BREAKING NEWS

Maharashtra: अग्नि परीक्षा में सफल हुए शिंदे, 164 विधायकों के समर्थन के साथ पास किया फ्लोर टेस्ट ◾गर्मी में राहत.. डेंगू-मलेरिया ने बढ़ाई आफत, मच्छर ब्रीडिंग पाए जाने पर लगेगा दोगुना जुर्माना, जानें नई दरें? ◾हिमाचल प्रदेश : कुल्लू में खाई में गिरी बस, स्कूली बच्चों समेत 16 की मौत◾Corona Update : नहीं थम रही कोरोना संक्रमण की रफ्तार, एक्टिव केस 1 लाख 13 हजार के पार◾ शिवसेना को बड़ा झटका, अजय चौधरी की ग्रुप लीडर के रूप में नियुक्ति रद्द ◾फ्लोर टेस्ट से पहले बोले NCP प्रमुख पवार, '6 महीने में ही गिरेगी शिंदे-बीजेपी की सरकार'◾आज का राशिफल ( 04 जुलाई 2022)◾ Lalu Yadav: सीढ़ी से गिरे RJD सुप्रीमो लालू यादव, कंधे की हड्डी टूटी , राबड़ी आवास में हुआ हादसा◾maharashtra News: महाराष्ट्र में नहीं थम रहा कोरोना का कहर! सामने आये डराने वाले मामले◾ तेलंगाना : विजय संकल्प सभा में बोले पीएम मोदी राज्य में डबल इंजन की सरकार बनेगी तो विकास को शिखर पर ले जांएगे ◾IND vs ENG 5th Test Day: 284 रनों पर सिमटी इंग्लैंड, भारत को 132 रनों की बढ़त◾ अमरावती : उमेश कोल्हे हत्याकांड के मुख्य षडयंत्रकर्ता’ के एनजीओ की जांच कर रही पुलिस◾ ENG vs IND: टी20 सीरीज खेलने के लिए तैयार हिटमैन शर्मा, कोविड जांच में नेगेटिव आने के बाद आए आइसोलेशन से बाहर◾टीम इंडिया वह है जो मिलकर चुनौतियों का सामना करती, धर्म से विपरीत......, बोले राहुल गांधी ◾ Amravati Murder Case: अमरावती हत्याकांड पर देवेंद्र फडणवीस ने दिया बयान, बोले- विदेशी ताकतें देश में तनाव...◾केमिस्ट हत्याकांड में जांच अभी औपचारिक रूप से एनआईए ने अपने हाथ में नहीं ली है : पुलिस◾ Gujarat: BJP नेता को जान से मारने की धमकी मिलने के बाद मिली सुरक्षा◾PM मोदी ने विपक्षी दलों पर साधा निशाना, कहा- वंशवादी राजनीति से ऊबा देश.. अब टिकना बेहद मुश्किल! ◾Asaduddin Owaisi: कांग्रेस के आरोपों पर ओवैसी का पलटवार... BJP पर भी उठाये सवाल, जानें क्या कहा ◾ अधिकारी का दावा : आतंकियों में शामिल होने वाले 64 प्रतिशत कट्टरपंथी आतंकी युवा सालभर में ही जहन्नुम पहुंचे ◾

केंद्र सरकार ने रबी फसलों के एमएसपी में की वृद्धि, किसान जहां चाहें अपने उत्पाद बेच सकेंगे : नरेंद्र तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को लोकसभा में यह जानकारी दी कि सरकार ने गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 50 रुपये प्रति कुंटल बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति कुंटल कर दिया है। तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति (सीसीईए) की बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया। 

कृषि मंत्री ने कहा, ‘‘न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी), कृषि उत्पाद बाजार समिति (एपीएमसी) की व्यवस्था बनी रहेगी, सरकारी खरीद होती रहेगी और इसके साथ किसान जहां चाहें अपने उत्पाद बेच सकेंगे।’’ 

कृषि मंत्री की यह घोषणा ऐसे समय में सामने आई है जब रविवार को संसद में पारित कृषि संबंधी दो विधेयकों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा और देश के कुछ अन्य स्थानों पर किसान समूत विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। संसद ने रविवार को कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दे दी। 

तोमर ने कहा कि सीसीईए ने छह रबी फसलों के एमएसपी में वृद्धि करने को मंजूरी प्रदान की है। गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 50 रुपये प्रति कुंटल बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति कुंटल कर दिया गया है। कांग्रेस के कुछ सदस्य इस पर कृषि मंत्री से स्पष्टीकरण चाह रहे थे लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने इसकी अनुमति नहीं दी।  

MSP पर PM मोदी ने एक बार फिर दोहराई अपनी बात, कृषि मंडियों में पहले की तरह होता रहेगा काम

तोमर ने कहा कि रबी की बुवाई के पहले ही सरकार ने गेहूं की एमएसपी 50 रुपए बढ़ कर 1975 रुपए प्रति कि्वंटल, चना की एमएसपी 225 रुपए बढ़ कर 5100 रुपए प्रति कि्वंटल, मसूर की एमएसपी 300 रुपए बढ़ कर 5100 रुपए प्रति कि्वंटल, सरसों की एमएसपी 225 रुपए बढ़कर 4650 रुपए प्रति कि्वंटल, जौ की एमएसपी 75 रुपए बढ़कर 1600 रुपए प्रति कि्वंटल तथा कुसुम्भ की एमएसपी 112 रुपए बढ़ कर 5327 रुपए प्रति कि्वंटल किया गया है। 

उन्होंने कहा कि वर्ष 2013-14 में मसूर की एमएसपी 2950 रुपए प्रति कि्वंटल थी जो अब 73 प्रतिशत अधिक हो गयी है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2009-14 के बीच सरकार ने 1.52 लाख टन दालों की खरीद की थी जो 2014-19 के दौरान 76.85 लाख टन हो गयी जो 4962 प्रतिशत अधिक रही। मोदी सरकार ने सात लाख करोड़ रुपए एमएसपी के मद में भुगतान किये जबकि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन के शासनकाल में एमएसपी के मद में इससे आधी राशि का भुगतान किया गया था। 

तोमर ने कहा कि वह सदन में सभी सदस्यों से कहना चाहते हैं कि कृषि सुधार को लेकर दो विधेयकों के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बार बार कहा था कि कृषि उपज वाणिज्य समिति और एमएसपी की व्यवस्था पूर्ववत रहेगी। आज के फैसले से मोदी ने प्रमाणित कर दिया है कि ये दोनों व्यवस्थाएं चलेंगी। किसान मंडी में एमएसपी पर फसल बेच सकता है और अगर बाहर मूल्य अधिक मिलेगा तो उसे किसी भी स्थान पर किसी भी व्यक्ति को किसी भी दाम पर बेच सकेगा। 

उन्होंने कहा कि सरकार इस समय रबी एवं खरीफ की 22 फसलों की एमएसपी तय करती है और दो साल पहले उसने स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों के अनुरूप उत्पादन लागत का 50 प्रतिशत मुनाफा लगा कर एमएसपी घोषित करना शुरू किया है।

राहुल का वार- देश की बदहाली के लिए खुद के कुशासन को दोषी नहीं ठहराती मोदी सरकार