BREAKING NEWS

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का किया ऐलान◾बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमला : भाजपा नेता दिलीप घोष हसीना पर नरम, ममता पर गरम◾केंद्र को भाजपा में सही सोचने वाले लोगों की सुननी चाहिए: किसान नेताओं ने कहा◾भारत-पाक टी-20 को लेकर 'AAP' ने की मांग, कहा- कश्मीर में नागरिकों की हत्या को देखते हुए रद्द हो मैच ◾लखीमपुर हिंसा मामले में SIT का नया पैंतरा, छह तस्वीरें जारी कर कहा- पहचान बताने वाले को देंगे इनाम◾पाकिस्तान सेना का दावा- भारत की पनडुब्बी को अपने समुद्री क्षेत्र में घुसने से रोका! जारी की वीडियो फुटेज ◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: कृषि मंत्री की वायरल फोटो पर मचा बवाल, तोमर के साथ दिखे निहंग अमनदीप सिंह◾बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमले दोनों देशों के रिश्तों को कमजोर करने की साजिश: CM बिप्लब देब◾बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने गृह मंत्री से कहा-हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ जल्द करे कार्रवाई◾घोषणाओं के बजाय प्रतिज्ञा को तरजीह देगी कांग्रेस, UP की राजनीति महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़ी : सुप्रिया श्रीनेत ◾प्रियंका के महिलाओं को टिकट देने के ऐलान को मायावती ने बताया कांग्रेस की कोरी चुनावी नाटकबाजी◾बंगाल उपचुनाव : BJP उम्मीदवार के साथ धक्का-मुक्की, कहा- प्रचार से रोकने के TMC ने की ऐसी हरकत◾पाकिस्तान की उम्मीदें एक बार फिर होंगी तार-तार! FATF की ग्रे सूची में बने रहने की संभावना◾चुनाव प्रचार के दौरान मछली मारते नजर आए तेजस्वी, RJD ने CM नीतीश पर कसा तंज ◾हिंदी ना आने पर भिड़े कस्टमर और जोमैटो का कर्मचारी, विवाद बढ़ने पर कंपनी को मांगनी पड़ी माफी ◾उत्तराखंड में भारी बारिश से मची तबाही, मरने वालों की संख्या 11 हुई, कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका◾कश्मीर में बढ़ रही हिंसा पर बोले राहुल गांधी-मोदी सरकार सुरक्षा देने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुई◾प्रियंका गांधी ने किया बड़ा ऐलान- यूपी चुनाव में कांग्रेस 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देगी◾'टारगेट किलिंग' से बढ़ते भय के बीच अमित शाह ने PM मोदी से की मुलाकात, आंतरिक सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर की चर्चा ◾सेना प्रमुख नरवणे ने LOC के अग्रिम इलाकों का किया दौरा,घुसपैठ रोधी अभियानों की दी गयी जानकारी◾

नायडू के अरुणाचल दौरे से तिलमिलाया चीन, केंद्र ने दिया करारा जवाब- यह राज्य भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा

भारत-चीन के मध्य पिछले काफी समय से सीमा विवाद एक गंभीर मुद्दा बना हुआ है। ऐसे में यह विवाद सुलझने के बजाय और बिगड़ रहा है। देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की अरुणाचल प्रदेश की हालिया यात्रा पर सवाल उठाने के लिए भारत ने बुधवार को चीन पर निशाना साधते हुए कहा कि यह राज्य भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है।

उपराष्ट्रपति नायडू ने 9 अक्टूबर को किया था अरुणाचल का दौरा 

नायडू ने 9 अक्टूबर को अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया और राज्य विधानसभा के एक विशेष सत्र को संबोधित किया। बीजिंग में, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा कि चीन ने कभी भी इस राज्य को मान्यता नहीं दी है।
झाओ ने कहा, सीमा मुद्दे पर चीन की स्थिति सुसंगत और स्पष्ट है। चीनी सरकार ने कभी भी भारतीय पक्ष द्वारा एकतरफा और अवैध रूप से स्थापित तथाकथित अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी है और संबंधित क्षेत्र में भारतीय नेता की यात्रा का कड़ा विरोध किया है।

चीन को भारत का तीखा जवाब-

लिजियन की टिप्पणियों के बारे में मीडिया के एक सवाल के जवाब में भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, हमने चीनी आधिकारिक प्रवक्ता द्वारा आज की गई टिप्पणियों को नोट किया है। हम ऐसी टिप्पणियों को अस्वीकार करते हैं। अरुणाचल प्रदेश भारत का एक अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है।

उन्होंने कहा, भारतीय नेता नियमित रूप से अरुणाचल प्रदेश राज्य की यात्रा करते हैं, जैसे वे देश के किसी अन्य राज्य में करते हैं। भारतीय नेताओं की भारत यात्रा पर आपत्ति करना भारतीय लोगों के तर्क और समझ के लायक नहीं है।

यह द्विपक्षीय समझौते का उल्लंघन

बागची ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर वर्तमान स्थिति के बारे में बात करते हुए आगे कहा कि भारत-चीन सीमा क्षेत्रों के पश्चिमी इलाके में एलएसी के साथ मौजूदा स्थिति चीनी पक्ष द्वारा यथास्थिति को बदलने का एकतरफा प्रयास द्विपक्षीय समझौते का उल्लंघन है।

राजनाथ के बचाव में उतरे संजय राउत, बोले- वीर सावरकर ने अंग्रेजों से कभी नहीं मांगी माफी

उन्होंने कहा, इसलिए, हम उम्मीद करते हैं कि चीनी पक्ष असंबंधित मुद्दों को जोड़ने की कोशिश करने के बजाय द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करते हुए पूर्वी लद्दाख में एलएसी के साथ शेष मुद्दों के जल्द समाधान की दिशा में काम करेगा।

भारत और चीन के मध्य सीमा विवाद 

भारत और चीन के बीच पिछले 17 महीने से सीमा विवाद चल रहा है। पिछले हफ्ते, सीमा विवाद को खत्म करने के लिए भारत और चीन की सैन्य वार्ता के परिणामस्वरूप शेष विवादित क्षेत्रों का समाधान नहीं हुआ और चीन भारतीय प्रतिनिधिमंडल के दिए 'रचनात्मक सुझावों' से सहमत नहीं था।

इसके अलावा, चीनी प्रतिनिधि भी कोई दूरंदेशी प्रस्ताव नहीं दे सके। भारतीय सेना ने एक बयान में कहा, बैठक में शेष क्षेत्रों के मुद्दे का समाधान नहीं हुआ। सीमा विवाद के बाद से अब तक भारत-चीन कोर कमांडर स्तर की 13 दौर की बैठक हो चुकी है।