर लगाम लगाने के लिए फॉर्मूला बनाए केंद्र सरकार : दिल्ली HC

कोविड-19 के इलाज के लिए भारी मांग की वजह से बहुत ज्यादा कीमतों पर ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर बेचे जाने के बीच दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को केंद्र से पूछा कि वह इनकी एमआरपी (अधिकतम खुदरा मूल्य) तय करने के लिए कोई तरीका क्यों निर्धारित नहीं कर सकती।

अदालत ने कहा कि वह सरकार से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की कीमत रुपए या पैसे में तय करने के लिए नहीं कह रही बल्कि एक सिद्धांत तय करने के लिए कह रही हैं जिसके आधार पर इस उपकरण के लिए पैसे लिए जाएंगे। अदालत ने साथ ही कहा कि अगर केंद्र को लगता है कि यह कोई असाधारण परिस्थिति नहीं है जिसमें उसे हस्तक्षेप करना चाहिए तो असाधारण परिस्थिति क्या होगी।

उच्च न्यायालय ने कहा कि उत्पाद की कीमत की एक सीमा तय होनी चाहिए और यह असीमित नहीं हो सकता। कल को कोई चीनी विनिर्माता कहेगा कि वह इसे पांच गुना कीमत पर बेचेगा तो हम उसकी तो मंजूरी नहीं दे सकते।

न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह की एक पीठ ने कहा, सरकार होने के नाते यह आपकी जिम्मेदारी है कि लोग उत्पाद खरीदने में सक्षम हों और उन्हें बहुत ज्यादा कीमत पर इसे खरीदना न पड़े। हम लोगों को ऐसे ही नहीं छोड़ सकते। किसी उत्पाद की कमी का फायदा नहीं उठाया जा सकता। क्या आपको उपभोक्ताओं के बारे में नहीं सोचना चाहिए? पीठ ने सवाल किया कि सरकार कीमत तय करने के लिए कोई तरीका क्यों नहीं ला सकती।

उसने यह भी कहा कि सरकार यह कहकर अपना पल्ला नहीं झाड़ सकती कि मांग ज्यादा है तथा आपूर्ति कम है और सब कुछ तेजी से बदल रहा है इसलिए वह कुछ नहीं कर सकती। पीठ ने उत्पाद की अंतिम कीमत के साथ शुल्क (जीएसटी) और 15 प्रतिशत मुनाफे का अंतर जोड़ते हुए कोई तरीका तय करने का सुझाव देते हुए कहा, यह कोई जवाब नहीं है। आपको इसे (समस्या को) ठीक करना होगा।

अदालत ने कहा कि केवल मांग एवं आपूर्ति का मानदंड नहीं हो सकता और सरकार को हस्तक्षेप करना होगा तथा कीमत की सीमा तय करनी होगी। सरकार अपना पल्ला नहीं झाड़ सकती और यह नहीं कह सकती है कीमत तय नहीं की जा सकती।

केंद्र सरकार की तरफ से पेश हुए वकीलों - कीर्तिमान सिंह और अमित महाजन ने कहा कि अंतिम मूल्य का निर्धारण आखिर में निर्यातक करते हैं और सरकार के लिए कीमत तय करना संभव नहीं है क्योंकि बाजार में अलग-अलग कीमतों, आकारों और नामों के साथ अलग-अलग कंसन्ट्रेटर बेचे जा रहे हैं। दोनों वकीलों ने मामले को लेकर और निर्देश हासिल करने के लिए थोड़ा और समय देने का आग्रह किया। इसके बाद अदालत ने मामले की अगली सुनवाई के लिये 19 मई की तारीख मुकर्रर की।

अदालत दिल्ली निवासी मनीषा चौहान द्वारा ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की कीमत तय करने से जुड़ी याचिका पर सुनवाई कर रही है। याचिका में यह भी आग्रह किया गया है कि विशेष फास्ट ट्रैक अदालतों में इस तरह के मामलों से निपटने के लिए विशेष जन अभियोजन नियुक्त किए जाएं।

चौहान की तरफ से पेश हुए वकीलों - संजीव सागर और नाजिया परवीन ने अदालत से कहा था कि कोविड के इलाज से जुड़ी दवाओं और उपकरणों को आवश्यक वस्तु घोषित करने संबंधी अधिसूचना न होने की वजह से इन चीजों की जमाखोरी और कालाबाजारी की जा रही है।