BREAKING NEWS

IPL-13 : 2 बार की चैंपियन KKR का सामना 3 बार की चैंपियन CSK के साथ, जानिए दोनों संभावित टीमें ◾तेजस्वी यादव का PM मोदी को जवाब, कहा- वो देश के प्रधानमंत्री हैं, कुछ भी बोल सकते हैं◾अभिनंदन की रिहाई पर PAK के खुलासे के बाद नड्डा का राहुल पर वार, शहजादे भरोसेमंद देश की ही सुन लें◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾बीएसपी ने 7 बागी विधायकों को किया निलंबित, मायावती बोलीं-सपा को हराने ले लिए BJP को भी दे सकते हैं वोट◾गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन, CM विजय रुपाणी ने दुख व्यक्त किया◾कांपते पैर, माथे पर पसीना, हमले का डर.....अभिनंदन की रिहाई पर पाकिस्तान का सच◾10 नवंबर के बाद CM नीतीश अपने पद को नहीं रख पाएंगे बरकरार, बनेगी BJP-LJP की सरकार : चिराग◾टेरर फंडिंग मामले में श्रीनगर और दिल्ली में 9 स्थानों पर NIA की छापेमारी◾देश में कोरोना के 49,881 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 80 लाख के पार ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता का स्तर ‘गंभीर स्थिति’ की श्रेणी में दर्ज, छायी प्रदूषण की चादर ◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 4 करोड़ 44 लाख के पार◾Bihar Election : दूसरे, तीसरे चरण में और ताकत झोंकेगी BJP, घर-घर जाकर प्रचार के लिए बनाई जा रही रणनीति ◾आज का राशिफल ( 29 अक्टूबर 2020 )◾महामारी के बीच चुनाव आयोग ने ‘अपने भरोसे के दम’ पर बिहार चुनाव कराया : EC◾भारत ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों पर व्यक्तिगत हमलों की कड़ी निंदा की ◾MI vs RCB : मुंबई इंडियंस ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को 5 विकेट से हराया◾ED ने सोना तस्करी मामले में निलंबित IAS शिवशंकर को किया गिरफ्तार◾PM का पुतला जलाये जाने वाले बयान पर भाजपा ने बताया राहुल की 'राजनीतिक औकात' ◾केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को हुआ कोरोना, ट्वीट कर दी जानकारी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्र सरकार ने रबी फसलों के एमएसपी में की वृद्धि, किसान जहां चाहें अपने उत्पाद बेच सकेंगे : नरेंद्र तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को लोकसभा में यह जानकारी दी कि सरकार ने गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 50 रुपये प्रति कुंटल बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति कुंटल कर दिया है। तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति (सीसीईए) की बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया। 

कृषि मंत्री ने कहा, ‘‘न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी), कृषि उत्पाद बाजार समिति (एपीएमसी) की व्यवस्था बनी रहेगी, सरकारी खरीद होती रहेगी और इसके साथ किसान जहां चाहें अपने उत्पाद बेच सकेंगे।’’ 

कृषि मंत्री की यह घोषणा ऐसे समय में सामने आई है जब रविवार को संसद में पारित कृषि संबंधी दो विधेयकों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा और देश के कुछ अन्य स्थानों पर किसान समूत विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। संसद ने रविवार को कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दे दी। 

तोमर ने कहा कि सीसीईए ने छह रबी फसलों के एमएसपी में वृद्धि करने को मंजूरी प्रदान की है। गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 50 रुपये प्रति कुंटल बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति कुंटल कर दिया गया है। कांग्रेस के कुछ सदस्य इस पर कृषि मंत्री से स्पष्टीकरण चाह रहे थे लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने इसकी अनुमति नहीं दी।  

MSP पर PM मोदी ने एक बार फिर दोहराई अपनी बात, कृषि मंडियों में पहले की तरह होता रहेगा काम

तोमर ने कहा कि रबी की बुवाई के पहले ही सरकार ने गेहूं की एमएसपी 50 रुपए बढ़ कर 1975 रुपए प्रति कि्वंटल, चना की एमएसपी 225 रुपए बढ़ कर 5100 रुपए प्रति कि्वंटल, मसूर की एमएसपी 300 रुपए बढ़ कर 5100 रुपए प्रति कि्वंटल, सरसों की एमएसपी 225 रुपए बढ़कर 4650 रुपए प्रति कि्वंटल, जौ की एमएसपी 75 रुपए बढ़कर 1600 रुपए प्रति कि्वंटल तथा कुसुम्भ की एमएसपी 112 रुपए बढ़ कर 5327 रुपए प्रति कि्वंटल किया गया है। 

उन्होंने कहा कि वर्ष 2013-14 में मसूर की एमएसपी 2950 रुपए प्रति कि्वंटल थी जो अब 73 प्रतिशत अधिक हो गयी है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2009-14 के बीच सरकार ने 1.52 लाख टन दालों की खरीद की थी जो 2014-19 के दौरान 76.85 लाख टन हो गयी जो 4962 प्रतिशत अधिक रही। मोदी सरकार ने सात लाख करोड़ रुपए एमएसपी के मद में भुगतान किये जबकि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन के शासनकाल में एमएसपी के मद में इससे आधी राशि का भुगतान किया गया था। 

तोमर ने कहा कि वह सदन में सभी सदस्यों से कहना चाहते हैं कि कृषि सुधार को लेकर दो विधेयकों के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बार बार कहा था कि कृषि उपज वाणिज्य समिति और एमएसपी की व्यवस्था पूर्ववत रहेगी। आज के फैसले से मोदी ने प्रमाणित कर दिया है कि ये दोनों व्यवस्थाएं चलेंगी। किसान मंडी में एमएसपी पर फसल बेच सकता है और अगर बाहर मूल्य अधिक मिलेगा तो उसे किसी भी स्थान पर किसी भी व्यक्ति को किसी भी दाम पर बेच सकेगा। 

उन्होंने कहा कि सरकार इस समय रबी एवं खरीफ की 22 फसलों की एमएसपी तय करती है और दो साल पहले उसने स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों के अनुरूप उत्पादन लागत का 50 प्रतिशत मुनाफा लगा कर एमएसपी घोषित करना शुरू किया है।

राहुल का वार- देश की बदहाली के लिए खुद के कुशासन को दोषी नहीं ठहराती मोदी सरकार